आपको शायद ही कुछ ऐसे लोग मिलेंगे जो किसी भी प्रकार की दवाइयों का सेवन ना रहे हों। कोई मधुमेह या बीपी से परेशान है, तो किसी को मामूली सा कफ या सर्दी-जुखाम ही हो गया है… यानी कहने का मतलब है कि हर कोई किसी ना किसी रूप में दवाइयों का सेवन कर रहा है। कई लोग जल्‍दी ठीक होने के लिये दवाइयों का सेवन दूध, फ्रूट जूस या कॉफी पीते-पीते कर लेते हैं। तो कई लोग यह मानते हैं कि अगर जल्‍दी बीमारी ठीक करनी हो है, तो ढेर सारी हरी सब्‍जियां और फल खाओ।

कफ के सीरप के साथ नींबू या संतरे

कफ के सीरप के साथ नींबू या संतरे ना खाएं। इसके साइड इफेक्‍ट की वजह से आपको मतिभ्रम या चक्‍कर आ सकते हैं। फल खाने का असर आपके शरीर में 24 घंटों तक बना रह सकता है इसलिये जब भी कफ का सीरप पियें तो नींबू या संतरे से दूर रहें।

कॉफी

कॉफी इसके साथ आपको Bronchodilators जो कि अस्‍थमा की दवाई होती है, नहीं लेनी चाहिये। जब इसे कॉफी के साथ मिक्‍स किया जाता है तो धड़कन, घबराहट और उत्तेजना बढ जाती है।

दूध

अगर एंटीबायोटिक दवाएं खाते हैं तो दूध ना पियें। Ciprofloxacin और tetracycline जैसी दवाइयों को खाना खाने के एक घंटे पहले या खाना खाने के दो घंटे के बाद पानी के साथ खाएं। दूध पीने से ये दवाइयां शरीर में ठीक प्रकार से घुल नहीं पाएंगी और साइड इफेक्‍ट ऊपर से होगा।

milk-500_0

केला

केले के साथ ब्‍लड प्रेशर की दवाइयां ना लें। केले में पोटैशियक की मात्रा अधिक होती है, जो कि अच्‍छी बात है लेकिन वे लोग जो ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल करने की दवाइयां खाते हैं उनके अंदर केला खाने से पोटैशियम की मात्रा बढ सकती है, जो उनकी धड़कन और घबराहट बढ़ा सकती है।

मुसम्‍बी

इसके साथ Statins नामक दवा ना खाएं, जो ब्‍लड प्रेशर को कम करने का काम करती है। मुसम्‍बी में एक प्रकार का कैमिकल होता है जो Statins को शरीर में घुलने से रोकता है। ऐसे में अगर आप लापरवाही करेंगे तो आपकी मासपेशियों में दर्द होने लगेगा।

शराब

शराब ना पियें अगर आप पेनकिलर, डायबिटीज की दवा या फिर एंटीथिस्टेमाइंस की दवाओं का सेवन कर रहे हों तो। वैसे भी दवाइयों में शराब ना सेवन करने की चेतावनी साफ लिखी होती है। शराब पीने से जिगर पर दबाव पड़ता है जिस वजह से वह दवाइयों को तोड़ने में असमर्थ हो जाता है। इस वजह से नींद आ सकती है और अगर आपके जिगर को कड़ी महनत करनी पड़ेगी तो वह डैमेज भी हो सकता है।

alcohol

नद्यपान जड़

इसे ना खाएं अगर आप हार्ट की दवाइयां खाते हैं तो। नद्यपान की जड़ें शरीर में पोटैशियम की मात्रा को घटाती हैं, जो कि हृदय संबन्‍धित बीमारियों वालों के लिये खतरनाक है। शरीर में कम पोटैशियम की वजह से हार्ट फेलियर और दिल की लय का असामान्य रूप से बढ़ना और घटना लगा रह सकता है।

हरी सब्‍जियां

पत्‍तेदार सब्‍जियों का सेवन ना करें अगर आप एंअीकॉगूलेंट्स (रक्‍त को पतला करने वाली दवा) जैसे, वारफ्रेन आदि खाते हों तो। हरी पत्‍तेदार सब्‍जियों में विटामिन के होता है जिससे रक्‍त जमने लगता है। वारफ्रेन नामक दवा विटामिन के से बचाने का काम करती है, पर यदि आप दवा खाने के तुरंत बाद हरी सब्‍जियां खाएंगे तो यह दवा काम नहीं करेगी।

green veggies

Loading...

Leave a Reply