भारतीय थाली में दाल सबसे प्रमुख आहार माना जाता है। दाल, चावल, रोटी और सब्जी में सभी तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। दाल में प्रोटीन की प्रचुरता होती है, जो स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। इसके सेवन से आपका पेट काफी जल्दी भर जाता है। लेकिन कुछ लोगों को दाल का सेवन करने से परेशानी होती है। इसकी वजह दाल खाने का समय सही ना होना होता है। अगर आप गलत समय पर दाल का सेवन करते हैं, तो कई तरह की परेशानी हो सकती है। आइए जानते हैं किस समय दाल खाने का क्या सही समय है?

आयुर्वेद में दाल खाने का क्या है नियम?

आयुर्वेद में भोजन के कुछ नियमों के बारे में बताया गया है। जिसे शरीर के प्रकृति दोष के आधार पर बनाया गया है। आप जो भी कुछ खाते हैं, उससे आपके शरीर की प्रकृति भी प्रभावित होती है। खाने का असर हमारे वात, कफ औप वित्त पर पड़ता है। गलत खानपान से ये सभी दोष बढ़ सकते हैं। हर एक खाने की तासीर अलग होती है, जब आप कुछ हैवी या फिर अनाज खाते हैं, तो इसे पचाने में वक्त लगता है, जो आपके डायजेस्टिव सिस्टम के लिए समस्या बन सकती है। रात के समय हमेशा हल्के आहार का सेवन करना चाहिए। इस समय हैवी आहार लेने से आपके पेट पर बुरा असर पड़ता है।

क्या रात के समय खाना चाहिए दाल?

आयुर्वेद एक्सपर्ट बताते हैं कि रात के समय हमेशा हल्के आहार का सेवन करना चाहिए। दाल का सेवन स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। लेकिन रात के समय दाल खाने से आपको अपच की शिकायत हो सकती है। रात में कभी भी अहरहर, तुअर, मटर जैसे दाल का सेवन ना करें। इससे पाचन क्रिया पर विपरीत असर पड़ता है।

इन चीजों का भी ना करें रात में सेवन

चीनी

वैसे तो चीनी का सेवन किसी भी समय करने से सेहत के लिए नुकसानदेय ही होता है। क्योंकि चीनी आपके इंसुलिन लेवल पर असर डाल सकता है। लेकिन रात के समय खासतौर पर शक्कर का सेवन ना करें। इससे आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है और नींद नहीं आती है। अगर आपको रात में कुछ मीठा खाने की आदत है, तो इस खराब आदत को तुरंत बदलें।

चावल

कई लोगों के मन में चावल को लेकर भी सवाल होते हैं कि रात में इसका सेवन करें या नहीं? एक्सपर्ट के मुताबिक, रात में चावल का सेवन करना चाहिए। लेकिन कम मात्रा में। चावल एक ऐसा आहार है, जो आसानी से पच जाता है। लेकिन दाल के साथ इसका सेवन ना करें।

दही

दही खाने का सबसे उचित समय दोपहर माना गया है। लेकिन रात में इसका सेवन ना करें। इससे सर्दी-जुकाम की समस्या बढ़ सकती है। इसके साथ ही दही में नमक डालकर इसका सेवन करने से बचें।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleफैटी लिवर की समस्या में बहुत फायदेमंद है इन 5 जूस का सेवन
Next articleफेफड़ों में बलगम बढ़ाते हैं ये आहार, जानें क्यों जरूरी है बलगम का कम होना और कैसे निकालें इसे बाहर

Leave a Reply