भीगा हुआ चना खाने के फायदे bheega chana khane ke fayde in hindi

चना के फायदे इन हिंदी | भीगे चने खाने के फायदे और लाभ | मर्दों के लिए चने के फायदे | अंकुरित चना

आयुर्वेद में चने की दाल और चने को शरीर के लिए स्वास्थवर्धक बताया गया है। चने के सेवने से कई रोग ठीक हो जाते हैं। क्योंकि इसमें प्रोटीन, नमी, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, कैल्शियम और विटामिन्स पाये जाते हैं। भीगा हुआ चना 

चना दूसरी दालों के मुकाबले सस्ता होता है और सेहत के लिए भी यह दूसरी दालों से पौष्टिक आहार है। चना शरीर को बीमारियों से लड़ने में सक्षम बनाता है। साथ ही यह दिमाग को तेज और चेहरे को सुंदर बनाता है। चने के सबसे अधिक फायदे इन्हे अंकुरित करके खाने से होते है।

आइये जानें चने का पानी पीने के फायदे, चने के पानी के फायदे, भुने चने खाने के फायदे इन हिंदी, भुना चना खाने के फायदे, अंकुरित चने खाने के फायदे
   5 रूपए की ये सब्जी 3 दिन में करेगी किडनी की सफाई, अन्य रोगों से भी दिलाएगी मुक्ति

चने में प्रोटीन |  चने के फायदे

Chane Me Protein | Chane Ke Fayde

•   चना शरीर में ताकत लाने वाला और भोजन में रुचि पैदा करने वाला होता है।

•   सूखे भुने हुए चने बहुत रूक्ष और वात तथा कुष्ठ को नष्ट करने वाले होते हैं।

•   उबले हुए चने कोमल, रुचिकारक, पित्त, शुक्रनाशक, शीतल, कषैले, वातकारक, ग्राही, हल्के, कफ तथा पित्त नाशक होते हैं।

•   चना शरीर को चुस्त-दुरुस्त करता है।

•   खून में जोश पैदा करता है। यकृत (जिगर) और प्लीहा के लिए लाभकारी होता है।

•   तबियत को नर्म करता है। खून को साफ करता है।

•   आवाज को साफ करता है।

•   रक्त सम्बन्धी बीमारियों और वादी में लाभदायक होता है।

•   इसके सेवन से पेशाब खुलकर आता है।

•   इसको पानी में भिगोकर चबाने से शरीर में ताकत आती है।

भीगे चने कैसे खाएं | भीगा हुआ चना

Bheege Chane Ki Recipe

वैसे तो चने को आप खाने में जरूर इस्तेमाल करें। यह किसी दवा से कम नहीं है। चने खाने से एक नहीं कई फायदे मिलते हैं तो क्यों नहीं अंकुरित चनों का इस्तेमाल रोज किया जा सकता है। चना विशेषकर किशोरों, जवानों तथा शारीरिक मेहनत करने वालों के लिए पौष्टिक नाश्ता होता है।

1 इसके लिए 25 ग्राम देशी काले चने लेकर अच्छी तरह से साफ कर लें। मोटे पुष्ट चने को लेकर साफ-सुथरे, कीडे़ या डंक लगे व टूटे चने निकालकर फेंक देते हैं।

2 शाम के समय इन चनों को लगभग 125 ग्राम पानी में भिगोकर रख देते हैं।

3 सुबह के समय शौचादि से निवृत्त होकर एवं व्यायाम के बाद चने को अच्छी तरह से चबाकर खाएं और ऊपर से चने का पानी वैसे ही अथवा उसमें 1-2 चम्मच शहद मिलाकर पी जाएं।

4 देखने में यह प्रयोग एकदम साधारण लगता है किन्तु यह शरीर को बहुत ही स्फूर्तिवान और शक्तिशाली बनाता है।

5 चने की मात्रा धीरे-धीरे 25 से 50 ग्राम तक बढ़ाई जा सकती है।

6 भीगे हुए चने खाने के बाद दूध पीने से शारीरिक बल पुष्ट होता है। व्यायाम के बाद रात के भीगे हुए चने, चने का पानी के साथ पीने से स्वास्थय अच्छा बना रहता है।

chane ka pani ke fayde
नोट

जिसकी पाचक शक्ति (भोजन पचाने की शक्ति) कमजोर हो, या चना खाने से पेट में गैस होता है तो उन्हें चने का सेवन नहीं करना चाहिए।

मर्दों के लिए चना के फायदे

चना न्यूट्रिएंट्स के मामले में बादाम से ज्यादा फायदेमंद होता है। आयुर्वेद में चने की दाल और चने को शरीर के लिए बेहद स्वास्थवर्धक बताया गया है। चने के सेवन से कई बीमारियां दूर हो जाती हैं। भीगे हुए चने में प्रोटीन, फाइबर, मिनरल और विटामिन्स भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो कई बीमारियों से बचाने के साथ-साथ हेल्दी रहने में भी हमारी मदद करते हैं। वैसे तो हर इंसान के लिए चने खाने के अपने अलग ही फायदे हैं, लेकिन खासकर मर्दों को तो ये जरूर खाने चाहिये। क्योंकि चना शरीर को बीमारियों से लड़ने में काफी सक्षम बनाता है।

   7 दिन में करें दाढ़ी और मूछों के सफ़ेद बालों को काला, करें ये रामबाण प्रयोग

अंकुरित चना

अंकुरित चने खाना बहुत ही लाभप्रद होता है। अंकुरित चना मांसपेशियों को सुदृढ़ व शरीर को वज्र के समान बना देता है तथा यह सभी चर्म रोगों को नष्ट करता है। विटामिन-सी की अधिकता वाला यह वजन को बढ़ाता है। खून में वृद्धि करता है और उसे साफ करता है। इसके अतिरिक्त अंकुरित चने का सेवन करने से फेफड़े मजबूत होते हैं। यह रक्त में कोलेस्ट्राल को कम करता है और दिल की बीमारियों को दूर करने में सहायक होता है।

चने अंकुरित करने की विधि 

Ankurit Chana Kaise Banaye

अंकुरित चने कैसे बनाये  |  चना अंकुरित कैसे करे

1 अंकुरित करने के लिए चने को अच्छी तरह पानी में साफ करके इतने पानी में भिगोएं कि उतना पानी चना सोख ले।

2 इसे सुबह के समय पानी में भिगो दो और रात में साफ, मोटे, गीले कपडे़ या उसकी थैली में बांधकर लटका देते हैं।

3 गर्मी में 12 घंटे और सर्दी के मौसम में 18 से 24 घंटों के बाद भिगोकर गीले कपड़ों में बांधने से दूसरे, तीसरे दिन उसमें अंकुर निकल आते हैं।

4 गर्मी में थैली में आवश्यकतानुसार पानी छिड़कते रहना चाहिए। इस प्रकार चने अंकुरित हो जाएंगे।

5 अंकुरित चनों का नाश्ता एक उत्तम टॉनिक है। अंकुरित चनों में कुछ व्यक्ति स्वाद के लिए कालीमिर्च , सेंधानमक, अदरक की कुछ कतरन एवं नींबू के रस की कुछ बून्दे भी मिलाते हैं परन्तु यदि अंकुरित चने को बिना किसी मिलावट के साथ खाएं तो यह बहुत अधिक उत्तम होता है।

भीगा हुआ चना खाने के फायदे

Benefits Of Eating Bhige Chane

1 शरीर को कोई बीमारी नहीं लगती (Bheege Chane For Healthy Body)

शरीर को सबसे ज्यादा पोषण काले चनों से मिलता है। काले चने अंकुरित होने चाहिए। क्योंकि इन अंकुरित चनों में सारे विटामिन्स और क्लोरोफिल के साथ फास्फोरस आदि मिनरल्स होते हैं जिन्हें खाने से शरीर को कोई बीमारी नहीं लगती है।

क्या करें

काले चनों को रातभर भिगोकर रख लें और हर दिन सुबह दो मुट्ठी खाएं। कुछ ही दिनों में र्फक दिखने लगेगा।

■   कैंसर के मरीजों के लिए वरदान है ये फल, कीमोथेरेपी से है 10 हज़ार गुना अधिक प्रभावशाली

2 वजन कम करना (Bheege Chane For Weight Loss)

अगर आपको अपना वजन कम करना है तो करें ये प्रयोग-

क्या करें

रोज़ाना सुबह उठकर खाली पेट भीगे हुए चने खाएं।

3 कब्ज और पेट दर्द (Bheege Chane For Stomachache & Constipation)

रातभर भिगे हुए चनों से पानी को अलग कर उसमें अदरक, जीरा और नमक को मिक्स कर खाने से कब्ज और पेट दर्द से राहत मिलती है।

4 शरीर की ताकत 

शरीर की ताकत बढ़ाने के लिए करें ये प्रयोग –

क्या करें

अंकुरित चनों में नींबू, अदरक के टुकड़े, हल्का नमक और काली मिर्च डालकर सुबह नाश्ते में खाएं। आपको पूरे दिन की एनर्जी मिलेगी।

5 चने का सत्तू

चने का सत्तू भी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद औषघि है। शरीर की क्षमता और ताकत को बढ़ाने के लिए करें ये प्रयोग –

क्या करें

गर्मीयों में आप चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलकार पी सकते हैं। यह भूख को भी शांत रखता है।

■   इस फल को खाएं, उग आएंगे सिर के उड़े हुए बाल…….!

6 पथरी की समस्या में चना (Bheege Chane For Stone)

प्रयोग 1

रातभर भिगोए चनों में थोड़ा शहद मिलाकर रोज सेवन करें। नियमित इन चनों का सेवन करने से पथरी आसानी से निकल जाती है।

प्रयोग 2

इसके अलावा आप आटे और चने का सत्तू को मिलाकर बनी रोटियां भी खा सकते हो।

7 शरीर की गंदगी साफ करना

काला चना शरीर के अंदर की गंदगी को अच्छे से साफ करता है। जिससे डायबिटीज, एनीमिया आदि की परेशानियां दूर होती हैं। और यह बुखार आदि में भी राहत देता है।

8 डायबिटीज के मरीजों के लिए (Bheege Chane For Diabetes)

चना ताकतवर होता है। यह शरीर में ज्यादा मात्रा में ग्लूकोज को कम करता है जिससे डायबिटीज के मरीजों को फायदा मिलता है।

इसलिए अंकुरित चनों को सेवन डायबिटीज के रोगियों को सुबह-सुबह करना चाहिए।

9 मूत्र संबंधी रोग (Bheege Chane For Urine Disease)

प्रयोग 1

मूत्र से संबंधित किसी भी रोग में भुने हुए चनों का सवेन करना चाहिए। इससे बार-बार पेशाब आने की दिक्कत दूर होती है।

प्रयोग 2

भुने हुए चनों में गुड मिलाकर खाने से यूरीन की किसी भी तरह समस्या में राहत मिलती है।

10 पीलिया के रोग में (Bheege Chane For Jaundice)

पीलिया की बीमारी में चने की 100 ग्राम दाल में दो गिलास पानी डालकर अच्छे से चनों को कुछ घंटों के लिए भिगो लें और दाल से पानी को अलग कर लें अब उस दाल में 100 ग्राम गुड़ मिलाकर 4 से 5 दिन तक रोगी को देते रहें। पीलिया से लाभ जरूरी मिलेगा।

पीलिया रोग में रोगी को चने की दाल का सेवन करना चाहिए।

■   10 रूपए की ये सब्जी 5 दिनों में करे हृदयाघात की रोकथाम, करेगी पेट के सभी विकारों को भी दूर

11 मुंह का सौंदर्य (Bheege Chane For Beautiful Face)

चना के बेसन में नमक मिलाकर अच्छी तरह गौन्दकर लेप बना लें। इस लेप को चेहरे पर मलने से त्वचा में झुर्रियां नहीं आती हैं और चेहरा सुन्दर रहता है।

12 मोच में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Sprain)

मोच के स्थान पर चने बांधकर उन्हें पानी से भिगोते रहें-जैसे-जैसे चने फूलेंगे मोच अपने आप ही दूर हो जायेगी।

13 पथरी में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Pathri)

गुर्दे या मूत्राशय में पथरी हो तो रात को एक मुट्ठी चने की दाल को भिगो देते हैं। सुबह के समय इस दाल को शहद मिलाकर खाने से लाभ मिलता है।

14 अम्लपित्त 

काले चनों और कालीमिर्च को मिलाकर पीसकर चटनी की तरह सेवन करने से अम्लपित्त शांत हो जाती है।

चने की सब्जी खाने से गले की जलन कम हो जाती है।

■   कैसी और कितनी ही पुरानी पाइल्स की बीमारी क्यों न हो, यह चमत्कारी उपाय करे 3 दिन में ठीक

15 दर्द व सूजन में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Pain & Swelling)

कमर, हाथ, पैर या कहीं भी दर्द हो वहां बेसन डालकर रोजाना मालिश करें। इस तरह मालिश करने से दर्द और सूजन ठीक हो जाती है।

16 शीतपित्त 

चने से बने मोतिया लड्डुओं पर कालीमिर्च डालकर खाने से पित्ती ठीक हो जाती है।

17 मधुमेह के रोग में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Diabetes)

प्रयोग 1

चने और जौ के आटे की रोटी खाने से मधुमेह रोगी को फायदा मिलता है।

प्रयोग 2

7 दिनों तक केवल चने की रोटी खायें। गूलर के पत्तों को उबालकर उसी पानी से नहायें। थोड़ा-थोड़ा पानी पीयें। पेशाब में शक्कर (चीनी) आना बंद हो जायेगी और मधुमेह में लाभ होगा।

प्रयोग 3

रात को लगभग 30 ग्राम काले चने दूध में भिगो दें और सुबह उठते ही खा लें।

प्रयोग 4

चने और जौ को बराबर मात्रा में मिलाकर इसके आटे की रोटी सुबह-शाम खायें। केवल चने (बेसन) की रोटी ही 10 दिन तक खाते रहने से पेशाब में शक्कर आना बंद हो जाता है।

प्रयोग 5

25-30 ग्राम काले चनों को दूध में भिगो दें। सुबह इसका सेवन करें। चने और जौ को बराबर मात्रा में पीसकर उसकी रोटी खायें। इससे पेशाब में शक्कर आना कम हो जाता है।

18 ट्यूमर में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Tumor)

चने का आटा गूगल में मिलाकर, टिकिया बनाकर गिल्टी (ट्यूमर) पर रखें। इससे गिल्टी (ट्यूमर) की सूजन दूर होती है।

19 सभी प्रकार के दर्द होने पर (Bheege Chane For Pain)

भुने हुऐ चनों को खाने से `अन्नद्रव शूल´ यानी अनाज के कारण होने वाला दर्द ठीक हो जाता है।

■   भोजन में करें ये छोटा सा परिवर्तन, कभी नहीं होगा कैंसर

20 चेहरे की झांई के लिए 

2 बड़े चम्मच चने की दाल को आधा कप दूध में रात को भिगोकर रख दें। सुबह दाल को पीसकर उसी दूध में मिला लें। फिर इसमें एक चुटकी हल्दी और 6 बूंदे नींबू की मिलाकर चेहरे पर लगाकर रखें। सूखने पर चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। इस पैक को सप्ताह में तीन बार लगाने से चेहरे की झाईयां दूर हो जाती हैं।

21 खाज-खुजली में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Khaj Khujli)

बिना नमक के चने के आटे की रोटी को लगातार 64 दिन तक खाने से दाद, खुजली आदि रोग मिट जाते हैं।

22 घबराहट या बेचैनी (Bheege Chane For Nervousness)

लगभग 50 ग्राम चना और 25 दाने किशमिश को रोजाना रात में पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट चने और किशमिश खाने से घबराहट दूर हो जाती है।

23 दिल के रोग (Bheege Chane For Heart Disease)

दिल के रोगियों को काले चने उबालकर उसमें सेंधानमक डालकर खाना चाहिए।

24 त्वचा के रोग के लिए (Bheege Chane For Skin Problems)

चने की रोटी खाने से या अंकुर फूटे हुए चने खाने से हर प्रकार के त्वचा के रोग दूर हो जाते हैं।

25 निम्नरक्तचाप में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Low Blood Pressure)

20 ग्राम काला चना और 25 दाने किशमिश या मुनक्का रात को ठण्डे पानी में भिगो दें। सुबह रोजाना खाली पेट खाने से निम्न रक्तचाप (लो ब्लड प्रेशर) में लाभ होगा और साथ ही साथ चेहरे की चमक बढ़ जाती है।

26 दाद (Bheege Chane For Daad)

64 दिन तक लगातार बिना नमक के चने के आटे की रोटी खाने से दाद, खुजली और खून की खराबी दूर हो जाती है।

■   घुटने में घिसाव आ जाने पर करें ये रामबाण प्रयोग, लंबाई बढ़ाने में भी है कारगर, शरीर के दर्द को करे मिनटों में दूर

27 पीलिया का रोग में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Piliya)

प्रयोग 1

जौ के सत्तू की तरह चना का सत्तू भी पीलिया रोग में लाभदायक है।

प्रयोग 2

1 मुट्ठी चने की दाल को 2 गिलास पानी में भिगो दें। फिर दाल को निकालकर बराबर मात्रा में गुड़ मिलाकर 3 दिन तक खाना चाहिए। प्यास लगने पर दाल का वहीं पानी पीना चाहिए। इससे पीलिया रोग नष्ट हो जाता है।

28 मानसिक उन्माद (पागलपन)

प्रयोग 1

पित्त (गर्मी) के कारण पागलपन हो तो शाम को 50 ग्राम चने की दाल पानी में भिगो देते हैं। सुबह के समय पीसकर चीनी और पानी मिलाकर 1 गिलास भरकर पीने से पागलपन के रोग में लाभ होता है।

प्रयोग 2

चने की दाल को भिगोकर उसका पानी पिलाने से उन्माद (मानसिक पागलपन) और उल्टी ठीक हो जाती है।

29 सौन्दर्यवर्द्धक (Bheege Chane For Beauty)

प्रयोग 1

चावल, जौ, चना, मसूर और मटर को बराबर की मात्रा में लेकर बारीक पीस लें। इसमें से थोड़ा-थोड़ा चूर्ण लेकर लेप बना लें और चेहरे पर लगायें। थोड़े दिनों तक यह लेप रोजाना चेहरे पर लगाने से चेहरा चमक उठेगा।

प्रयोग 2

बेसन से चेहरा धोने से चेहरे के धब्बे, झांई मिट जाती हैं। चेहरा सुन्दर निकलता है।

प्रयोग 3

तेज धूप, गर्मी, लू से त्वचा की रक्षा के लिए बेसन को दूध या दही में मिलाकर गाढ़ा लेप बना लें। इसे सुबह-शाम आधा घंटे चेहरे पर लगा रहने दें। इससे रूप निखर जाता है।

30 शरीर की जलन में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Body Irritation)

2 मुट्ठी भर चने का छिलका लें। फिर 2 गिलास पानी लेकर एक मिट्टी के बर्तन में डाल दें और चने का छिलका उसमें भिगो दें। सुबह उठने पर इस पानी को छानकर पी जायें इससे शरीर की जलन बिल्कुल मिट जाती है।

31 सदमा (Bheege Chane For Shock)

20 ग्राम काले चने और 25 दाने किशमिश या मुनक्कों को ठण्डे पानी में शाम को भिगोकर रख दें। सुबह उठकर इनको खाली पेट खाने से सदमे आना बंद हो जाता है।

32 बालरोग 

चने के आटे को खूब बारीक पीसकर पानी में मिलाकर गर्म करके बच्चे के पेट पर मालिश करने से आराम आता है।

■   7 दिन में उतारें आँखों का चश्मा, आँखों से जुड़े सभी रोगों में रामबाण है ये सरल अचूक नुस्खा

33 जलने पर 

चने को दही के साथ पीसकर शरीर के जले हुए भाग पर लगाने से तुरन्त आराम आ जाता है।

34 सफेद दाग (Bheege Chane For Safed Daag)

मुट्ठी भर काले चने और 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण (हरड़, बहेड़ा, आंवला) को 125 मिलीलीटर पानी में भिगो दें। कम से कम 12 घंटों के बाद इन चनों को मोटे कपड़े में बांधकर रख दें और बचा हुआ पानी कपडे़ की पोटली के ऊपर डाल दें।

फिर 24 घंटे के बाद पोटली को खोल दें अब तक इन चनों में से अंकुर निकल आयेंगे। यदि किसी मौसम में अंकुर न भी निकले तो चनों को ऐसे ही खा लें। इस तरह से अंकुरित चनों को चबा-चबाकर लगातार 6 हफ्तों खाने से सफेद दाग दूर हो जाते हैं।

35 सिर का दर्द (Bheege Chane For Headache)

प्रयोग 1

सिर में दर्द होने पर कच्चे चनों का जूस बनाकर पीने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है। इसके अलावा नजला-जुकाम भी ठीक हो जाता है।

प्रयोग 2

100 ग्राम नुकती, दाने या मोतीचूर के लड्डू पर आधा चम्मच घी और 10 पिसी हुई कालीमिर्च डालकर खाने से कमजोरी से होने वाला सिर दर्द समाप्त हो जाता है।

36 त्वचा का मुलायम और चमकदार होना (Bheege Chane For Soft Glowing Skin)

चने के बेसन को गुलाबजल में घोलकर चेहरे और पूरे शरीर पर मल लें। 10 मिनट के बाद नहा लें। इससे त्वचा में जो चिकनाई होती है वह निकल जाती है।

37 शरीर को मोटा और शक्तिशाली बनाना

लगभग 50 ग्राम की मात्रा में चने की दाल को लेकर शाम को 100 मिलीलीटर कच्चे दूध में भिगोकर रख दें। अब इस दाल को सुबह उठकर किशमिश और मिश्री में मिलाकर अच्छी तरह से चबाकर खायें।

इसका सेवन लगातार 40 दिनों तक करना चाहिए। इससे शरीर को ताकत मिलती है और मनुष्य का बल भी बढ़ता है।

38 शरीर की लम्बाई (Bheege Chane For Height)

रात को सोते समय थोड़े से देशी चने लेकर उनको पानी में भिगोकर रख दें। सुबह उठकर गुड़ के साथ इन चनों को रोजाना खूब चबाकर खाने से शरीर की लम्बाई बढ़ती है।

चनों की मात्रा शरीर की पाचन शक्ति के अनुसार बढ़ानी चाहिए। इन चनों को 2-3 तीन महीने तक खाना चाहिए।

■   शरीर के किसी भी हिस्से की नसों में होने वाले दर्द का घर पर इलाज करने का अचूक उपाय

39 जुकाम में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Cold)

प्रयोग 1

50 ग्राम भुने हुए चनों को एक कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। इस पोटली को हल्का सा गर्म करके नाक पर लगाकर सूंघने से बंद नाक खुल जाती है और सांस लेने में परेशानी नहीं होती है।

प्रयोग 2

गर्म-गर्म चने को किसी रूमाल में बांधकर सूंघने से जुकाम ठीक हो जाता है।

प्रयोग 3

चने को पानी में उबालकर इसके पानी को पी जायें और चने को खा लें। चने में स्वाद के लिए कालीमिर्च और थोड़ा-सा नमक डाल लें। चने का सेवन करना जुकाम में बहुत लाभ करता है।

40 खूनी बवासीर में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Piles)

सेंके हुए गर्म-गर्म चने खाने से खूनी बवासीर में लाभ मिलता है

41 कब्ज में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Constipation)

प्रयोग 1

1 या 2 मुट्ठी चनों को धोकर रात को भिगो दें। सुबह जीरा और सोंठ को पीसकर चनों पर डालकर खाएं।

प्रयोग 2

घंटे भर बाद चने भिगोये हुए पानी को भी पीने से कब्ज दूर होती है।

प्रयोग 3

अंकुरित चना, अंजीर और शहद को मिलाकर या गेहूं के आटे में चने को मिलाकर इसकी रोटी खाने से कब्ज मिट जाती हैं।

प्रयोग 4

रात को लगभग 50 ग्राम चने भिगो दें। सुबह इन चनों को जीरा तथा नमक के साथ खाने से कब्ज दूर हो जाती है।

42 रूसी में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Dandruff)

4 बड़े चम्मच चने का बेसन एक बड़े गिलास पानी में घोलकर बालों पर लगायें। इसके बाद सिर को धो लें। इससे सिर की फरास या रूसी दूर हो जाती है।

43 श्वास नली के रोग में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Respiratory Disease)

रात को सोते समय एक मुट्ठी भुने या सेंके हुए चने खाकर ऊपर से एक गिलास दूध पीने से श्वास नली (सांस की नली) में जमा हुआ बलगम निकल जाता है।

44 शरीर में दर्द (Bheege Chane For Body Ache )

कमर, हाथ-पैर जहां कहीं भी दर्द हो, उस जगह पर बेसन डालकर रोजाना मालिश करें। एक बार मालिश किये हुए बेसन को दुबारा मालिश के काम में ला सकते हैं। इस तरह से मालिश करने से दर्द ठीक हो जाता है।

■   पेट में गैस बनने की समस्या से तुरंत छुटकारा पाने का आसान सा घरेलु उपाय

45 शरीर पुष्टि 

भीगी हुई चने की दाल में शक्कर मिलाकर रात को सोते समय खाएं। इससे शरीर पुष्ट होता है। इसे खाकर पानी न पिये।

46 दाद-खुजली (Bheege Chane For Daad Khujli)

चने के आटे की रोटी बिना नमक की लगभग 2 महीने तक लगातार खाने से दाद, खुजली और रक्तविकार (खून के रोग) नष्ट हो जाते हैं। इसके साथ घी भी ले सकते हैं।

47 त्वचा का कालापन 

लगभग 12 चम्मच बेसन, 3 चम्मच दही या दूध, थोड़ा सा पानी सभी को मिलाकर पेस्ट सा बनाकर पहले चेहरे पर मले और फिर सारे शरीर पर मलने के लगभग 10 मिनट बाद स्नान करें तथा स्नान में साबुन का उपयोग न करें।

इस प्रकार का उबटन करते रहने से त्वचा का कालापन दूर हो जाएगा।

48 तेलीय त्वचा में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Oily Skin)

यदि चिकनी त्वचा है तो बेसन में गुलाबजल मिलाकर चेहरे व शरीर पर लगाएं। इससे त्वचा का तैलीयपन हट जाता है।

49 चेहरे का सौंदर्यवर्धक (Bheege Chane For Beautiful Skin)

चने की भीगी हुई दाल को पीसकर उसमें हल्दी तथा कुछ बूंदे किसी तेल की डालकर उबटन बनाएं। यह बहुत ही लाभकारी होता है।

51 सफेद दाग (Bheege Chane For White Spot )

मुट्ठी भर काले चने और 10 ग्राम त्रिफला (हरड़, बहेड़ा, आंवला) को 125 मिलीलीटर पानी में भिगो देते हैं। 24 घंटे बाद अंकुर निकलने पर इन चनों को चबा-चबाकर लगातार कुछ महीने तक खाते रहने से सफेद दाग नष्ट हो जाते हैं।

52 पित्ती

100 ग्राम चने के बेसन से बने मोतिया लड्डुओं के साथ 10 पिसी कालीमिर्च मिलाकर खाने से पित्ती की गर्मी में लाभ मिलता है।

■   जल्दी पतला होने और पेट अन्दर करने की आयुर्वेदिक दवा

53 पेशाब का बार-बार आना (Bheege Chane For Urine Problems)

प्रयोग 1

25 से 50 ग्राम की मात्रा में भुने हुए चने खूब चबाकर खायें बाद में ऊपर से थोड़ा गुड़ खाकर पानी पी लें।

प्रयोग 2

आधा महीने तक यह प्रयोग लगातार आधा पेट खाना खाने के बाद करें यदि पाचन क्रिया खराब हो तो इसे न लें।

54 श्वास या दमा का रोग (Bheege Chane For Breathing Problems)

प्रयोग 1

भुने हुए चने रात में खाकर ऊपर से गर्म दूध पीने से सांस की नली का बलगम निकल जाता है।

प्रयोग 2

लगभग 150 ग्राम सेंके हुए चने व 150 ग्राम खेरी गोन्द को अलग-अलग पीसकर चूर्ण बनाकर दोनों को मिला देते हैं। दिन में 3-4 बार 2-3 चुटकी चाटते रहने से श्वास रोग (दमा) में लाभ मिलता है।

55 खांसी में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Cough)

चने का जूस बनाकर पीने से जुकाम और कफज-बुखार में लाभ मिलता है।

56 गैस्ट्रिक अल्सर में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Ulcer)

चने का सत्तू बनाकर पीने से गैस्ट्रिक के मरीज को लाभ होता है।

57 अतिक्षुधा भस्मक रोग (भूख अधिक लगना) (Bheege Chane For Frequent Appetite)

चने को पानी में भिगोकर रातभर रख दें। सुबह इसका पानी पीने से भस्मक-रोग (बार-बार भूख लगना) मिट जाता है।

58 वमन (उल्टी) (Bheege Chane For Vomit)

प्रयोग 1

चनों को रात को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इसका पानी पी लें।

प्रयोग 2

अगर किसी गर्भवती औरत को उल्टी हो रही हो तो भुने हुए चने का सत्तू (जूस) बनाकर पिलायें।

प्रयोग 3

कच्चे चनों को पानी में भिगोकर रख दें। फिर कुछ समय बाद उसी पानी को छानकर पीने से उल्टी होना बंद जाती है।

■   भूनी हुई गोंद 80 साल के बुढ़ापे में भी जवानी भर दे

59 हिचकी का रोग (Bheege Chane For Hiccups)

प्रयोग 1

चने की भूसी चिलम में रखकर पीने से हिचकी बंद हो जाती है।

प्रयोग 2

चना और अरहर की भूसी चिलम में रखकर पीने से हिचकी नहीं आती है।

60 कुष्ठ रोग में चना (Bheege Chane For Leprosy)

कुष्ठ रोग से ग्रसित इंसान यदि तीन साल तक अंकुरित चने खाएं। तो वह पूरी तरह से ठीक हो सकता है।

61 अस्थमा रोग में में भीगा हुआ चना  (Bheege Chane For Asthma )

इस उपाय से अस्थमा रोग ठीक होता है।

क्या करें

चने के आटे का हलवा खाना चाहिए।

62 त्वचा की समस्या में में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Skin Problems)

इसे करने से थोड़े ही दिनों में खाज, खुजली और दाद जैसी त्वचा से संबंधित रोग ठीक हो जाते हैं।

क्या करें

चने के आटे का नियमित रूप से सेवन करें।

63 कफ और सांस की नली से संबंधित रोग में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Mucus)

यह कफ और सांस की नली से संबंधित रोगों को ठीक कर देता है।

क्या करें

भुने हुए चनों को रात में सोते समय अच्छे से चबाकर खाएं और इसके बाद दूध पी लें।

64 चेहरे की चमक में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Glowing Skin)

प्रयोग 1

चेहरे की रंगत को बढ़ाने के लिए नियमित अंकुरित चनों का सेवन करना चाहिए।

प्रयोग 2

आप चने का फेस पैक भी घर पर बनाकर इस्तेमाल कर सकेत हो। चने के आटे में हल्दी मिलाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा मुलायम होती है।

प्रयोग 3

महिलाओं को हफ्ते में कम से कम एक बार चना और गुड जरूर खाना चाहिए।

65 दाद खाज और खुजली में भीगा हुआ चना (Bheege Chane For Herpes And Itching)

इस प्रयोग को करने से त्वचा की बीमारियां जैसे खुजली, दाद और खाज खत्म हो जाती हैं।

क्या करें

एक महीने तक चने के आटे की रोटी का सेवन करें।

   थायरॉइड का पक्का इलाज जिसे बताया है महर्षि चरक ने चरक संहिता में, एक बार जरूर पढ़ें
Loading...

Leave a Reply