हमारे हाथ हमें कई बीमारियों से लड़ने की ताकत देते हैं। ये हमें रोग से छुटकारा पाने में सहायक सिद्ध होते हैं। यही कारण है कि हमारे शास्त्र हमें हस्त मुद्राओं का ज्ञान देते हैं।

ये मुद्राएं शुरू में तो तप साधनाओं के लिए प्रयोग की जाती थीं, लेकिन बाद में इनका वैज्ञानिक संदर्भ समझते हुए इन्हें निजी रूप से भी इस्तेमाल में लाया गया। लेकिन आज हम मुद्राओं की नहीं, केवल हाथ की अंगुलियों की बात करेंगे।

■  डॉक्टरों की भी बोलती बंद हो गयी इस उपाय को देखकर –10 दिन में बालों का झड़ना बंद और 30 दिन में नए बाल

अंगुलियों से मिलने वाले फायदे

आपके हाथ की अंगुलियां आपके शरीर के विभिन्न अंगों से जुड़ी हैं। दरअसल यहां हम आपके हाथ की अंगुलियों के बीच की नसों की बात कर रहे हैं। इन अंगुलियों की कई सारी नसें ऐसी हैं जिनका कहीं ना कहीं संबंध अन्य शारीरिक अंगों से है।

विशेषज्ञों का कहना है कि शरीर के किसी अंग में दर्द है, परेशानी है तो इन अंगुलियों से उसका इलाज किया जा सकता है। लेकिन कैसे? जानिए आगे की स्लाइड्स में…

तर्जनी अंगुली

जिसे हम अंग्रेजी में इंडेक्स फिंगर भी कहते हैं, इसे अगर आप हल्के हाथ से मसलेंगे तो आपको पेट संबंधी तकलीफों से छुटकरा मिलेगा। खासतौर से अगर आपको कब्ज की दिक्कत बनी रहती है, तो रोजाना दिन में 2-3 बार इस अंगुली को केवल 60 सेकेंड के लिए मसलें।

■  खाली पेट लहसुन खाने से होते हैं ये जबरदस्त फायदे, 7 दिन तक खाएं और देखें कमाल

मध्यम अंगुली

क्या आपको नींद नहीं आती? तो सोने से पहले केवल एक मिनट के लिए अपनी मिडल फिंगर को मसलें। यह आपके ब्ल्ड प्रेशर को नियंत्रित करेगी, मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाएगी और आपको अच्छी नींद आएगी।

अनामिका अंगुली

अर्थात आपकी रिंग फिंगर, इसे मसलने के भी अनेक फायदे हैं। इसको मसलने से भी पेट संबंधी तकलीफों से छुटकारा मिलता है। यह अंगुली लंबे समय से चली आ रही कब्ज की परेशानी को भी मात दे सकती है।

कनिष्ठिका अंगुली

यानी की हाथ की सबसे छोटी अंगुली, ये दिखने में छोटी है लेकिन बड़े-बड़े कमाल करके दिखा सकती है। इसको मात्र एक मिनट मसलने से माइग्रेन की प्रॉब्लम से छुटकारा पाया जा सकता है।

■  शरीर में गाँठ किसी भी तरह की हो या फोड़े-फुंसी हो, इन सब के रामबाण घरेलु उपाय!!!

अंगूठा

अंगुलियों के अलावा हाथ का अंगूठा भी विभिन्न रोगों को काट सकता है। अंगूठे को कुल एक मिनट तक मसलने से फेफड़ों को मजबूत बनाया जा सकता है। जिन लोगों को सांस संबंधी तकलीफ है, उन्हें ये अवश्य करना चाहिए।

दोनों हाथ

लेकिन एक-एक अंगुली के बाद आपका पूरा हाथ भी रोगों से लड़ने में सक्षम है। दोनों हाथों में शरीर के विभिन्न भागों की नसें आकर मिलती हैं, तो अगर दोनों में रक्त का स्राव तेज हो जाए तो आप तरो-ताजा महसूस करेंगे।

दोनों हाथ

इसके लिए दिन में अधिक से अधिक ताली बजाएं। जब आपको समय मिले ताली बजानी चाहिए। सुबह-सुबह खुली हवा में यह कार्य अवश्य करें।

■  कमर दर्द का कारण और इसका परमानेंट इलाज, पुराने से पुराने दर्द में भी लाभकारी, जरूर पढ़ें
Loading...

Leave a Reply