bath

ज्यादातर लोग नमक को सिर्फ खाने में ही प्रयोग करते हैं। लेकिन अगर थोड़ा-सा नमक पानी में मिलाकर इससे नहाया जाए तो शरीर को कई तरह के फायदे हो सकते हैं। इसमें मौजूद मैग्नीशियम, कैल्शियम, सोडियम जैसे मिनरल्स शरीर को इंफेक्शंस से बचाते हैं। नमक के पानी में मौजूद तत्व फंगल इंफेक्शन बढ़ने से रोकते हैं। रोज इससे नहाने पर डैंड्रफ में काफी आराम मिलता है। एक नजर इसके फायदों पर

रखे स्किन को साफ 

नमक में कई मिनरल और न्यूट्रिएंट्स होते हैं, जो आपकी स्किनके लिए फायदेमंद हैं। इसमें निहित मैग्नीशियम, कैल्शियम, ब्राोमाइड, सोडियम आदि स्किन के रोम छिद्रों में प्रवेश करके स्किन को साफ करके इसे शाइनी बनाते हैं।

स्किन में नमी

नमक वाले पानी से नियमित स्नान स्किन को साफ करके नरम और कोमल भी बनाता है। नमक में निहित मैग्नीशियम स्किन में पानी को देर तक बनाए रखता है। इससे स्किन में नमी का संतुलन बना रहता है और स्किन में कसावट भी आती है।

खुजली से दूरी

मौसम ठंडा हो या गरम, शरीर पर कई बार खुजली हो ही जाती है। यह खुजली शरीर पर लाल चकत्ते जैसे निशान का कारण भी बनती है। ऐसी स्थिति में नमक वाले पानी में नहाने से खुजली दूर हो जाती है।

एसिडिटी करे दूर

आज हर दूसरा व्यक्ति एसिडिटी से परेशान है। इसे दूरी पाने के लिए लोग कई तरह की दवाइयों का सेवन तक करते हैं। जबकि इसका प्राकृतिक इलाज नमक वाले पानी के स्नान में छिपा है। अपनी क्षारीय प्रवृत्ति के कारण नमक का पानी अम्ल की मात्रा को कम करने में सहायक साबित हुआ है।

बढ़ाए डिटॉक्सिफिकेशन

नमक के पानी से नहाने से शरीर में व्याप्त जहरीले तत्व और कीटाणु बाहर निकल जाते हैं। चूंकि नमक को गुनगुने या गरम पानी में डालकर नहाने की सलाह दी जाती है तो नमक युक्त गरम पानी स्किन के रोम छिद्रों को खोलकर अच्छी तरह से सफाई करता है। यह सफाई स्किन को युवा और चमकदार बनाने के लिए पर्याप्त है।

सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य

नमक युक्त पानी का स्नान केवल शरीर के लिए ही नहीं, मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बढ़िया है। इस पानी से नहाने के बाद आपको शांति और रिलैक्सेशन महसूस होगा। इसलिए नमक युक्त पानी से स्नान को तनाव दूर करने वाला भी बताया गया है। एप्सम और समुद्री नमक से स्नान के कई रिलैक्सेशन थेरेप्यूटिक लाभ हैं।

एक्ने- पिंपल्स का खात्मा

आप अपने स्किन पर आए एक्ने और पिंपल्स को लेकर परेशान हैं। आखिरकार ये आपकी खूबसूरती को कम जो करते हैं। इसे ठीक करने के लिए आप चाहें तो नमक युक्त पानी में स्नान करें। या फिर चाहें तो एक कप पानी में एक चम्मच समुद्री नमक डालकर रुई की मदद से चेहरे के प्रभावित हिस्से पर लगाएं। लेकिन साथ ही अपनी डाइट पर भी ध्यान रखना जरूरी है।

बढ़ाए एनर्जी

जब हमारे शरीर को जरूरी मिनरल्स नहीं मिलते हैं तो थकान आनी शुरू हो जाती है। हमारे तनाव के प्रबंधन में मैग्नीशियम का बड़ी भूमिका रहती है। लेकिन दुखद यह है कि करीब 57 फीसद वयस्क अपनी जरूरत के लायक मैग्नीशियम इनटेक नहीं लेते हैं। यह डेफिशियंसी कम एनर्जी का कारण बनता है। ऐसे में पानी में नमक डालकर नहाने के फायदे का लाभ उठाएं। यह आपके शरीर के सेल्स में एनर्जी रीस्टोर करता है और आप रीवाइटेलाइज्ड महसूस करते हैं।

हड्डियों के दर्द में आराम 

जिस तरह नमक युक्त पानी का स्नान मांसपेशियों से दर्द को गायब करता है, ठीक उसी तरह से यह हड्डियों के दर्द में भी लाभ पहुंचाता है। ऑस्टियाआर्थराइटिस और टेंडीनिटिस जैसे जोड़ों के दर्द में नमक पानी का स्नान जादू की तरह काम करता है। लोअर बैक पेन से राहत दिलाने में गुनगुने नमक वाले पानी से स्नान को बेहद प्रभावशाली माना जाता है।

बुखार से राहत

आपको यह जानकर जरूर आश्चर्य होगा लेकिन सच तो यह है बुखार और सदी- खांसी में नमक वाले गुनगुने पानी का स्नान बहुत राहत पहुंचाता है। तेज बुखार की स्थिति में गुनगुने पानी में दो चम्मच नमक और एक- दो चम्मच नारियल तेल डालकर नहा लें। इससे बुखार भी उतरेगा और सदी- खांसी से भी राहत मिलेगी। चाहें तो इस पानी में यूकेलिप्टस ऑयल मिला सकती हैं, जो रिस्पिरेटरी सिस्टम को खोलने में बेहतरीन तरीके से काम करता है।

बढ़ाए इम्यूनिटी 

नियमित तौर पर नमक युक्त पानी से नहाने से हम खुद को उन मिनरल्स के लिए एक्सपोज करते हैं, जो हमें बीमारी से दूर रखने में मदद करते हैं। शारीरिक गतिविधि की तरह ही नमक वाला पानी एंटी- इंफ्लेमेटरी होता है, जो हमारे शरीर को ताकत प्रदान करता है कि वह बीमारियों को दूर रखे। नमक वाले पानी में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण खतरनाक माइक्रोब्स को भी दूर करते हैं।

अनिद्रा का इलाज 

नमक युक्त पानी से नहाने से शरीर को आराम मिलता है, दर्द दूर होता है और थकान एवं तनाव भी दूर भाग जाता है। इसके बाद शरीर के साथ दिमाग को भी शांति का अहसास होता है और नींद अच्छी आती है। जब आप नमक वाले गुनगुने पानी से नहाते हैं तो शरीर का तापमान बदलता है, जो अच्छी नींद लाने में सहायक है। साथ ही नमक और पानी का सही संतुलन रात में पेशाब जाने की क्षमता को कम करता है, जिससे भी नींद टूटती नहीं है। यदि इस पानी में आप लैवेंडर या कैमोमाइल ऑयल मिला दें तो बेहतर नींद आने से कोई नहीं रोक सकता।

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन के लिए फायदेमंद 

यदि आपकी मांसपेशियों में अकसर दर्द और ऐंठन रहती है तो आप आज से ही नमक वाले पानी में नहाना शुरू कर दें। इससे मांसपेशियां मुलायम होने के साथ ही रिलैक्स भी होती हैं। साथ ही नमक के पानी से नहाने से शरीर की बदबू भी दूर होती है। किसी सर्जरी या चोट के बाद भी नमक युक्त पानी का स्नान शरीर को तेजी से ठीक होने में मदद करता है। गुनगुने पानी में मैग्नीशियम युक्त नमक मिलाकर नहाने से मसल स्पैस्म्स और पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से भी काफी राहत मिलती है। दिन भर की थकान के बाद होने वाले शारीरिक दर्द से भी यह छुटकारा दिलाता है।

झुर्रियां करे दूर

नमक वाले पानी में व्याप्त मिनरल्स इतने गुणवान हैं कि ये स्किन पर आने वाली झुर्रियों को रोकने में सहायक है। यही नहीं स्किन के दाग- धब्बे भी धीरे- धीरे कम होते जाते हैं।

 

Leave a Reply