हरसिंगार के फायदे इन हिंदी

इसका पत्ता बीस साल पुराना गठिया ठीक करता है, घुटनों की चिकनाई वापिस लाता है, साइटिका की बंद रक्त की नाड़ियों को खोल देता है, गंजो के सिर से जड़ो से नये बाल फूटने लगते

हरसिंगार के पेड़ बहुत बड़े नहीं होते हैं। इसमें गोल बीज आते हैं। इसके फूल अत्यन्त सुकुमार और बड़े ही सुगन्धित होते हैं। पेड़ को हिलाने से वे नीचे गिर पड़ते हैं। वायु के साथ जब दूर से इन फूलों की सुगन्ध आती है, तब मन बहुत ही प्रसन्न और आनन्दित होता है। इसे संस्कृत में पारिजात कहते है, बंगला में शिउली कहते है , उस पेड़ पर छोटे छोटे सफ़ेद फूल आते है, और फूल की डंडी नारंगी रंग की होती है, और उसमे खुसबू बहुत आती है, रात को फूल खिलते है और सुबह जमीन में गिर जाते है। हारसिंहार ठण्डा और रूखा होता है। मगर कोई-कोई गरम होता है।

पारिजात वृक्ष को लेकर गहन अध्ययन कर चुके रूड़की के कुंवर हरिसिंह के अनुसार यूँ तो परिजात वृक्ष की प्रजाति भारत में नहीं पाई जाती, लेकिन भारत में एक मात्र पारिजात वृक्ष आज भी उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद के अंतर्गत रामनगर क्षेत्र के गाँव बोरोलिया में मौजूद है। लगभग 50 फीट तने व 45 फीट उँचाई के इस वृक्ष की अधिकांश शाखाएँ भूमि की ओर मुड़ जाती हैं और धरती को छुते ही सूख जाती हैं। एक साल में सिर्फ़ एक बार जून माह में सफ़ेद व पीले रंग के फूलों से सुसज्जित होने वाला यह वृक्ष न सिर्फ़ खुशबू बिखेरता है, बल्कि देखने में भी सुन्दर है। आयु की दृष्टि से एक हज़ार से पाँच हज़ार वर्ष तक जीवित रहने वाले इस वृक्ष को वनस्पति शास्त्री एडोसोनिया वर्ग का मानते हैं, जिसकी दुनिया भर में सिर्फ़ पाँच प्रजातियाँ पाई जाती हैं। इनमें से एक ‘डिजाहाट’ है। पारिजात वृक्ष इसी डिजाहाट प्रजाति का है।

आइये जानें harsingar ka patta, harsingar patanjali, harsingar ka pedh, harsingar ka paudha, harsingar ke beej ke fayde, harsingar leaves for sciatica in hindi, harsingar leaves images, हरसिंगार का पौधा हरसिंगार फूल, पारिजात का फूल।
  जल्दी पतला होने और पेट अंदर करने की पतंजलि आयुर्वेदिक दवा

पारिजात या हरसिंगार के चमत्कारिक फायदे

Parijaat Ya Harsingar Ke Fayde Aur Labh In Hindi

गठिया (Harsingar For Arthritis In Hindi)

पारिजात पेड़ के पांच पत्ते तोड़ के पत्थर में पिस ले और चटनी बनाइये फिर एक ग्लास पानी में इतना गरम कीजिये की पानी आधा हो जाये फिर इसको ठंडा करके पीजिये तो बीस-बीस साल पुराना गठिया का दर्द ठीक हो जाता है।

घुटनों की चिकनाई (Harsingar For Knee lubrication In Hindi)

अगर घुटनों की चिकनाई (Smoothness) हो गई हो और जोड़ो के दर्द में किसी भी प्रकार की दवा से आराम ना मिलता हो तो ऐसे लोग हरसिंगार (पारिजात) पेड़ के 10-12 पत्तों को पत्थर पे कूटकर एक गिलास पानी में उबालें-जब पानी एक चौथाई बच जाए तो बिना छाने ही ठंडा करके पी लें- इस प्रकार 90 दिन में चिकनाई पूरी तरह वापिस बन जाएगी। अगर कुछ कमी रह जाए तो फिर एक माह का अंतर देकर फिर से 90 दिन तक इसी क्रम को दोहराएँ निश्चित लाभ की प्राप्ति होती है।

साइटिका (Harsingar For Sciatica In Hindi)

हरसिंगार या पारिजात के पत्तों को धीमी आंच पर उबालकर काढ़ा बना लें। इसे साइटिका के रोगी को सेवन कराने से लाभ मिलता है। यह बंद रक्त की नाड़ियों को खोल देता है यही कारण है की ये साइटिका में कारगर है।

बालों का झड़ना या गंजेपन का रोग (Harsingar For Hair Fall In Hindi)

हरसिंगार के बीज को पानी के साथ पीसकर सिर के गंजेपन की जगह लगाने से सिर में नये बाल आना शुरू हो जाते हैं। जड़ो से नये बाल फूटने लगते है।

चिकनगुनिया का बुखार, डेंगू फीवर, Encephalitis , ब्रेन मलेरिया 

इस के पत्ते को पीस कर गरम पानी में डाल के पीजिये तो बुखार ठीक कर देता है और जो बुखार किसी दवा से ठीक नही होता वो इससे ठीक होता है; जैसे चिकनगुनिया का बुखार, डेंगू फीवर, Encephalitis , ब्रेन मलेरिया, ये सभी ठीक होते है। हरसिंगार के 7-8 पत्तों का रस, अदरक का रस और शहद को मिलाकर सुबह और शाम सेवन करने से पुराने से पुराना मलेरिया बुखार समाप्त हो जाता है।

■  गुस्सा कम करने और मन शांत करने के 10 आसान उपाय

बवासीर (Harsingar For Piles In Hindi)

पारिजात बवासीर के निदान के लिए रामबाण औषधी है। इसके एक बीज का सेवन प्रतिदिन किया जाये तो बवासीर रोग ठीक हो जाता है। पारिजात के बीज का लेप बनाकर गुदा पर लगाने से बवासीर के रोगी को राहत मिलती है।

यकृत या लिवर (Harsingar For Liver In Hindi)

7-8 हरसिंगार के पत्तों के रस को अदरक के रस और शहद के सुबह-शाम सेवन करने से यकृत और प्लीहा (तिल्ली) की वृद्धि ठीक हो जाती है।

हृदय रोग (Harsingar For Heart Disease In Hindi)

इसके फूल हृदय के लिए भी उत्तम औषधी माने जाते हैं। वर्ष में एक माह पारिजात पर फूल आने पर यदि इन फूलों का या फिर फूलों के रस का सेवन किया जाए तो हृदय रोग से बचा जा सकता है।

दाद (Harsingar For Ringworm In Hindi)

हरसिंगार की पत्तियों को पीसकर लगाने से दाद ठीक हो जाता है। दाद में ये बहुत चमत्कारी औषिधि है।

सूखी खाँसी (Harsingar For Dry Cough In Hindi)

इतना ही नहीं पारिजात की पत्तियों को पीस कर शहद में मिलाकर सेवन करने से सूखी खाँसी ठीक हो जाती है।

■  टूटी हड्डी जल्दी जोड़ने के लिए रामबाण दवा और 5 आसान घरेलू उपाय

त्वचा रोगों में (Harsingar For Skin Disease In Hindi)

इसी तरह पारिजात की पत्तियों को पीसकर त्वचा पर लगाने से त्वचा संबंधि रोग ठीक हो जाते हैं। पारिजात की पत्तियों से बने हर्बल तेल का भी त्वचा रोगों में भरपूर इस्तेमाल किया जाता है।

श्वास या दमा का रोग (Harsingar For Asthma In Hindi)

हरसिंगार की छाल का चूर्ण 1 से 2 रत्ती पान में रखकर प्रतिदिन 3-4 बार खाने से कफ का चिपचिपापन कम होकर श्वास रोग (दमा) में लाभकारी होता है।

क्रोनिक बुखार (Harsingar For Chronic Fever In Hindi)

पारिजात की कोंपल को यदि पाँच काली मिर्च के साथ महिलाएँ सेवन करें तो महिलाओं को स्त्री रोग में लाभ मिलता है। वहीं पारिजात के बीज जहाँ बालों के लिए शीरप का काम करते हैं तो इसकी पत्तियों का जूस क्रोनिक बुखार को ठीक कर देता है।

खुजली (Harsingar For Itching In Hindi)

हरसिंगार के पत्ते और नाचकी का आटा मिलाकर पीसकर लगाने या दही में सोनागेरू घिसकर पिलाने या हरसिंगार के पत्ते दूध में पीसकर लेप करने से लाभ मिलता है।

■  पेट खराब होने पर उपाय 10 आसान घरेलू नुस्खे 

कृपया ध्यान रहे :

हारसिंहार खांसी में नुकसानदायक है। हारसिंगार के दोषों को दूर करने के लिए कुटकी का उपयोग किया जाता है।

दोस्तों Harsingar ke Fayde aur Nuksan, हरसिंगार के फायदे और नुकसान, harshringar, harshringar ke fayde,Harsingar Benefits का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास हरसिंगार के फूल के फायदे और घरेलु नुस्खे और उपाय, परिजात के पत्ते, पौधे के लाभ, Benefits & Home remedies of Night jasmine in Hindi, हरसिंगार से उपचार और इलाज, हरसिंगार के औषधीय गुण के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply