joint pain c

घुटने या जोड़ों का दर्द सर्दी में होने वाली स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याओं में से एक है। जानते हैं –

घुटने के दर्द से राहत पाने के लिए कुछ घरेलू व प्राकृतिक तरीके

■  भोजन में दालचीनी, जीरा, अदरक व हल्दी का उपयोग ज्यादा करें। गर्म तासीर वाली चीजों से घुटनों की सूजन और दर्द कम होता है।

■  मेथीदाना, सौंठ और हल्दी बराबर मात्रा में मिलाकर तवे या कढ़ाई में भूनकर पीस लें। रोजाना एक चम्मच चूर्ण सुबह-शाम भोजन करने के बाद गर्म पानी के साथ लें। दर्द में आराम मिलेगा।

■  रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच मेथी के पिसे दानों में एक ग्राम कलौंजी मिलाकर गुनगुने पानी के साथ लें। दोपहर-रात में खाना खाने के बाद आधा-आधा चम्मच लेने से जोड़ मजबूत होंगे और किसी प्रकार का दर्द नहीं होगा। सुबह खाली पेट लहसुन की एक कली दही के साथ लें।

■  हल्दी, गुड़, मेथीदाना पाउडर व पानी सामान मात्रा में मिलाएं। थोड़ा गर्म कर लेप के रूप में रात को घुटनों पर लगाकर पट्टी बांध लें।

इन बातों पर ध्यान दें

अगर आप घुटने के दर्द से बचना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान जरूर रखें :

-लंच या डिनर से पहले तीन-चार गिलास पानी पीएं। फिर ढेर सारा सलाद खाने के बाद मेन कोर्स शुरू करें। पहले से ही आपका पेट भरा हुआ महसूस होगा और आप ओवरईटिंग से बचे रहेंगे। अपनी डाइट में फलों और सब्जियों को प्रमुखता से शामिल करें।

-एनिमल फैट और उससे बनी चीजें जैसे घी, मक्खन, चीज आदि से दूर रहने की कोशिश करें। इस फैट की वजह से घुटनों की झिल्ली में सूजन, जकडऩ व दर्द पैदा हो सकता है। बेहतर यही होगा कि कुकिंग के लिए किसी वेजटेबल ऑयल का इस्तेमाल किया जाए।

-अपने भोजन में अंकुरित अनाज और फायबरयुक्त चीजों, जैसे- दलिया, सूजी और ओट्स आदि को प्रमुखता से शामिल करें।

-हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन पर्याप्त मात्रा में करें। अपने भोजन में सोयाबीन को प्रमुखता से शामिल करें। इसमें प्राकृतिक एस्ट्रोजन होता है। इससे जोडों की सूजन भी कम होती है।

-आटे में गेहूं के साथ सोयाबीन या चना मिलवाएं। इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में फाइबर मिलता है, जो मांसपेशियों के लिए भी फायदेमंद होता है।

– ज्य़ादा घी-तेल का इस्तेमाल रोकने के लिए नॉनस्टिक बर्तन का इस्तेमाल करें।

-किसी भी नशीले पदार्थ का सेवन न करें।

-मेवों का सेवन कम करें क्योंकि इनमें मौजूद अतिरिक्त कैलरी वजन बढा सकती है।

-चावल व आलू जैसी स्टार्चयुक्त चीजों का सेवन सीमित मात्रा में करें। तली-भुनी और मीठी चीजें न खाएं।

-आर्थाराइटिस के मरीजों को अनावश्यक रूप से खडे होने व चलने से बचना चाहिए। घुटनों को जहां तक संभव हो 90 डिग्री के एंगल से ज्य़ादा न मोंडें। पालथी मारकर या उकडूं बैठने से बचें। डेढ फुट से ऊंचे स्टूल पर बैठकर ही स्नान करें। खाना भी ऊंची कुर्सी पर बैठकर ही बनाएं। सीढियां चढते-उतरते समय साइड रेलिंग का सहारा लें। घुटने पर नी कैप पहनना दर्द से राहत दिलाता है। कुछ मरीजों को नी ब्रेस पहनने की सलाह भी दी जाती है। आरामदेह फुटवेयर का चुनाव करें। रोजाना सात-आठ घंटे की नींद जरूर लें। इससे कार्टिलेज की मरम्मत में मदद मिलती है।

Leave a Reply