हल्दी के फायदे और नुकसान haldi ke fayde aur nuksan in hindi

 हल्दी पानी पीने के फायदे इन हिंदी

हल्दी पानी के फायदे इन हिंदी : हल्‍दी का प्रयोग लगभग सभी प्रकार के खाने में किया जाता है। यह व्यंजनों के स्वाद में तो इजाफा करती ही है साथ ही इसमें अनेक औषधीय गुण भी होते हैं। यह गर्म और रूखी होती है। त्वचा, पेट और शरीर की कई बीमारियों में हल्दी का प्रयोग किया जाता है। गुणकारी हल्‍दी के अलग-अलग लाभ उठाने के लिए आपको किसी वैद्य या विशेषज्ञ की शरण में जाने की जरूरत नहीं है। अपने घर पर ही छोटे-छोटे प्रयोग कर इसके अलग-अलग लाभ उठाए जा सकते हैं। वैसे तो आमतौर पर देखा गया है कि लोग उठते ही गर्म पानी या फिर निम्बू पानी का सेवन करते है जिससे कि उनका पेट साफ़ हो और खुल कर शरीर की गंदगी बाहर निकल जाए वैसे तो ये है ही फायदेमंद, मगर यदि इसमें थोड़ी सी हल्दी यदि मिक्स कर दी जाए तो इसके गुणों में भारी इजाफा हो जाता है तो फिर देर किस बात की कल से ही शुरू करे ये हल्दी वाला पानी तो आइये जानते है हम इसे कैसे बनायेगे।

आइये जानें हल्दी का पानी बनाने की विधि, हल्दी का पानी कैसे बनाये, शहद और हल्दी के फायदे, हल्दी और दूध, हल्दी का प्रयोग, हल्दी के फायदे स्किन के लिए।

भारत में घर-घर में नींबू पानी पीने-पिलाने का चलन है. नींबू पानी न केवल शरीर के विषाक्त पदार्थ को दूर करके, शरीर को साफ करने में मददगार है बल्क‍ि इसके और भी कई फायदे हैं। नींबू पानी यूं तो कभी भी ले सकते हैं लेकिन सुबह उठकर नींबू और हल्दी पानी पीना खासतौर पर फायदेमंद होता है. ये एक ऐसा पेय है जिस पर आप आंख बंदकर भरोसा कर सकते हैं।

👉 इसे भी पढ़ें : साल में अगर एक महीना सुबह ये उपाय कर लिया तो जीवन में कभी नहीं होगी हार्ट अटैक से मृत्यु

हल्दी वाला पानी बनाने का तरीका  (How To Make Turmeric Water In Hindi)

एक गिलास हल्का गुन-गुना पानी में आप आधा नीबू निचोड़ कर उसमे चौथाई चम्मच हल्दी मिला कर चला कर मिक्स कर ले फिर उसमे आधा या फिर पूरा एक चम्मच अपनी आवश्यकता अनुसार शहद मिला ले – और इसका सेवन करे।

हल्दी का पानी पीने के अद्भुत फायदे

Health Benefits Of Turmeric Water In Hindi

#  एक गिलास गुनगुने पानी में एक नीम्बू निचोड़कर उसमें एक चुटकी हल्दी मिला लें और इसे सुबह खाली पेट पीएं। ऐसा करने से पेट में गैस बनने की समस्या दूर होती है और एसिडिटी, बदहजमी, फूड पॉइजनिंग, कब्ज आदि बीमारी से भी छुटकारा मिलता है जिससे सुबह पेट पानी की तरह साफ़ होगा।

#  आपको पता है कि हल्दी एक ताकतवर एंटी-आक्सीडेंट भी है एंटी-कैंसर के गुणों से भरपूर है ये-इसमें करक्यूमिन होने के कारण कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं से भी लडती है

#  क्या आप जानते है कि हल्दी का सेवन रोज करने से पित्त जादा बनता है जिससे हमारे खाने को पचाने की छमता विकसित हो जाती है लेकिन अधिक मात्रा किसी भी चीज की नुकसानदायक होती है

👉 इसे भी पढ़ें : ब्लाक नसों को 10 दिनों में खोल देगा यह अचूक रामबाण नुस्खा

शरीर में सूजन कितनी भी क्यों न हो हल्दी सूजन को कम करने में सहायक है इसमें करक्यूमिन नामक एक रसायन पाया जाता है जो दवा के रूप में काम करता है इसीलिए आपने देखा होगा किसी को भी चोट लग जाती है तो हमारे बुजुर्ग हल्दी दूध में डालकर पिलाते थे

#  हल्दी दिमाग के लिए भी फायदेमंद होती है जिनको भूलने जैसी बिमारी है वो इसका सेवन करके अपनी इस बिमारी को काफी हद तक कम कर सकते है

#  जिन लोगो की खून की धमनियों में ब्लाकेज की शिकायत है उनको तो अवस्य ही हल्दी वाला पानी सेवन करना लाभदायक है क्युकि हल्दी खून को जमने से रोकता है अदरक भी खून को पतला रखती है और ब्लाकेज से बचाती है

#  जो लोग नियमित हल्दी वाला पानी उपयोग करते है उनके चेहरे व शरीर पर रैडिकल्स कम होते है इससे आपके शरीर पर उम्र का असर कम दीखता है

#  एक रिसर्च के अनुसार हल्दी के सेवन से ग्लूकोज का लेबल कम हो सकता है अर्थात डायबिटीज (मधुमेह) का खतरा टाला जा सकता है

#  अर्थराइटिस होने पर हल्दी वाला पानी -इसमें करक्यूमिन होने के कारण जोड़ो के दर्द और सूजन को दूर करके आपको काफी हद तक राहत पहुंचाता है

#  आपके लीवर के खराब हो चुके सेल्स को ठीक करने में हल्दी आपकी बहुत मदद करता है तथा पित्ताशय की प्रक्रिया को भी चुस्त और दुरुस्त रखता है

#  यदि किसी कारण से शरीर के बाहरी या अंदरूनी हिस्से में चोट लग जाए-तो हल्दी वाला दूध उसे जल्द से जल्द ठीक करने में बेहद लाभदायक है क्योंकि यह अपने एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुणों के कारण बैक्टीरिया को पनपने नहीं देता है।

#  पेट में जब गैस भर जाती है तो बहुत दर्द होता है। ऐसी स्थित में नींबू और हल्दी पानी में चुटकी भर सेंधानमक मिलाकर पीने से तुरंत फ़ायदा होता है।

👉 इसे भी पढ़ें : सप्ताह में सिर्फ़ 3 बार इसका सेवन करने से भयंकर से भयंकर रोग भी घुटने टेक देता है आप भी जरूर आजमाएं

#  सुबह उठकर एक गिलास नींबू और हल्दी पानी पीने से शरीर की सफाई हो जाती है। नींबू पानी बाइल जूस बनाने में भी मददगार है। बाइल जूस खाने को पचाने का काम करता है।

#  नींबू और हल्दी पानी शरीर में पाचक रसों के बनने को प्रोत्साहित करता है। ये पाचन क्रिया को बेहतर रखने में भी मददगार है।

#  नींबू और हल्दी पानी विटामिन सी के गुणों से भरपूर होता है. साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं. जिससे त्वचा के दाग-धब्बे साफ हो जाते हैं और त्वचा पर निखार आता है।

#  अगर आपको जोड़ों के दर्द की शिकायत है तो भी नींबू और हल्दी पानी पीना आपके लिए फायदेमंद रहेगा।

#  नींबू और हल्दी पानी मुंह की दुर्गध को दूर करने में मददगार है. साथ ही इसके इस्तेमाल से ताजगी बनी रहती है।
ये शरीर के पीएच लेवल को बनाए रखने में भी सहायक है।

#  नींबू और हल्दी पानी विटामिन सी और पोटैशियम के गुणों से भरपूर होता है। जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बूस्ट करने का काम करता है।

#  सुबह उठकर नियमित रूप से नींबू और हल्दी पानी पीने से दिनभर ताजगी बनी रहती है और शरीर में पानी की कमी नहीं होने पाती।

#  अगर आप वजन घटाने का प्रयास कर रहे हैं तो सुबह उठकर नींबू और हल्दी पानी पीने से बेहतर दूसरा कोई उपाय नहीं।

👉 इसे भी पढ़ें : 2 हरी मिर्च रात को पानी में भिगोकर 7 दिन पानी पीने से जो हुआ डाक्टर्स भी हैरान

हल्दी के चमत्कारी फ़ायदे

Health Benefits Of Turmeric In Hindi

मधुमेह के रोग  (Turmeric For Diabetes in hindi)

1 चम्मच पिसी हुई हल्दी को फांककर पानी पीने से मधुमेह में हो रहे बार-पेशाब से आराम मिलता है। या 8 ग्राम पिसी हल्दी रोजाना दो बार पानी के साथ फंकी लें। इससे, बार-बार और अधिक मात्रा में पेशाब का आना, ज्यादा प्यास लगना, आदि मधुमेह के रोगों से आराम मिलता है।

त्वचा के रोग (Turmeric For Skin Disease in hindi)

हल्दी को पीसकर तिल के तेल में मिलाकर मालिश करें इससे चर्म रोग खत्म हो जाएगा। या अगर शरीर में खुश्की (चमड़ी सूख) गई हो तो सरसों के तेल में हल्दी को मिलाकर शरीर पर उसकी मालिश करने से लाभ होता है।

हाथ-पैर फटना

कच्चे दूध में पिसी हुई हल्दी मिलाकर त्वचा पर मालिश करने से त्वचा मुलायम होती है। इससे हाथ-पैर भी नहीं फटते हैं और यदि फट भी गये हों तो उनमें हल्दी भर दें तो फायदा होगा।

चेहरे की झांइयां 

10-10 ग्राम हल्दी और तिल को पीसकर पानी में मिलाकर रात को सोते समय चेहरे पर लगाएं और सुबह गर्म पानी से धो लें। इससे चेहरा चमक उठता है।

टांसिल का बढ़ना (Turmeric For Tonsil in hindi)

2 चुटकी पिसी हुई हल्दी, आधी चुटकी पिसी हुई कालीमिर्च और 1 चम्मच अदरक के रस को मिलाकर आग पर गर्म कर लें और फिर शहद में मिलाकर रात को सोते समय पीने से 2 ही दिन में टांसिल की सूजन दूर हो जाती है।

👉 इसे भी पढ़ें : अगर आपके भी हैं मस्से तो उन्हें दूर कर सकती है बस एक माचिस

शरीर को शक्तिशाली बनाना 

लगभग 500 ग्राम की मात्रा में हल्दी की गांठे और एक किलो बुझा हुआ चूना लेकर इसको एक मिट्टी के बर्तन में डालकर इसमें ऊपर से 2 लीटर पानी डालें। पानी डालते ही चूना पकने लगता है और जब यह ठण्डा हो जाए तो बर्तन को ढककर रख दें। इसके बाद 2 महीने बाद हल्दी की गांठों को निकालकर पीसकर चूर्ण बना लें। हल्दी की गांठों के चूर्ण को 3 ग्राम की मात्रा में लेकर 10 ग्राम शहद के साथ मिलाकर लगातार 4 महीने तक रोजाना खाने से शरीर का खून साफ हो जाता है और इससे शरीर में भरपूर ताकत आती है।

चोट लगने पर 

चोट लगने पर एक चम्मच हल्दी गर्म दूध के साथ पीने से दर्द और सूजन दूर हो जाती है। चोट लगी जगह पर हल्दी को पानी में मिलाकर उसका लेप लगाएं और अगर चोट ज्यादा गहरा हो तो उसमें हल्दी भर दें इससे चोट जल्द भर जाएगी। आंख में चोट लगने पर भी हल्दी को खाया जा सकता है। घी, आधा चम्मच सेंधानमक, थोड़ा-सा पानी मिलाकर हलुवा सा बनाकर चोट पर रखकर बांधें। आधा लीटर उबलते हुए गर्म पानी में आधा चम्मच सेंधानमक डालकर हिलाएं फिर इसमें एक चम्मच हल्दी डालें और बर्तन को उतारकर रख दें जब पानी सेक करने लायक हो जाये तो कपड़ा भिगोकर चोट वाले अंग पर इससें सेंक करें। इससे दर्द में आराम मलेगा।

हड्डी के टूटने पर 

हड्डी के टूटने पर रोज हल्दी का सेवन करने से लाभ मिलता है। एक प्याज को पीसकर एक चम्मच हल्दी मिलाकर कपड़े में बांध लें। इसे तिल के तेल में रखकर गर्म करें और इससे फिर सेंक करें। कुछ देर सेंकने के बाद पोटली खोलकर दर्द वाले स्थान पर बांध दें।

दांत दर्द (Turmeric For Teeth in hindi)

हल्दी, नमक और सरसों का तेल मिलाकर रोज मंजन करें। इससे दांत मजबूत बनेंगे।

गठिया  (Turmeric For Arthritis in hindi)

गठिया के रोग में हल्दी के लड्डू खाने से लाभ होता है।

खुजली  (Turmeric For Itching in hindi)

शरीर के पीले रंग के दाने जिसमें मवाद भरी हो और उनमें खुजली हो तो, एक चम्मच हल्दी, एक कप गर्म दूध, चौथाई चम्मच देशी घी, स्वाद के लिए शक्कर डालकर सुबह शाम पियें।

👉 इसे भी पढ़ें : 6 लौंग 6 रात और परिणाम आप को हैरान कर देंगे !! 

चेचक 

हल्दी और इमली के बीज समान मात्रा में पीसकर चुटकी भर प्रतिदिन 7 दिनों तक लेने से माता (चेचक) नहीं निकलती है। चेचक के निकलने पर इमली के बीज का चूर्ण हल्दी में मिलाकर लेने से चेचक जल्द ही ठीक हो जाता है। चेचक के दानों में अगर घाव हो जाये तो पान के कत्थे को हल्दी के संग सूखा ही छिड़के तो वह ठीक हो जायेगा।

सौन्दर्यवर्धक

पिसी हुई हल्दी, चंदन का बुरादा, पिसे हुए हरे नीम के पत्ते प्रत्येक 2-2 चम्मच में लेकर मिला लें और चेहरे पर मलें। इससे चेहरा चमक उठेगा और इस प्रयोग से चेहरे के कील मुंहासें, दाग-धब्बे दूर हो जाएंगे। कुछ हफ्ते लगातार इसे मलने से चेहरे का रंग भी साफ हो जाता है।

आंखों के रोग (Turmeric For Eyes in hindi)

हल्दी को अरहर की दाल में पकायें और छाया में सुखा लें उसे पानी में घिसकर, शाम होने से पहले ही दिन में दो बार जरूर लगायें इससे झामर रोग, सफेद फूली और आंखों की लालिमा में लाभ होता है।

पथरी  (Turmeric For Stone in hindi)

हल्दी और पुराना गुड़ छाछ में मिलाकर सेवन करने से पथरी नष्ट हो जाती है।

मस्से  (Turmeric For Moles in hindi)

हल्दी की गांठ को अरहर की दाल में पकायें फिर छाया में सुखाकर, गाय के घी में पीसकर (मस्सों) पर उसका लेप करें, इससे मस्से तुरन्त नर्म हो जाते हैं और दर्द दूर होता है।

👉 इसे भी पढ़ें : सिर्फ़ 7 रातों तक सोते वक़्त अजवायन को चबाकर ऊपर से गरम पानी पीने के फ़ायदे जान हैरान रह जाओगे

बालों का आकर्षक (Turmeric For Hair in hindi)

कच्ची हल्दी में चुकन्दर के पत्तों का रस मिलाकर सिर में लगायें इससे बाल नहीं गिरते और नये बाल भी उगते हैं। बाल सुन्दर और आकर्षक भी बन जाते हैं।

दीर्घायु

हल्दी का सेवन नियमित रूप से करने से वृद्धावस्था में देर में आती है और लंबी आयु प्राप्त होती है।

श्वास, दमा रोग  (Turmeric For Asthma in hindi)

हल्दी को पीसकर इसका चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को तवे पर भूनकर शीशी में बंद करके रखें। इस चूर्ण को 5 ग्राम की मात्रा में हल्के गर्म जल के साथ प्रतिदिन सेवन करने से अस्थमा (दमा) के रोगी को बहुत लाभ मिलता है।

खांसी  (Turmeric For Cough in hindi)

खांसी, गले, सीने में घबराहट हो तो गर्म पानी में हल्दी और नमक को मिलाकर पी लें। हल्दी का छोटा सा टुकड़ा मुंह में डालकर चूसते रहने से खांसी कभी नहीं आएगी।

👉 इसे भी पढ़ें : इसके सिर्फ 2 दाने रोज खाने से शारीरिक कमजोरी जड़ से मिट जाती, मांसपेशियाँ मजबुत तो हड्डियाँ फौलाद

पायरिया 

हल्दी को बारीक पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर रख लें। रोजाना रात को सोते समय इस मिश्रण को दांतों पर मलें और बिना कुल्ला किए हुए सो जाएं। सुबह उठकर कुल्ला करने से पायरिया का रोग नष्ट होता है।

सूखी काली खांसी 

हल्दी की 3-4 गांठों को तवे पर भूनकर पीस लेते हैं। फिर इसे 3 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से सूखी काली खांसी दूर हो जाती है।

मसूढ़ों का रोग 

हल्दी को मोटा-मोटा कूटकर आग पर भून लें। इसे बारीक पीसकर कपड़े से छानकर प्रतिदिन सुबह-शाम मसूढ़ों पर मलें। इससे मसूढ़ों के रोग ठीक हो जाते हैं।

पेट के कीड़े 

हल्दी को तवे पर अच्छी तरह से भूनकर रख लें, फिर आधा चम्मच की मात्रा में रात को सोने से पहले पानी के साथ पीये। इससे पेट के कीडे़ नष्ट हो जाते हैं।

बवासीर (अर्श) (Turmeric For Piles in hindi)

हल्दी और कसी हुई लौकी का चूर्ण पानी के साथ पीसकर या सरसों के तेल में पका लें। उस तेल को मदार के पत्ते में लगाकर बवासीर के मस्सों पर लगायें और लंगोट कसें। इससे मस्से सूखकर गिर जाते हैं।

👉 इसे भी पढ़ें : चेहरे को कभी बूढ़ा नहीं होने देंगी ये दो पत्तियां ऐसे करें इस्तेमाल 

कान का बहना 

3 ग्राम हल्दी, 10 ग्राम नीम के पत्तों का चूर्ण और 10 ग्राम लहसुन की कलियों को 200 ग्राम सरसों के तेल में डालकर पका लें। इस तेल को बूंद-बूंद करके कान में डालने से कान में से मवाद का बहना ठीक हो जाता है।

चक्कर आना 

कच्ची (ताजी) हल्दी पीसकर सिर पर लेप की तरह से लगाने से चक्कर आना बंद हो जाता है।

एक्जिमा (Turmeric For Eczema in hindi)

वासा (अडू़सा) के कोमल पत्तों को हल्दी में मिलाकर गौमूत्र (गाय का पेशाब) के साथ पीसकर लेप करने से एक्जिमा से मुक्ति मिलती है।

बिवाई के फटने पर 

कच्चे दूध में पिसी हुई हल्दी को मिलाकर शरीर पर लेप करने से त्वचा मुलायम होती है और हाथ-पैर नहीं फटते हैं।

कृपया ध्यान दे

हल्दी का अधिक मात्रा में उपयोग हृदय के लिए हानिकारक हो सकता है।

👉 इसे भी पढ़ें : बुढ़ापे में भी घुटने रहेंगे चिकने, अगर खाली पेट पानी का इन भीगे हुए बीजों के साथ करेंगे सेवन

दोस्तों haldi ke fayde, haldi pani kaise banaye in hindi, haldi pani ka sevan kaise karna hai in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास haldi pani ke fayde labh kaise banaye aur nuksan in hindi के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply