heart

दिल का तेज़ धड़कना हर बार प्यार नहीं होता। जी हां, यह दिल की बीमारियों का भी संकेत हो सकता है जो जानलेवा भी हो सकती हैं। इनके लक्षण काफी पहले दिखाई देने लगते हैं लेकिन जब तक उनसे कोई ख़ास परेशानी नहीं होती लोग उन्हें नज़रअंदाज करते रहते हैं। उम्र छोटी या हों या बड़ी जब भी मरीज़ को दिल की बीमारी का पता चलता है तब तक समस्या काफ़ी गंभीर बन चुकी होती है।

■   आँखों में दर्द और जलन का इलाज 10 आसान उपाय और नुस्खे

हालांकि आप देर होने से काफी पहले ही इन बीमारीयों का पता लगा सकते हैं।माना आपके ऊपर काम का बहुत प्रेशर है और आप जंक फ़ूड खाकर ही ज़िंदगी बिता रहे हैं औऱ इस वजह से आपको थकान महसूस होती है। लेकिन दिल के बीमार होने पर होनेवाली थकान काफी अलग होती है। मान लीजिए जैसे आप दोपहर तक एकदम ठीक रहते हैं लेकिन उसके बाद कुर्सी से उठने-बैठने और काम पर ध्यान लगाना भी आपके लिए मेहनतवाला काम बन जाता है। अगर आपके साथ भी ऐसा होतो है तो हो सकता है कि आपका दिल मुश्किल में है। थकान के साथ सांस फूलना भी दिल की बीमारियों का एक आम लक्षण हैं। जब आपका दिल सही तरीके से धड़क नहीं पाता तो खून नसों में जमा हो जाता है और यह तरल पदार्थ आपके फेफड़ों में लीक होता है। जिसके चलते सीढ़ियां चढ़ने या थोड़ी दूर चलने से भी आपकी सांस फूलने लगती है।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

तेज़ धड़कन

किसी शांत जगह पर अगर आपको अपने दिल के धड़कने की आवाज़ सुनाई देती है तो यह न केवल डरावनी बल्कि चिंता की भी बात है। अनियमित या बहुत तेज़ धड़कन बताती है कि दिल के किसी वॉल्व में गड़बड़ है और उसे ठीक करने की ज़रूरत है। ध्यान रखिए इसे नज़रअंदाज करना खतरनाक हो सकता है।

abnormal-heart-rate

■   जल्दी दाढ़ी और मूंछ बढ़ाने के 5 आसान तरीके और घरेलू उपाय

सीने, कंधों और जबड़ों में दर्द

अचानक उठनेवाला सीने का दर्द जहां हार्ट अटैक का एक लक्षण हो सकता है वहीं लम्बी अवधि तक होनेवाली परेशानियां दिल की तकलीफों का कारण बन सकती हैं। दिल की बीमारियों के कारण उठनेवाला सीने का दर्द थोड़े आराम या नींद के बाद ठीक हो जाता है। लेकिन यह सीधे-सीधे बतलाता है कि आपका दिल ठीक नहीं। इसीलिए सीने में दर्द होने पर डॉक्टर से बात करें। आपके सीने का दर्द बाएं कंधे और जबड़े की तरफ बढ़ता है तो उसके कुछ और भी कारण हो सकते हैं। लेकिन दिल की बीमारी होने पर मरीज़ कई बार इस स्थिति में कुछ खा भी नहीं सकते। ध्यान रहे यह तमाम लक्षण हार्ट अटैक के पहचाने हुए लक्षण हैं।

पैरों में सूजन

पैरों, हाथों और चेहरे में बार-बार होनेवाली सूजन2 को किडनी में गड़बड़ियों की निशानी माना जाता है। हालांकि इसे दो कारणों से दिल की बीमारी से भी जोड़ा जा सकता है। पहली, अगर आपका दिल सही तरह से धड़कता नहीं तो हो सकता है कि शरीर के निचले अंगो की तरफ जाते समय खून आपकी नसों में जमा हो गया हो और इस वजह से पैरों में सूजन हो गई हो। दूसरा आपका दिल सही तरीके से काम नहीं कर पाता तो इससे किडनियां भारी हो जाती हैं और शरीर से विषैले तत्वों को निकालने में दिक्कत होने लगती है। इस वजह से भी आपके पैरों में सूजन हो सकती है। आप जानते हैं कि पैरों में सूजन,ऐंठन, बेचैनी हैं गंभीर रोग के लक्षण!

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

soojan ka ilaj swelling treatment remedies in hindi

   ऑयली और ड्राई स्किन के लिए 5 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

अपच या इनडायजेशन

अक्सर अपच होना भी आपके दिल को हो रहे नुकसान की ख़बर देता है। एसिडिटी और गैस्ट्रोसोफजियल रिफ्लक्स डिजिसेस (Gastroesophageal reflux disease) या GERD केवल पेट से जुड़ी तकलीफें नहीं हैं। इनका होना इस बात का अर्थ है कि आपका दिल सही तरह से नहीं धड़क पा रहा। जिसकी वजह से आपकी आंतों तक खून पहुंचना मुश्किल हो जाता है और अपच और एसिडिटी होने लगती है। एंटासिड दवाइयां लेने वाले लोगों को दवा बंद करते ही अगर ये लक्षण दिखाई दें तो बेहतर यही होगा कि वे अपने दिल की तरफ ध्यान दें। किसी कार्डियोलॉजिस्ट से सम्पर्क करें और आवश्यक जांच कराएं।

acidity

 

■   चेहरे पर दाने और फुंसी हटाने के 10 आसान उपाय और इलाज

Leave a Reply