kalonji

कलौंजी तेल

किसी भी बिमारी का रामबाण इलाज है यह तेल ! इस तेल में छुपे हैं अनेक फायदे

कलयुग में धरती पर संजीवनी है लौंजी, अनगिनत रोगों को चुटकियों में ठीक करता है।

  कैसे पेट में गैस के कारण होने वाले दर्द से राहत पायें
कलौंजी का सेवन
कलौंजी तेल (Kalonji Oil) के फायदे –
बवासीर में
गठिया में
आंखों के सभी रोग
गांठ में 
बाल लम्बे व घने
दमा रोग में

कलौंजी का सेवन

  • कलौंजी को ब्रैड, पनीर तथा पेस्ट्रियों पर छिड़क कर इसका सेवन करें।
  • कलौंजी के बीजों का सीधा सेवन किया जा सकता है।
  • कलौंजी को ग्राइंड करें तथा पानी तथा दूध के साथ इसका सेवन करें।
  • एक छोटा चम्मच कलौंजी को शहद में मिश्रित करके इसका सेवन कर सकते हैं।
  • दूध में कलौंजी उबालें। ठंडा होने दें फिर इस मिश्रण को पीएं।
  • पानी में कलौंजी उबालकर छान लें और इसे पीएं।

कलौंजी तेल - kalonji ke fayde nigella seeds benefits in hindi - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  कान से मैल निकालने का सही तरीका

कलौंजी तेल के फायदे 

Kalonji Tel Ke Fayde In Hindi

वात रोग

वात रोग में कलौंजी तेल से रोगग्रस्त अंगों पर मालिश करने से वात की बीमारी दूर होती है।

टाइप-2 डायबिटीज में कलौंजी के फायदे

प्रतिदिन 2 ग्राम कलौंजी के सेवन के परिणामस्वरूप तेज हो रहा ग्लूकोज कम होता है। इंसुलिन रैजिस्टैंस घटती है,बीटा सैल की कार्यप्रणाली में वृद्धि होती है तथा ग्लाइकोसिलेटिड हीमोग्लोबिन में कमी आती है।

  मूत्र का रंग बताता है सेहत का हाल

कलौंजी तेल - diabetes rts - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

बवासीर में कलौंजी तेल के फायदे

कलौंजी की भस्म को मस्सों पर नियमित रूप से लगाने से बवासीर का रोग समाप्त होता है।

मिर्गी

2007 में हुए एक अध्ययन के अनुसार मिर्गी से पीड़ित बच्चों में कलौंजी के सत्व का सेवन दौरे को कम करता है।

जुकाम में कलौंजी तेल के फायदे

20 ग्राम कलौंजी को अच्छी तरह से पकाकर किसी कपड़े में बांधकर नाक से सूंघने से बंद नाक खुल जाती है और जुकाम ठीक होता है।

जैतून के तेल में कलौंजी का बारीक चूर्ण मिलाकर कपड़े में छानकर बूंद-बूंद करके नाक में डालने से बार-बार जुकाम में छींक आनी बंद हो जाती हैं और जुकाम ठीक होता है। कलौंजी को सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है।

यदि बार-बार छींके आती हो तो कलौंजी के बीजों को पीसकर सूंघें।

कलौंजी तेल - sardi khasi jukaam ka ilaj - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  गुड़ खाने के फायदे

उच्च रक्तचाप में कलौंजी तेल के फायदे

100 या 200 मिलीग्राम कलौंजी के सत्व के दिन में दो बार सेवन से हाइपरटैंशन के मरीजों में ब्लड प्रैशर कम होता है।

स्नायु की पीड़ा

दही में कलौंजी को पीसकर बने लेप को पीड़ित अंग पर लगाने से स्नायु की पीड़ा समाप्त होती है।

दमा

कलौंजी को पानी में उबालकर इसका सत्व पीने से अस्थमा में काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है।

हिचकी

एक ग्राम पिसी कलौंजी शहद में मिलाकर चाटने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। तथा कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में मठ्ठे के साथ प्रतिदिन 3-4 बार सेवन से हिचकी दूर होती है।

या फिर कलौंजी का चूर्ण 3 ग्राम मक्खन के साथ खाने से हिचकी दूर होती है।

और यदि आप काले उड़द चिलम में रखकर तम्बाकू के साथ पीने से हिचकी में लाभ होता है।

3 ग्राम कलौंजी पीसकर दही के पानी में मिलाकर खाने से हिचकी ठीक होती है।

कलौंजी तेल - hiccups 780x405 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  कपूर जलाने के 10 फायदे

सूजन

यदि चोट या मोच आने के कारण शरीर के किसी भी स्थान पर सूजन आ गई हो तो उसे दूर करने के लिए कलौंजी को पानी में पीसकर लगाएं। इससे सूजन दूर होती है और दर्द ठीक होता है। कलौंजी को पीसकर हाथ पैरों पर लेप करने से हाथ-पैरों की सूजन दूर होती है।

पथरी में कलौंजी तेल के फायदे

250 ग्राम कलौंजी पीसकर 125 ग्राम शहद में मिला लें और फिर इसमें आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार खाली पेट सेवन करें। इस तरह 21 दिन तक पीने से पथरी गलकर निकल जाती है।

रक्तचाप (ब्लडप्रेशर)

रक्तचाप (ब्लडप्रेशर) में एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीने से रक्तचाप सामान्य बना रहता है। तथा 28 मिलीलीटर जैतुन का तेल और एक चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर पूर शरीर पर मालिश आधे घंटे तक धूप में रहने से रक्तचाप में लाभ मिलता है। यह क्रिया हर तीसरे दिन एक महीने तक करना चाहिए।

■  घुटनों के दर्द का इलाज

कलौंजी तेल - High blood pressure hypertension Causes - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

गंजापन

जली हुई कलौंजी को हेयर ऑइल में मिलाकर नियमित रूप से सिर पर मालिश करने से गंजापन दूर होकर बाल उग आते हैं।

पेशाब की जलन

250 मिलीलीटर दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेशाब की जलन दूर होती है।

त्वचा के विकार

कलौंजी के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा पर मालिश करने से त्वचा के विकार नष्ट होते हैं।

■  सफेद बालों का घरेलू उपाय

पेट दर्द 

किसी भी कारण से पेट दर्द हो एक गिलास नींबू पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीएं। उपचार करते समय रोगी को बेसन की चीजे नहीं खानी चाहिए। या चुटकी भर नमक और आधे चम्मच कलौंजी के तेल को आधा गिलास हल्का गर्म पानी मिलाकर पीने से पेट का दर्द ठीक होता है। या फिर 1 गिलास मौसमी के रस में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीने से पेट का दर्द समाप्त होता है।

कलौंजी तेल - Stomach Problems pet ki samasyaein e1533835437396 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

लकवा

कलौंजी का तेल एक चौथाई चम्मच की मात्रा में एक कप दूध के साथ कुछ महीने तक प्रतिदिन पीने और रोगग्रस्त अंगों पर कलौंजी के तेल से मालिश करने से लकवा रोग ठीक होता है।

नींद

रात में सोने से पहले आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से नींद अच्छी आती है।

■ पेट का मोटापा, बाबा रामदेव का घरेलू उपाय

कलौंजी का तेल कान में डालने से कान की सूजन दूर होती है। इससे बहरापन में भी लाभ होता है।

कैंसर का रोग

एक गिलास अंगूर के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 3 बार पीने से कैंसर का रोग ठीक होता है। इससे आंतों का कैंसर, ब्लड कैंसर व गले का कैंसर आदि में भी लाभ मिलता है। इस रोग में रोगी को औषधि देने के साथ ही एक किलो जौ के आटे में 2 किलो गेहूं का आटा मिलाकर इसकी रोटी, दलिया बनाकर रोगी को देना चाहिए। इस रोग में आलू, अरबी और बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए। कैंसर के रोगी को कलौंजी डालकर हलवा बनाकर खाना चाहिए।

कलौंजी तेल - cancer - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

सर्दी-जुकाम

कलौंजी के बीजों को सेंककर और कपड़े में लपेटकर सूंघने से और कलौंजी का तेल और जैतून का तेल बराबर की मात्रा में नाक में टपकाने से सर्दी-जुकाम समाप्त होता है।

आधा कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल व चौथाई चम्मच जैतून का तेल मिलाकर इतना उबालें कि पानी खत्म हो जाएं और केवल तेल ही रह जाएं। इसके बाद इसे छानकर 2 बूंद नाक में डालें। इससे सर्दी-जुकाम ठीक होता है। यह पुराने जुकाम भी लाभकारी होता है।

पेट के कीडे़

10 ग्राम कलौंजी को पीसकर 3 चम्मच शहद के साथ रात सोते समय कुछ दिन तक नियमित रूप से सेवन करने से पेट के कीडे़ नष्ट हो जाते हैं।

मुंहासे में कलौंजी तेल के फायदे

सिरके में कलौंजी को पीसकर रात को सोते समय पूरे चेहरे पर लगाएं और सुबह पानी से चेहरे को साफ करने से मुंहासे कुछ दिनों में ही ठीक हो जाते हैं।

कलौंजी तेल - jhaiyan hatane ke upay tips to remove acne and pimple e1533836129295 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  लिवर का इलाज

पोलियों का रोग

आधे कप गर्म पानी में एक चम्मच शहद व आधे चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय लें। इससे पोलियों का रोग ठीक होता है।

स्फूर्ति

स्फूर्ति (रीवायटल) के लिए नांरगी के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सेवन करने से आलस्य और थकान दूर होती है।

गठिया में कलौंजी तेल के फायदे

कलौंजी को रीठा के पत्तों के साथ काढ़ा बनाकर पीने से गठिया रोग समाप्त होता है।

कलौंजी तेल - gathiya arthritis - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  चेहरा जवाँ बनाएं

जोड़ों के दर्द में कलौंजी तेल के फायदे

एक चम्मच सिरका, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय पीने से जोड़ों का दर्द ठीक होता है।

आंखों के सभी रोग

आंखों की लाली, मोतियाबिन्द, आंखों से पानी का आना, आंखों की रोशनी कम होना आदि। इस तरह के आंखों के रोगों में एक कप गाजर का रस, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2बार सेवन करें। इससे आंखों के सभी रोग ठीक होते हैं। आंखों के चारों और तथा पलकों पर कलौंजी का तेल रात को सोते समय लगाएं। इससे आंखों के रोग समाप्त होते हैं। रोगी को अचार, बैंगन, अंडा व मछली नहीं खाना चाहिए।

स्नायुविक व मानसिक तनाव

एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल डालकर रात को सोते समय पीने से स्नायुविक व मानसिक तनाव दूर होता है।

कलौंजी तेल - CrmVIuYUIAAuNDt - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

नाड़ी का छूटना

नाड़ी का छूटना के लिए आधे से 1 ग्राम कालौंजी को पीसकर रोगी को देने से शरीर का ठंडापन दूर होता है और नाड़ी की गति भी तेज होती है। इस रोग में आधे से 1ग्राम कालौंजी हर 6 घंटे पर लें और ठीक होने पर इसका प्रयोग बंद कर दें।

कलौंजी को पीसकर लेप करने से नाड़ी की जलन व सूजन दूर होती है।

गांठ में कलौंजी तेल के फायदे

कलौंजी के तेल को गांठो पर लगाने और एक चम्मच कलौंजी का तेल गर्म दूध में डालकर पीने से गांठ नष्ट होती है।

कलौंजी तेल -                                  gale mein ganth ka ilaj in hindi - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

मलेरिया का बुखार

पिसी हुई कलौंजी आधा चम्मच और एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से मलेरिया का बुखार ठीक होता है।

  आँखों की रोशनी को इतनी तेज कर देगा ये नुस्खा की सारी जिंदगी चश्मे की जरूरत नहीं पड़ेगी

कब्ज में कलौंजी तेल के फायदे

चीनी 5 ग्राम, सोनामुखी 4 ग्राम, 1 गिलास हल्का गर्म दूध और आधा चम्मच कलौंजी का तेल। इन सभी को एक साथ मिलाकर रात को सोते समय पीने से कब्ज नष्ट होती है।

खून की कमी

एक कप पानी में 50 ग्राम हरा पुदीना उबाल लें और इस पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय सेवन करें। इससे 21 दिनों में खून की कमी दूर होती है। रोगी को खाने में खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए।

■  इसके टुकड़े 4 दिन नारियल के तेल में रखे, इसको बालों में लगा लिया तो बाल बुढ़ापे तक सफेद नहीं होंगे!!

कलौंजी तेल - blood type 1 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

उल्टी

आधा चम्मच कलौंजी का तेल और आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर सुबह-शाम पीने से उल्टी बंद होती है।

हार्निया में कलौंजी तेल के फायदे

3 चम्मच करेले का रस और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय पीने से हार्निया रोग ठीक होता है।

पीलिया में कलौंजी तेल के फायदे

एक कप दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार सुबह खाली पेट और रात को सोते समय 1 सप्ताह तक लेने से पीलिया रोग समाप्त होता है। पीलिया से पीड़ित रोगी को खाने में मसालेदार व खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए।

कलौंजी तेल - piliya ka ilaj jaundice remedy treatment in hindi e1533836158879 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

मिर्गी के दौरें

एक कप गर्म पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से मिर्गी के दौरें ठीक होते हैं। मिर्गी के रोगी को ठंडी चीजे जैसे- अमरूद, केला, सीताफल आदि नहीं देना चाहिए।

■  सुबह 1 गिलास पानी में चुटकी भर इसे मिलाकर पीने से 84 प्रकार के खनिज मिलेंगे जो पेट की चर्बी गलाए, जोड़ो का दर्द, मधुमेह, कब्ज, पेट की गैस, शरीर की गंदगी बाहर निकलने में अद्भुत है

बेरी-बेरी रोग

बेरी-बेरी रोग में कलौंजी को पीसकर हाथ-पैरों की सूजन पर लगाने से सूजन मिटती है।

दांत

कलौंजी का तेल और लौंग का तेल 1-1 बूंद मिलाकर दांत व मसूढ़ों पर लगाने से दर्द ठीक होता है। आग में सेंधानमक जलाकर बारीक पीस लें और इसमें 2-4 बूंदे कलौंजी का तेल डालकर दांत साफ करें। इससे साफ व स्वस्थ रहते हैं।
दांतों में कीड़े लगना व खोखलापन: रात को सोते समय कलौंजी के तेल में रुई को भिगोकर खोखले दांतों में रखने से कीड़े नष्ट होते हैं।

■  रात को सोते वक़्त इसको गाय के घी में मिलाकर पैरों के तलवे पर लगाए फिर देखे कमाल 

स्त्रियों के चेहरे व हाथ-पैरों की सूजन

कलौंजी पीसकर लेप करने से हाथ पैरों की सूजन दूर होती है।

बाल लम्बे व घने

50 ग्राम कलौंजी 1 लीटर पानी में उबाल लें और इस पानी से बालों को धोएं। इससे बाल लम्बे व घने होते हैं।

कलौंजी तेल - monsoon hair care - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

सिर दर्द

कलौंजी के तेल को ललाट से कानों तक अच्छी तरह मलनें और आधा चम्मच कलौंजी के तेल को 1 चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से सिर दर्द ठीक होता है। कलौंजी खाने के साथ सिर पर कलौंजी का तेल और जैतून का तेल मिलाकर मालिश करें। इससे सिर दर्द में आराम मिलता है और सिर से सम्बंधित अन्य रोगों भी दूर होते हैं।
कलौंजी के बीजों को गर्म करके पीस लें और कपड़े में बांधकर सूंघें। इससे सिर का दर्द दूर होता है। कलौंजी और काला जीरा बराबर मात्रा में लेकर पानी में पीस लें और माथे पर लेप करें। इससे सर्दी के कारण होने वाला सिर का दर्द दूर होता है।

■  लगातार 7 रातों तक सोने से पहले चेहरे पर इसे लगाने से इतना ग्लो आ जाएगा की सब पूछने लगेंगे

भूख का अधिक लगना

50 ग्राम कलौंजी को सिरके में रात को भिगो दें और सूबह पीसकर शहद में मिलाकर 4-5 ग्राम की मात्रा सेवन करें। इससे भूख का अधिक लगना कम होता है।

खाज-खुजली में कलौंजी तेल के फायदे

50 ग्राम कलौंजी के बीजों को पीस लें और इसमें 10 ग्राम बिल्व के पत्तों का रस व 10 ग्राम हल्दी मिलाकर लेप बना लें। यह लेप खाज-खुजली में प्रतिदिन लगाने से रोग ठीक होता है।

कलौंजी तेल - daad khaaj khujli ka ilaj itching eczema treatment in hindi e1533922351457 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

स्मरण शक्ति

लगभग 2 ग्राम की मात्रा में कलौंजी को पीसकर 2 ग्राम शहद में मिलाकर सुबह-शाम खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

■  असमय सफ़ेद होते बालों को जड़ से काला कर देंगी ये पत्तियाँ

छींके

कलौंजी और सूखे चने को एक साथ अच्छी तरह मसलकर किसी कपड़े में बांधकर सूंघने से छींके आनी बंद हो जाती है।

कलौंजी तेल - cold and flu natural remedies - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

पेट की गैस

कलौंजी, जीरा और अजवाइन को बराबर मात्रा में पीसकर एक चम्मच की मात्रा में खाना खाने के बाद लेने से पेट की गैस नष्ट होता है।

दमा रोग में कलौंजी तेल के फायदे

एक चुटकी नमक, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच घी मिलाकर छाती और गले पर मालिश करें और साथ ही आधा चम्मच कलौंजी का तेल 2 चम्मच शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। इससे दमा रोग में आराम मिलता है।

कलौंजी तेल - asthma 1 - भयंकर गठिया, सर्दी/खांसी, सिर दर्द, बढ़ा वजन/मोटापा, piles इसके 2 बूंद से ही रफूचक्कर हो जायेंगे

■  सुबह-सुबह इसके सेवन से मोटी तोंद भी समतल पेट (Flat tummy) बन जाएगी

ध्यान रखें कि इस दवा का प्रयोग गर्भावस्था में नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भ नष्ट हो सकता है।

Loading...

9 COMMENTS

  1. Agar bahut si bimariya hai toh Kya kewal kalunji khane se usmai fayeda lagega
    Aur kalunji ko rooz 1 spoon esehi pani ke saath kha sakte hai

Leave a Reply