चूना का आमतौर पर पान के साथ इस्तेमाल किया जाता है। उन कई शहरों में, जहां पानी में कैल्शियम की कमी है, लोग चूना खाकर इसक पूर्ति करते हैं। भोपाल ऐसे शहरों में से एक है। चूना खाने के कई लाभ हैं। यह कई शारीरिक और मानसिक विकारों को दूर करता है। चूना हड्डियों संबंधी विकारों में काफी लाभ देता है। आइए जानते हैं चूने के लाभ, जो आप शायद न जानते हों।

हड्डियों की समस्या का निवारण

हमारे दांत और हड्डियां मूलतः कैल्शियम से बने हुए हैं और इनमें कैल्शियम की कमी, चूने के माध्यम से पूरी हो सकती है। रीढ़ की हड्डी, कंधे, पैरदर्द आदि भी चूने के सेवन से ठीक हो सकते हैं। इसके लिए आप दाल, फल, दही या अन्य खाने वाले पदार्थों के साथ चूने का उपयोग कर सकते हैं।

रक्त की कमी को करता है पूरा

चूना खाना वयस्कों के अलावा बढ़ते बच्चों के लिए भी लाभदायक है। दाल या पानी के साथ चूने के पाउडर का इस्तेमाल करें। अनार के रस के साथ इसका मिश्रण बुद्धिबल बढ़ाता है और शरीर में अतिरिक्त उर्जा का संचार करता है। यह रक्त की कमी को भी पूरा करता है, इसलिए एनिमिक व्यक्ति भी इससे लाभ ले सकते हैं। एनिमिया से पीड़ित व्यक्ति को सुबह खाली पेट, अनार के जूस के साथ चूने के पाउडर का सेवन करना चाहिए। अनार के जूस की अनुपस्थिति में किसी भी रस या पानी से भी इसे खा सकते हैं।

बच्चों की बढ़ाए लंबाई

चूना बच्चों की लंबाई बढ़ाने में भी सहायक है। बच्चों को दही या दाल में गेहूं के आकार का चूना मिलाकर, उन्हें दें, जिससे उन्हें लाभ होगा। चूना बच्चों और वयस्कों के दांतों के लिए भी फायदेमंद है। युवा बच्चों की कील मुंहासों की समस्या में भी यह कारगर है। गेहूं के बराबर दाने वाले चूने को लेकर, इसमें छोड़ा सा शहद मिलाएं और इसे कील मुंहासों वाले स्थान पर लगा लें। लाभ होगा। चूने से आप मस्सा भी ठीक कर सकते हैं। पोटाश, कॉपर सल्फेट और सुहागा (सभी पाउडर) में चूना पाउडर मिलाकर, इसे मस्से वाले स्थान पर लगाएं। लगातार कुछ दिन ऐसा करें, मस्सा बहुत जल्दी गायब हो जाएगा।

पीलिया में फायदेमंद

चूना पीलिया की बीमारी में भी लाभ देता है। लीवर की कार्यप्रणाली खराब होने से पीलिया होता है। गन्ने के रस में चूना पाउडर मिलाएं और रोगी को पिलाएं। ऐसा नियमित कुछ दिन करें, रोगी जल्दी ठीक होगा। फोड़े-फुंसी के इलाज के लिए भी चूने का उपयोग करें। हल्दी पाउडर में एक चम्मच चूना मिलाकर, उसे गर्म कर लें और जब यह हल्का ठंडा हो जाए, तो इसे फोड़े वाले स्थान पर रख दें, जिसके उपर पान का पत्ता बांध लें। समस्या से निजात मिलेगी।

मा*सिक धर्म के दौरान लाभ

महिलाओं को मा*हवारी के दौरान कई तरह की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। चूने का सेवन उन्हें इन समस्याओं से मुक्त कर सकता है। साथ ही चूने का सेवन मे*नोपॉस, ग*र्भावस्था आदि के दौरान होने वाली शारीरिक समस्याओं का भी इलाज है। जब महिलाओं, 50 की उम्र पार करती हैं, तो उन्हें कैल्शियम कार्बोनेट की अधिक मात्रा की आवश्यकता होती है और चूने में यह भरपूर है। ग*र्भवती महिलाओं को भी अनार के रस के साथ चूने के पाउडर के सेवन की सलाह दी जाती है। यह न केवल महिला बल्कि होने वाले बच्चे को लिए भी लाभदायक होता है। होने वाले बच्चे का दिमाग तेज होता है, और डिलीवरी भी आराम से होती है। न केवल ग*र्भावस्था, बल्कि इसके बाद भी शिशु और मां, दोनों स्वस्थ रहते हैं।

सावधानियां

चूने का उपयोग, कभी भी गेहूं के दाने के बराबर ही करें, इससे अधिक नहीं। सुबह खाली पेट लेने से अधिक लाभ देता है, जिसे आप किसी भी जूस या फिर दही, पानी आदि के साथ ले सकते हैं। इसके अलावा यदि आपको पथरी है तो भी चूने का उपयोग न करें। यह ऐसे रोगियों के लिए हानिकारक है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous article2 लड्डू खा लो वात रोग, जोड़ों मे दर्द, चलने मे सीढ़िया चढ़ने मे परेशानी | कमजोरी थकान का इलाज Joint
Next articleछाती की जकड़न को दूर करने के लिए करें यह सरल उपचार

Leave a Reply