congestion

सीने में जकड़नी की वजह से काफी परेशानी झेलनी पड़ती है। लगातार छाती की जकड़न से बैचेनी का अनुभव होता है, जिसकी वजह से रात में हमारी नींद भी खराब होती है। सीने में जकड़न की समस्या किसी भी वर्ग के लोगों को हो सकती है। छोटे बच्चों से लेकर बड़े-बुजुर्ग में यह समस्या देखने को मिल रही है। खासतौर पर बदलते मौसम के कारण छाती में जकड़न का एहसास काफी ज्यादा होता है। अगर आपको भी छाती में जकड़न जैसा एहसास हो रहा है, तो कुछ घरेलू उपायों से आप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं। चलिए जानते हैं उन घरेलू उपायों के बारे में –

1. भाप लें 

बंद नाक और श्वसन तंत्र को खोलने में भाप लेना एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। भाप लेने से हमारी छाती में मौजूद बलगम पिघल जाता है, जिससे जकड़न की परेशानी से काफी राहत मिल सकता है। एक्सपर्ट के मुताबिक, अगर आप 42 से 45 डिग्री तापमान पर गर्म पानी से करीब 20 मिनट भाप लेते हैं, तो इससे श्वसन मार्ग का रास्ता खुलता है। ऐसे में छाती में होने वाली जकड़न की परेशानी दूर की जा सकती है।

2. नमक के पानी से करें गरारा

छाती में जकड़न को दूर करने के लिए नमक के पानी से गरारा करें। इससे गला भी साफ होगा, साथ ही छाती की जकड़न भी दूर होगी। गर्म पानी से गरारा करने से श्वसन मार्ग में फुर्ती आती है, जिससे आपके शरीर में मौजूद सारे बलगम बाहर निकल आएंगे।

3. गर्म पेय पदार्थों का करें सेवन

छाती में होने वाली जकड़न को दूर करने के लिए आप गर्म पेय पदार्थों का सेवन करें। इससे आपके सीने में मौजूद बलगम पिघलेगा। गर्म पेय पदार्थों के सेवन से फेफड़ों में वायु का प्रवाह बेहतर होता है। इससे सर्दी, जुकाम, गले की खराश और थकान जैसी समस्या भी दूर होती है। गर्म पेय पदार्थ में आप ग्रीन टी, सूप, हर्बल टी, सादा गर्म पानी जैसे पेय पदार्थों का सेवन कर सकते हैं।

4. सीने के आसपास मलें गर्म तेल

छाती में दबाव या फिर जकड़न महसूस होने पर गर्म तेल से सीने के आसपास मलें। ऐसा करने से बलगम पिघलता है और जकड़न की परेशानी दूर हो सकती है। छाती पर मालिश करने के लिए आप कपूर का तेल, सरसों तेल और बादाम के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। तेल का इस्तेमाल करने से पहले इसे गर्म जरूर करें।

5. घर में मौजूद मसालों के करें सेवन

घर में मौजूद मसाले जैसे- लहसुन, अदरक, काली मिर्च, दालचीनी का इस्तेमाल आयुर्वेदिक औषधीय को तैयार करने के लिए किया जाता है। इसमें मौजू एंटी-ऑक्सीडेंट आपके शरीर में संक्रमण से लड़ने की क्षमता को बढ़ता है। विटामिन सी सर्दी, जुकाम और छाती के जकड़न को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। अदरक और लहसुन से तैयार हर्बल टी के सेवन से आप छाती की जकड़न को दूर कर सकते हैं।

ध्यान रखें कि घरेलू उपाय सिर्फ आपकी समस्या को कम कर सकते हैं। लेकिन इससे आपकी समस्या जड़ से खत्म नहीं हो सकती है। इसलिए अगर घरेलू उपाय अपनाने पर आपकी परेशानी कम न हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। सांस फूलने, सांस में सीटी जैसी आवाज, खाने-पीने में दिक्कत जैसी समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना ही आपके लिए बेहतर हो सकता है। ताकि किसी गंभीर समस्या से बचा जा सके।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous article1 ग्राम रोजाना 99% ठीक,घुटनो का दर्द Joint pain Arthritis/jodo me dard, Chune ke Fayde | Calcium
Next articleसबसे कम समान और आसान तरीके से 15मिनट में हलवांई जैसी बेसन की बर्फी Besan ki Barfi Recipe

Leave a Reply