ghee ke fayde

घी स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी हाेता है (Ghee Benefits for Health)। अच्छी सेहत या स्वास्थ्य के लिए हम अकसर घी का उपयाेग करते हैं। इसका इस्तेमाल खाना बनाने या खाने में डालने के लिए किया जाता है। घी से स्वास्थ्य काे अनगिनत लाभ मिलते हैं। इसे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दाेनाें के लिए अच्छा माना जाता है। हम अकसर गाय या भैंस का घी खाते हैं, लेकिन क्या आप इन दाेनाें के बीच के अंतर काे जानते हैं। इस लेख में हम आपकाे गाय और भैंस के घी के बीच अंतर काे समझाएंगे। साथ ही इन दाेनाें में से कौन-सा बेहतर हाेता है, इसे भी जानें।

न्यूट्रीशनिस्ट हिमांशु राय बताते हैं कि भारत में घी को हमेशा खाना पकाने के लिए एक बेहतर विकल्प माना जाता है। इसका इस्तेमाल दवा के रूप में भी किया जाता है। आमतौर पर गाय का घी और भैंस का घी दोनों ही अच्छे होते हैं, लेकिन गाय के घी के सेवन से सेहत काे अधिक और बेहतर मिलते हैं। गाय के घी में विटामिन ए, विटामिन डी और के, कैल्शियम, मिनरल्स, पाेटैशियम और फॉस्फाेरस जैसे कई पाेषक तत्वाें के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट भी पाया जाता है। इतना ही नहीं गाय के घी में ओमेगा 9 फैटी एसिड भी हाेता है।

भैंस और गाय के घी में अंतर

Difference Between Buffalo ghee or cow ghee

1. भैंस के घी में गाय के घी की तुलना में अधिक वसा यानी फैट होता है। इसलिए भैंस का घी वजन बढ़ाने के लिए बेहतर होता है, जबकि गाय के घी में वसा की मात्रा कम होने के कारण वजन घटाने के लिए उपयाेगी होता है।

2. वसा या फैट की मात्रा अधिक होने के कारण भैंस के घी की शेल्फ लाइफ अधिक हाेती है। जबकि गाय के घी की शेल्फ लाइफ भैंस के घी की तुलना में कम हाेती है।

3. गाय के घी में विटामिन ए की अधिकता हाेती है, जिसके काऱण इसका रंग पीला हाेता है। जबकि भैंस का घी सफेद रंग का हाेता है।

4. आयुर्वेदिक औषधियों में भैंस के घी की तुलना में गाय के घी को आंखों की रोशनी के लिए लाभकारी माना गया है।

5. गाय के घी का स्वाद भैंस के घी की तुलना में ज्यादा अच्छा हाेता है।

6. इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ जैसे जीवाणुरोधी यानी एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण आयुर्वेदिक दवाओं में गाय के घी का उपयाेग किया जाता है।

7. भैंस के घी और गाय के घी काे सीमित मात्रा में ही खाना चाहिए। अधिक मात्रा में घी के सेवन से हृदय राेग हाेने की संभावना बढ़ जाती है।

गाय के घी के फायदे

Health Benefits of Cow Ghee

1. न्यूट्रीशनिस्ट हिमांशु राय बताते हैं कि गाय के घी में सीएलए यानी सन्युग्म लिनोलिक ऐसिड (Conjugated Linoleic Acid) हाेता है, जाे वजन कम करने में सहायक हाेता है।

2. गाय के घी में फैट की मात्रा भी बहुत कम हाेती है, जिससे सेवन से वजन कंट्राेल में रहता है।

3. गाय का घी आंखाें के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है। आंखाें की राेशनी बढ़ाने के लिए गाय का घी उपयाेगी हाेता है।

4. आयुर्वेद के अनुसार पित्त दाेष काे शांत करने के लिए गाय का घी बेहद फायदेमंद हाेता है। यह पेट की गर्मी काे शांत करने का एक अच्छा उपाय है।

5. गाय के घी में अच्छी मात्रा में विटामिंस और एंटी ऑक्सीडेंट तत्व हाेते हैं, जाे शरीर की राेग प्रतिराेधक क्षमता काे बढ़ाते हैं।

6. माइग्रेन या सिरदर्द की समस्या से राहत पाने के लिए गाय के घी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

7. गाय का घी शरीर से विषैले तत्वाें काे बाहर निकालने में मदद करता है।

भैंस के घी के फायदे

Buffalo Ghee Health Benefits

1. अगर आप शारीरिक रूप से कमजाेर है और अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं, ताे भैंस का घी आपके लिए फायदेमंद हाे सकता है। इसमें फैट काफी अच्छी मात्रा में हाेता है, जाे वजन बढ़ाने में सहायक हाेता है। इसके सेवन से हड्डियां और मसल्स मजबूत बनती हैं।

2. भैंस का घी मानसिक राेगाें काे दूर करने में फायदेमंद हाेता है। इसके सेवन से याद्दाश्त में वृद्धि हाेती है।

3. भैंस का घी शरीर से वात के प्रभाव काे भी कम करता है। यह वात दाेष काे संतुलित करने में मदद करता है।

4. पाचन संबंधी विकाराें काे दूर करने के लिए इसका उपयाेगा किया जा सकता है।

5. खांसी की समस्या हाेने पर भैंस के घी का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है।

आप भी भैंस और गाय के घी के बीच के अंतर काे जानकर अपने लिए सही घी का चुनाव कर सकते हैं। इन दाेनाें के ही अपने अलग-अलग फायदे हाेते हैं।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleप्याज का रायता खाने से सेहत को मिलते हैं कई लाभ, जानें इसे बनाने का तरीका
Next articleखाना खाने के बाद चाय पीनी चाहिए या नहीं? जानें खाने के बाद चाय पीने के नुकसान

Leave a Reply