abnormal-heart-rate

हार्ट अटैक (Heart Attack), इस बीमारी का नाम सुनते ही हर कोई एक पल के लिए डर जाता है। ऐसा होना लाजिमी भी है क्योंकि ये एक जानलेवा बीमारी होती है और इसलिए इसे लेकर आपको काफी सावधानी (Heart Attack Precautions) बरतने की जरूरत होती है। आपको अपने खान-पान का भी खास ख्याल रखना पड़ता है।

जी हां, आपका खान पान (Food To Reduce Heart Attack Risk) भी हार्ट अटैक की कई बार वजह बनता है। लेकिन आप सही डाइट चुनकर इसके खतरे को कम भी कर सकते हैं। यहां जानिए ऐसी कौन-सी चीजें हैं, जो आप अपनी डाइट में शामिल करें और अपने दिल को हमेशा रखें स्वस्थ और इस बीमारी से रहें दूर।

दही

ऐसे समय में जब हार्टअटैक की समस्या आम सी हो गई है। एक दही आपको इस समस्या से दूर रहने में मदद कर सकती है। दही हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करती है। साथ ही कोलेस्ट्रॉल घटाने में भी मदद करती है।

सेब का सिरका

सेब का सिरका खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है और रक्तचाप पर काबू में रखता है। इससे आपके हृदय के स्वास्थ्य और कल्याण को बेहतर बनाने में मदद मिलती है।

अन्य चीजें जिनके सेवन से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है

1. टमाटर दिल के लिए काफी अच्छा होता है। इसमें मौजूद लाइक्रोपीन जोकि एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट होता है, वो आपके शरीर में खराब कोलेस्ट्रोल को कम करके हार्ट स्ट्रोक का खतरा घटाता है। इसके लिए नियमित रूप से टमाटर का जूस पिएं।

2. अलसी के बीज में अल्फा लिनोलिक और ओमेगा 3 फैटी एसिड मौजूद होता है। ये दोनों आपके दिल को स्वस्थ रखते हैं और साथ ही शरीर में खराब कोलेस्ट्रोल को बढ़ने से रोकते हैं। इससे आपको हार्ट अटैक का खतरा नहीं होता है। इसे आप हल्की आंच पर भूनकर अजवाइन और सौंफ के साथ खाएं या इसे पीसकर दाल के संग भी खा सकती हैं।

3. बादाम और अखरोट में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड के अलावा फाइबर हार्ट अटैक का खतरा काफी हद तक कम कर देता है। ये खून को जमने से भी रोकते हैं और ब्लड ब्लॉकेज की परेशानी से राहत दिलाते हैं। रोज अगर मुमकिन ना हो, तो कम से कम हफ्ते में तीन बार 5-6 बादाम या अखरोट खाएं।

4. राजमा में मौजूद फोलेट और एंटीऑक्सीडेंट आपके शरीर में कोलेस्ट्रोल को ज्यादा अब्जॉर्ब होने से रोकता है। इतना ही नहीं, ये खराब कोलेस्ट्रोल को भी बढ़ने से रोकता है। इन सबसे आपका दिल स्वस्थ रहता है और हार्ट अटैक का खतरा नहीं होता है। ध्यान रखें कि राजमा की सब्जी बनाते वक्त ज्यादा तेल-मसाले का इस्तेमाल ना करें।

5. लौकी का जूस पीने की सोचकर शायद एक पल के लिए आपकी भौंहे चढ़ जाए, लेकिन ये जूस आपके दिल को स्वस्थ रखने का रामबाण तरीका है। ये हार्ट ब्लॉकेज को खत्म करने के साथ ही खून में एसिडिटी को कंट्रोल करता है और इस जानलेवा बीमारी से बचाकर रखता है।

दस उपायों को अपनाकर हृदय की बीमारियों को रोका जा सकता है

1. अपने कोलेस्ट्रोल स्तर को 130 एमजी/ डीएल तक रखिए

कोलेस्ट्रोल के मुख्य स्रोत जीव उत्पाद हैं, जिनसे जितना अधिक हो, बचने की कोशिश करनी चाहिए। अगर आपके यकृत यानी लीवर में अतिरिक्त कोलेस्ट्रोल का निर्माण हो रहा हो तब आपको कोलेस्ट्रोल घटाने वाली दवाओं का सेवन करना पड़ सकता है।

2. अपना सारा भोजन बगैर तेल के बनाएं लेकिन मसाले का प्रयोग बंद नहीं करें

मसाले हमें भोजन का स्वाद देते हैं न कि तेल का। हमारे ‘जीरो ऑयल’ भोजन निर्माण विधि का प्रयोग करें और हजारों हजार जीरो ऑयल भोजन स्वाद के साथ समझौता किए बगैर तैयार करें। तेल ट्रिगलिराइड्स होते हैं और रक्त स्तर 130 एमजी/ डीएल के नीचे रखा जाना चाहिए।

3. अपने तनावों को लगभग 50 प्रतिशत तक कम करें

इससे आपको हृदय रोग को रोकने में मदद मिलेगी, क्योंकि मनोवैज्ञानिक तनाव हृदय की बीमारियों की मुख्य वजह है। इससे आपको बेहतर जीवन स्तर बनाए रखने में भी मदद मिलेगी।

4. हमेशा ही रक्त दबाव को 120/80 एमएमएचजी के आसपास रखें

बढ़ा हुआ रक्त दबाव विशेष रूप से 130/ 90 से ऊपर आपके ब्लोकेज (अवरोध) को दुगनी रफ्तार से बढ़ाएगा। तनाव में कमी, ध्यान, नमक में कमी तथा यहाँ तक कि हल्की दवाएँ लेकर भी रक्त दबाव को कम करना चाहिए।

5. अपने वजन को सामान्य रखें

आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 25 से नीचे रहना चाहिए। इसकी गणना आप अपने किलोग्राम वजन को मीटर में अपने कद के स्क्वेयर के साथ घटाकर कर सकते हैं। तेल नहीं खाकर एवं निम्न रेशे वाले अनाजों तथा उच्च किस्म के सलादों के सेवन द्वारा आप अपने वजन को नियंत्रित कर सकते हैं।

6.नियमित रूप से आधे घंटे तक टहलना जरूरी

टहलने की रफ्तार इतनी होनी चाहिए, जिससे सीने में दर्द नहीं हो और हाँफें भी नहीं। यह आपके अच्छे कोलेस्ट्रोल यानी एचडीएल कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है।

7. 15 मिनट तक ध्यान और हल्के योग व्यायाम रोज करें

यह आपके तनाव तथा रक्त दबाव को कम करेगा। आपको सक्रिय रखेगा और आपके हृदय रोग को नियंत्रित करने में मददगार साबित होगा।

8. भोजन में रेशे और एंटी ऑक्सीडेंट्स

भोजन में अधिक सलाद, सब्जियों तथा फलों का प्रयोग करें। ये आपके भोजन में रेशे और एंटी ऑक्सीडेंट्स के स्रोत हैं और एचडीएल या गुड कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

9. अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं तो शकर को नियंत्रित रखें

आपका फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए। व्यायाम, वजन में कमी, भोजन में अधिक रेशा लेकर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए मधुमेह को खतरनाक न बनने दें। अगर आवश्यक हो तो हल्की दवाओं के सेवन से फायदा पहुँच सकता है।

10. हार्ट अटैक से पूरी तरह बचाव

हार्ट अटैक से बचने का सबसे आसान संदेश है और हार्ट में अधिक रुकावटें न होने दें। यदि आप इन्हें घटा सकते हैं, तो हार्ट अटैक कभी नहीं होगा।

 

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleहड्डियों से कट-कट की आवाज आती है? इस दर्दनाक रोग का है संकेत, तुरंत खाना शुरू कर दें ये 4 चीजें
Loading...

Leave a Reply