हृदय की धड़कन का बढ़ना हृदय रोगों की तरफ इशारा करता है, अगर आपके या आपके स्नेही जन की हृदय की धड़कन बढती हो तो आप नियमित अपने भोजन में ये चीजें ज़रूर शामिल करें. इस से हृदय की धड़कन सामान्य होने में बहुत मदद मिलेगी. आइये जानते हैं.

अनार के पत्तों का घोल

अनार के ताज़े 50 पत्ते पीसकर आधा कप पानी में घोला कर छान लें. इस तरह तैयार किया हुआ अनार के पत्तों का घोल सुबह शाम पीने से हृदय की धड़कन में लाभ होता है.

प्याज

जिनके हृदय की धड़कन बढ़ गयी हो, हृदय रोगों से बचना चाहते हैं, वे एक कच्चा प्याज नित्य खाना खाते सामान्य खाएं. इस से धड़कन सामान्य होगी. प्याज का रस उचित मात्रा में लेना रक्तप्रवाह में सहायक है और दिल को कई बिमारियों से सुरक्षित रखता है.

धनिया

हृदय की धड़कन यदि अधिक मालूम हो तो सूखा धनिया और मिश्री सामान मात्रा में मिलाकर नित्य एक चम्मच ठन्डे पानी से लें. बहुत फायदा होगा.

अंगूर

रोगी यदि अंगूर खाकर ही रहे तो हृदय रोग शांत हो कर शीघ्र ठीक हो जाते हैं. जब हृदय दर्द हो, धड़कन अधिक हो तो अंगूर का रस पीने से दर्द बंद हो जाता है तथा धड़कन सामान्य हो जाती है. थोड़ी देर में ही रोगी को आराम आ जाता है तथा रोग की आपात स्थिति दूर हो जाती है.

गाजर

हृदय की धड़कन बढ़ना तथा रक्त गाढ़ा होने की बीमारी में गाजर लाभ करती है.

पिस्ता

पिस्ता हृदय की धड़कन कम करता है, रात को पांच पिस्ता पानी में भिगो दें. प्रातः पानी फेंक दें. केवल पिस्ता खाएं ऊपर से दो घूँट पानी पियें.

दूध

धारोषण अर्थात ताज़ा निकला हुआ बिना गर्म किया हुआ, धारोषण दूध एक गिलास में स्वादनुसार मिश्री या शहद, दस रात्रि में भीगी हुई किशमिश सुबह निकाल कर उसी भिगोये हुए पानी में पीसकर दूध में मिला कर नित्य 40 दिन तक पियें. हृदय कि धड़कन कम होगी, शरीर में शक्ति आएगी.

Loading...

Leave a Reply