ब्लड प्रेशर की समस्या का घरेलु इलाज और नुस्खा इन हिंदी

शहरी जीवनशैली में ही नहीं बल्कि गांव-देहात में भी हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) बहुत बड़ी स्वास्थ्य समस्या बन गई है. बारत में करोड़ों लोग इसकी चपेट में हैं और यह प्राणघातक भी हो सकता है. हाई ब्लड प्रेशर को ‘साइलेंट किलर’ भी कहते हैं क्योंकि ज्यादातर लोगों को यह पता नहीं होता कि वे इसकी गिरफ्त में हैं क्योंकि इसके लक्षण स्पष्ट नहीं होते।

पहले लोग मानते थे कि ब्लड प्रेशर की समस्या प्रौढ़ावस्था में होता है लेकिन अब छोटे बच्चों में भी ब्लड प्रेशर देखने में आ रहा है. ब्लड प्रेशर किसी को भी हो सकता है और एक बार दवा शुरु हो जाने उसे बंद करना सरल नहीं होता इसलिए High Blood Pressure की समस्या से बचाव में ही समझदारी है।

👉 इसे भी पढ़ें : साल में अगर एक महीना सुबह ये उपाय कर लिया तो जीवन में कभी नहीं होगी हार्ट अटैक से मृत्यु

ब्लड प्रेशर क्या होता है ?

हमारी रक्त वाहिनियों (धमनियों तथा शिराओं) पर पड़नेवाले खून के दबाव को ब्लड प्रेशर कहते हैं. डॉक्टर इसे मापने के लिए एक मशीन का इस्तेमाल करते हैं जिसे स्फिग्नोमैनोमीटर कहते हैं. रबर के ब्लैडर को दबाने पर पट्टा बांह में कसता है और प्रेशर रिलीज करने पर जब डॉक्टर या जांच करनेवाले को आले में टिकटिक की आवाज़ सुनाई देती है तो पारे के गिरते लेवल से दो आँकड़े मिलते हैं।

आइये जानें low blood pressure ka desi ilaj in hindi, high blood pressure ke lakshan, high blood pressure ko kaise control kiya jaye, high bp ke karan, bp kam karne ka yoga, high pressure ke upay hindi me, high bp mein kya nahi khana chahiye, normal bp kitna hona chahiye।

हाई ब्लड प्रेशर कम करने का तरीका

(Normal Blood pressure) आदर्श ब्लड प्रेशर 120/80 माना जाता है. इसमें पहली संख्या को सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर कहा जाता है क्योंकि यह हृदय के धड़कने (सिस्टोल) के समय के ब्लड प्रेशर को दिखाता है. दूसरी संख्या को डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर कहते हैं क्योंकि हृदय के तनाव-मुक्त रहने के समय के ब्लड प्रेशर की सूचना देता है. ब्लड प्रेशर को पारे के स्तंभ में मिलीमीटर में मापा जाता है. ब्लड प्रेशर के 140/90 से ज़्यादा होने पर उसे हाईपरटेंशन (Hypertension) की अवस्था मानते हैं. इसे ही हम ब्लड प्रेशर कहते हैं।

👉 इसे भी पढ़ें : हकलाना और ब्लड प्रेशर की अद्भुत दवा है ये, एक बार इस्तेमाल करे और फिर देखे कमाल 

रक्तचाप बढ़ने के कारण

– रक्तचाप बढ़ने के कई कारण हैं. आनुवांशिकता, नमक, मोटापा, तनाव, गर्भावस्था, धूम्रपान, शराब, किडनी के रोग, डायबिटीज (Diabetes), जंकफूड, गर्भनिरोधक गोलियों (contraceptive pills), आधुनिक व आरामतलब जीवनशैली, हार्मोनल गड़बड़ियां आदि ब्लड प्रेशर को बढ़ा सकती हैं. भोजन में अधिक मात्रा में नमक लेने से कुछ लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

– रक्त वाहिनियों में कोलेस्ट्रॉल जमा होने से धमनियाँ संकरी हो जाती हैं और ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है. मोटे लोगों को भी हाई ब्लड प्रेशर होने का खतरा रहता है. धूम्रपान करनेवालों को भी इसका रिस्क होता है. अधिक मात्रा में चाय, कॉफी पीने तथा सोडा ड्रिंक्स में मिले कैफीन से भी ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है. बहुत अधिक तनावग्रस्त रहने से भी ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

उच्च रक्तचाप सामान्य रखने के लिए क्या करें?

– नमक का सेवन कम कर दें. दिन भर में एक छोटा चम्मच या लगभग पांच ग्राम नमक का सेवन पर्याप्त है. थाली में अलग से नमक लेकर न बैठें. साधारण नमक की जगह लो-सोडियम सॉल्ट (Low sodium salt) का उपयोग करें. सप्ताह में एक बार बिना नमक का भोजन करने की आदत डालें. थाली में नमक के व्यंजनों की संख्या में कटौती करें।

👉 इसे भी पढ़ें : सिर्फ 5 मिनट में करे अनचाहे बालों का सफाया, वो भी हमेशा के लिए

हाई ब्लड प्रेशर कारण

– यदि दाल और सब्जी के साथ खाना खा रहे हों तो पापड़, अचार, चटनी, नमकीन सलाद, रायते का सेवन न करें. इनमें से हर व्यंजन में नमक डला होता है और नमक की छोटी-छोटी मात्रा मिलकर अधिक हो जाती है.

– पैकेज्ड, कैन्ड, फ्रोज़न फूड नमक अधिक और प्रिजर्वेटिव होने के कारण इनका सेवन भी कम से कम करें. बेकिंग पाउडर व अजीनोमोटो वाले प्रोडक्ट्स, बिस्कुट, बेकरी आइटम्स, नमकीन, चिप्स, रेड मीट (Red meat) आदि में भी नमक और सैचुरेटेड फैट्स (Saturated fats) होते हैं. इनसे भी परहेज करें।

हाई ब्लड प्रेशर कैसे कम करें

– वज़न कम कीजिए, तनाव कम करें, पर्याप्त नींद लीजिए, ऐसा भोजन लें जिसमें पोटैशियमयुक्त, कैल्शियम और मैग्नीशियम अधिक हो, शराब बहुत संतुलित मात्रा में पिएं, भरपूर व्यायाम व योग आदि करें, रेशेदार भोजन व फल ज़्यादा लीजिए.

धूम्रपान पूरी तरह छोड़ दीजिए, कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाते रहें, मधुमेह को काबू में रखिए तथा अपनी किडनी की देखभाल करें. बहुत सी दवाओं के सेवन से भी High blood pressure हो सकता है इसलिए अपने डॉक्टर से परामर्श लेकर ही दवाएं लें।

👉 इसे भी पढ़ें : कम दौड़ने पर ही अगर फूल जाती है सांसे… जरूर देखें

हाई ब्लड प्रेशर और लो हाई ब्लड प्रेशर से छुटकारा पाने का चमत्कारी उपाय

High Blood Pressure And Low Blood Pressure Home Remedies In Hindi

हाई ब्लड प्रेशर : हाई ब्लड प्रेशर एक बहुत गंभीर बिमारी है. इसके लिए सबको तो 3 प्रणायाम करने हैं. हस्तरेखा 5 मिनट, कपालभाति आधे घंटे, अलोम-विलोम आधे घंटे ये सभी रोज करने हैं. इसके लिए एक आयुर्वेद की बहुत सस्ती और बहुत अच्छी दवा है, आलावा दालचीनी भी लेनी है जो अपने घर में मिल जाती है. सबसे पहले दालचीनी को धूप में सुखाकर पीस लेना है. जब उसका पाउडर बन जाएगा तो आधा चम्मच दालचीनी पाउडर गर्म पानी के साथ खाना है. रोज सुबह खाली पेट और अगर थोड़ा पैसा खर्च करने के लिए है तो थोड़ा शहद मिला लो, आधा चम्मच शहद और आधा चम्मच दालचीनी, शहद मिलाना जरूरी नहीं है लेकिन अगर मिलाओगे तो परिणाम अच्छा आएगा. नहीं तो बिना शहद के साथ खाओ बीपी तो ठीक होगा और दालचीनी खाओगे तो हाई बीपी ठीक होगा. हाई बीपी ठीक करने के लिए उसका मात्र आधा चम्मच डेढ़ दो महीने ले, बस 2 महीने से ज्यादा जरूरत नहीं पड़ती है. आधा चम्मच अगर रोज खाओगे तो डेढ़ सौ ग्राम दो महीने चल जाएगा।

लो ब्लड प्रेशर : एक दूसरी दवा है आयुर्वेद में उसका नाम है मेथी दाना, यह डायबिटीज भी ठीक करती है और हाई बीपी को भी ठीक करती है. एक गिलास गर्म पानी में मेथीदाना का आधा चम्मच भिगोकर इसको रातभर रखा रहने दो. सवेरे उठकर वह पानी पी लो हाई BP को डेढ़ से 2 महीने में ठीक कर देता है।

👉 इसे भी पढ़ें : चाहे 90% हार्ट ब्लॉकेज या लकवा ही क्यों ना हो,ये उपाय पुरे शरीर के सभी ब्लॉकेज को बाहर निकाल फेंकेगा

एक तीसरी दवा अपने घर में जो हाई बीपी के लिए बहुत अच्छी है. अर्जुन की छाल, अर्जुन का पेड़ होता है. ये सब जगह मिल जाता है. फरदीन या अर्जुन की छाल बाजार में आसानी से मिल जाती है. इसे पत्थर से पीस कर पाउडर बना ले और गरम पानी से ले और अगर आप कुछ पैसे खर्च कर सकते हो तो इसे शहद में मिला लें. यह भी हाई बीपी ठीक करता है. और यह जो अर्जुनछाल है, हाईबीपी तो ठीक करेगा ही यह ह्रदय बीमारी को भी ठीक कर देगा. ह्रदय में क्या है, जैसे आपको बलॉकेज है. डॉक्टर कहता है ऑपरेशन करवा लीजिए दो लाख खर्च होगा. आप ऑपरेशन बिल्कुल मत करवाइए आप बस अर्जुन की छाल खाओ ये आपको ठीक कर देगा, आयुर्वेद की ये चीज सबके घर में आसानी से मिल जाती है. आप लोकी का रस पीए एक कप हर दिन हर महीने. लौकी का रस एक कप निकालो उसमें थोड़ा धनिया पत्ता डालो, पुदीना पत्ता डालो, तुलसी पत्ता और काली मिर्च 5-6 पत्ता धनिया 5-6 पत्ता पुदीना 5-6 पत्ता तुलसी और तीन-चार काली मिर्च और यह सब एक कप लौकी के रस में मिलाकर पीयो बहुत है. लौकी के रस से हृदय की बीमारी बिल्कुल खत्म हो जाती हैं।

इससे और एक अच्छी दवा बताता हूं. आयुर्वेद की बिल्कुल मुफ्त की दवा है. बेल पत्थर या बेल के पत्ते. यह हाई बीपी को भी ठीक करते हैं. यह शुगर को भी ठीक करते हैं. डायबिटीज में बेलपत्थर के 5 पत्ते लो. पत्थर पर पीस कर उसकी चटनी बना लो, फिर उस चटनी को एक गिलास पानी में डालकर गरम कर लो, और इतना गर्म करना कि पानी आधा हो जाए और इसे पी लो. यह बहुत जल्दी हाई बीपी को ठीक करता है. राजीव भाई कहते है कि जो 20 साल से ब्लड प्रेशर की बीमारी से परेशान थे और रोज दिन में तीन तीन बार गोंलिया खाते थे. यह बेल पत्थर के पत्ते ने सबकी गोलियां बंद कराई सबकी दवा बंद कराई और डेढ़ से 2 महीने में सबका ब्लड प्रेशर ठीक कर दिया. आपको सब मिलाकर नहीं खाना है मरने की हालत हो जाएगी एक ही खाना है, चाहे वह दालचीनी है, चाहे वह मेथी का दाना, अर्जुन की छाल, बेल पत्थर के पत्ते का छाल या फिर लौकी का रस कोई भी और एक सबसे बढ़िया दवा बताता हूं. बिल्कुल मुफ्त की दवा है, बहुत अच्छी है, देसी गाय का ताजा मूत्र आधा कप, मूत्र सवेरे खाली पेट कोई भी पिएगा उसी का ब्लड प्रेशर ठीक हो जाएगा ये सबसे जरूरी चीज है।

👉 इसे भी पढ़ें : पेट की चर्बी देखते ही देखते हवा में गायब कर देगा ये रामबाण उपाय

दोस्तों blood pressure kya hai in hindi, blood pressure mein kya karna chahiye in hindi, blood pressure ka raambaan ilaj in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास blood pressure ka ilaj gharelu nuskhe tips aur dawa in hindi  के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

18 COMMENTS

  1. […] मिलने के कारण ये हृदय के सभी रोग मसलन, ब्लड प्रेशर, बैड कोलेस्ट्रॉल, हृदयाघात और स्ट्रोक […]

  2. […] में दी है, हमारी गलत आदतों या शुगर या ब्लड प्रेशर की दवाई या फिर Genetic कारणों से खराब हो […]

Leave a Reply