मोटापा क्या है ?

ओबेसिटी (मोटापा) क्या है? ओबेसिटी वह स्थिति होती हैं जब व्यक्ति का वज़न आवश्यकता से अधिक हो जाता है तथा शरीर पर बहुत अधिक मात्रा में वसा (फैट) जमा हो जाता है। ओबेसिटी को व्यक्ति के बॉडी मास इंडेक्स (बी एम आई) द्वारा नापा जाता है। आपके वज़न (किलोग्राम में) को आपकी लम्बाई (मीटर में) से विभाजित करके बी एम आई की गणना की जाती है। वे व्यक्ति जिनका बी एम आई 25 – 29 होता है वे ओवरवेट (आवश्यकता से अधिक वज़न होना) कहे जाते हैं तथा वे व्यक्ति जिनका बी एम आई 30 से 40 के बीच होता है वे ओबेस (मोटे) माने जाते हैं।

मोटापे से होने वाली समस्या

मोटापा बढने से डायबी‍टीज, ब्लडप्रेशर, हार्ट अटैक, ब्रेन स्टोन, कैंसर, अनिद्रा, जोडों और घुटनों की बीमारियां शुरू हो जाती हैं। मोटापा कम करने के लिए हमे अपने डाइट प्लान को ध्यान में रखना चाहिए। टाइम पर खाना चाहिए, डाइट संतुलित मात्रा में लेनी चाहिए। डाइट में प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइडेट की प्रचुर मात्रा होनी चाहिए।

ओबेसिटी में हेरिडिटी (अनुवांशिकता) भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हालाँकि ओबेसिटी को दूर करने के लिए बाज़ार में वज़न कम करने के उपचार उपलब्ध हैं, परंतु वे प्रभावी तथा सुरक्षित नहीं हैं| मोटापे को दूर करने के लिए निम्न घरेलू उपचारों को आजमाएं|

हर इंसान को प्रतिदिन 2500 प्रति कैलोरी डाइट हर रोज लेनी चाहिए। तभी हमारा शरीर स्वस्‍थ्‍य और छरहरा रहेगा। जंक और फास्ट फूड खाने से बचें।

मोटापे को कम करने के उपाय

चाय में मसाले मिलाएं

मसाले बहुत अच्छे घटक होते हैं जो वज़न को प्रभावी और प्राकृतिक रूप से कम करने में सहायक होते हैं। प्रभावी रूप से और तीव्रता से वज़न घटाने के लिए अपनी प्रतिदिन की ग्रीन टी (चाय) में दो से तीन टुकड़े अदरक, काली मिर्च, इलायची, दालचीनी और लौंग मिलाएं। इन मसालों से युक्त चाय को दिन में दो से तीन बार पीयें और एक महीने में प्रभावी परिणाम देखें।

masala tea

ऐप्पल सीडर विनेगर

प्रतिदिन सोने के पहले एक चम्मच ऐप्पल सीडर विनेगर का सेवन करें। यह सोते समय आपके शरीर में संग्रहित वसा को कम करने में सहायक होता है।

सौंफ

भूख कम करने के लिए सौंफ एक लोकप्रिय और बहुत पुराना घरेलू उपचार है। लगभग 6 से 8 सौंफ के दानों को एक कप पानी में कुछ मिनिट तक उबालें। इस पानी से सौंफ के दाने निकाल दें तथा इस पानी को प्रतिदिन सुबह खाली पेट पीयें। इससे आपकी खाने की इच्छा कम होगी।

ग्रीन टी

ग्रीन टी वज़न कम करने में बहुत प्रभावी है तथा वज़न कम करने की औषधियों और डाइटिंग के बिना वज़न कम करने में सहायक होती है। उत्तम गुणवत्ता की ग्रीन टी की पत्तियों को उबलते हुए पानी में डालें तथा इसे कुछ मिनट के लिए उबलने दें। इस ग्रीन टी को दिन में दो से तीन बार पिएं । कुछ ही दिनों में आप प्रभावी परिणाम देखेंगे।

घर में बना खाना खाएं

यह एक जाना माना तथ्य है कि नियमित तौर पर होटल, रेस्टारेंट या रास्ते पर मिलने वाले खाद्य पदार्थ खाने से वज़न बढ़ता है। घर में बना हुआ खाना खाएं जिसमें वसा और तेल कम होता है। अपने भोजन में हरी सब्जियां, फल और सब्जियां शामिल करें जो मोटापे से लड़ने में सहायक होंगी।

healthy_cooking_at_home

सब्जियां और फल

अपने प्रतिदिन के भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां, टमाटर और गाजर शामिल करें। प्रतिदिन सुबह के नाश्ते में टमाटर खाने से भी वज़न प्रभावी रूप से कम होता है। अपने भोजन में सब्जियों और फलों की मात्रा बढ़ाएं तथा कम कैलोरी वाला ऐसा भोजन खाएं जिससे आपका पेट जल्दी भर जाए

पुदीने की पत्तियाँ

पुदीना अपने पाचक गुणों के लिए जाना जाता है और पाचन में सहायक है। पुदीने की पत्तियों के रस की कुछ बूँदें गुनगुने पानी में मिलाएं और इसे अच्छे से मिलाएं। खाना खाने के आधे घंटे बाद इस मिश्रण को पीयें। यह पाचन में सहायक होगा तथा आपके चयापचय शक्ति को बढ़ाएगा और लम्बे समय तक वज़न कम करने में सहायक होगा।

ऐप्पल सीडर विनेगर और नींबू का रस

एक छोटा चम्मच ऐप्पल सीडर विनेगर और एक चम्मच नींबू के रस को एक कप गुनगुने पानी में मिलाएं। दो से तीन महीने तक इस पानी को प्रतिदिन सुबह खाली पेट पीयें। आप प्रभावी परिणाम देखेंगे क्योंकि पानी आपको हाईड्रेटेड (जल युक्त) रखेगा, ऐप्पल सीडर विनेगर आपकी मेटाबॉलिजम (चयापचय) शक्ति को बढ़ाएगा और नींबू पानी का स्वाद बढ़ाएगा।

काली मिर्च के साथ शहद

शहद कई सारी बीमारियों का घरेलू उपचार है तथा यह वज़न कम करने में भी सहायक है। एक गिलास पानी में एक चम्मच शहद, दो चम्मच नींबू का रस और एक चुटकी काली मिर्च मिलाएं। इसे अच्छे से मिलाएं तथा इस पानी को प्रतिदिन सुबह पीयें। इससे आपका वज़न कभी नहीं बढ़ेगा।

दिन की शुरुआत शहद से करें

एक चम्मच शहद लें तथा इसे एक गिलास गर्म पानी में मिलाएं। पानी के इस मिश्रण में एक चम्मच नींबू का रस मिलाएं। सुबह उठने के बाद खाली पेट इस पानी को पीयें। प्रभावी रूप से वज़न कम करने के लिए इसे दो से तीन महीने तक प्रतिदिन पिएं ।

honey

कड़ी पत्ता (मीठी नीम)

प्रतिदिन सुबह खाली पेट 10 से 12 मीठी नीम की पत्तियाँ खाएं। इसे अच्छे से चबाएं और इसका रस पीयें। ऐसा तीन से चार महीने तक लगातार करें। आप प्रभावी रूप से वज़न कम होते हुए देखेंगे।

गर्म पानी पीयें

यदि आपको ठंडा पानी पीने की आदत है तो इसके स्थान पर गर्म पानी पीने की आदत डालें। गर्म पानी आपके शरीर में संग्रहित वसा को दूर करने में सहायक होगा। भोजन के पश्चात गर्म पानी पीयें और इस बात का ध्यान रखें कि भोजन और पानी के बीच कम से कम आधे घंटे का अंतर हो। खाना खाने के तुरंत बाद पानी न पीयें।

कुछ और उपाय

  • अधिक चिकनाईयुक्त दूध, बटर तथा इससे बने पनीर का सेवन बंद कर दें। क्‍योंकि इनमें वसा ज्‍यादा मात्रा में होता है जो कि मोटापे का कारण बन सकता है।
  • हर रोज सुबह-सुबह एक गिलास ठंडे पानी में दो चम्मच शहद घोलकर मिला लीजिए। इस घोल को पीने से शरीर से वसा की मात्रा कम होती है।
  • व्‍यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कीजिए। व्‍यायाम जैसे – साइकलिंग, जॉगिंग, सीढी़ चढ़ना-उतरना, रस्सी कूदना, टहलना, घूमना इस प्रकार के व्यायाम नियमित रूप से करने से वजन घटाया जा सकता है।
  • खाने में गेहूं के आटे की चपाती बंद करके जौ और चने के आटे की चपाती लेना शुरू करें। जौ और चने में कार्बोहाइड्रेट पदार्थ होते हैं जो आसानी से पच जाते हैं।
  • दो बडे चम्मच मूली के रस शहद में मिलाकर बराबर मात्रा में पानी के साथ पिएं, ऐसा करने से माह के बाद मोटापा कम होने लगेगा।
  • नीबूं का रस गुनगुने पानी में निचोड़कर पीयें, इससे भोजन अच्छे से पचता है और शरीर भी हल्का लगता है। सर्दियों में नींबू वाली चाय पिएं तो इससे पेट में गैस नहीं बनती।
  • दही का सेवन करने से शरीर की फालतू चर्बी घटती है। मटठे का भी सेवन दिन में दो-तीन बार करें।
  • मौसमी हरी सब्जियों का प्रयोग ज्‍यादा मात्रा में करें। मौसमी सब्जियां जैसे – मेथी, पालक, बथुआ, चौलाईसाग हैं। इनमें कैल्शियम अधिक मात्रा में होता है।
  • कम उर्जा वाले वयंजनों का सेवन करें। जैसे भूने चने, मूंग दाल, दलिया आदि का सेवन करें। इनमें फैट कम होता है।
  • सोयाबीन का सेवन कीजिए। इसमें ज्‍यादा मात्रा में प्रोटीन होता है और इसमें पाया जाने वाला आइसोफ्लेवंस नामक प्रोटीन शरीर से चर्बी को कम करता है।
  • सुबह नाश्ते में अंकुरित अनाज लीजिए। मूंग, चना और सोयाबीन को अंकुरित करके खाने से से उनमें मौजूद पोषक तत्‍वों की मात्रा दोगुनी हो जाती है।
  • फास्ट फूड, जंक फूड, कचौरी, समोसे, पिज्जा बर्गर न खाएं। कोल्ड ड्रिंक न पिएं, क्योंकि कोल्डा ड्रिंक की 500 मिलीलीटर मात्रा में 20 चम्मच शुगर होती है जिससे मोटापा बढ़ता है।
  • यदि आप मांसाहारी हैं तो तला हुआ मांस खाएं जिसमें तेल और घी जैसे चिकनाईयुक्‍त पदार्थ कम मात्रा में हो। रेड मीट बिलकुल न खायें।

weight-loss

Loading...

Leave a Reply