papaya to increase eyesight

पपीता सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद होता है। पपीता खाने से सेहत को ढेर सारे लाभ मिलते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पपीते के साथ या फिर पपीता खाने के बाद कुछ फूड्स का सेवन आपको नुकसान पहुंचा सकता है? क्या आप जानते हैं कि पपीते के साथ कौन से फूड्स नहीं खाए जाने चाहिए? अगर नहीं, तो इस लेख के माध्यम से हम आपको पपीते के साथ नुकसान पहुंचाने वाले कुछ कॉंबिनेशन्स के बारे में बताएंगे। पपीते में पैपीन एंजाइम्स पाए जाते हैं, जो प्रोटीन के टूटने में बेहद फायदेमंद होता है। वहीं पपीते के सेवन से आपके बाल और स्किन हेल्दी बने रहते हैं। आमतौर पर पपीते के साथ अंडे, करेले और दही आदि का कॉम्बिनेशन सेहत के लिए काफी अनहेल्दी माना जाता है। चलिए जानते हैं पपीते के साथ किन फूड्स का सेवन सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

1. पपीते और दही (Papaya and curd)

पपीते के साथ दही का कॉम्बिनेशन सेहत के लिहाज से नुकसानदायक माना जाता है। पपीता और दही एक साथ खाने से आपको छोटी-मोटी समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि पपीते के साथ दही का सेवन शारीरिक नुकसान देता है। लेकिन आयुर्वेद की दृष्टी से देखा जाए तो पपीते की तासीर गर्म और दही की तासीर काफी ठंडी होती है। इसलिए इनका सेवन साथ में करने से आपको सर्दी, जुकाम और सिरदर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आप पपीते खाने के करीब एक घंटे बाद दही का सेवन कर सकते हैं।

2. पपीता और संतरा (Papaya and Orange)

कुछ फल ऐसे होते हैं जिन्हें अन्य फलों के साथ नहीं खाया जा सकता है। ऐसा ही पपीते और संतरे के कॉम्बिनेशन के साथ भी है। पपीते के साथ संतरे का सेवन इसलिए भी नहीं किया जा सकता क्योंकि संतरा एक खट्टा और पपीता एक मीठा फल होता है। दोनों ही एक दूसरे से काफी विपरीत होते हैं। वहीं इनके फर्मेन्ट्स शरीर में टॉक्सिन्स पैदा कर सकते हैं, जिससे शरीर में डायरिया, कब्ज और इनडायजेशन की भी समस्या पैदा हो सकती है। इसलिए इनका सेवन एक साथ नहीं करने की सलाह दी जाती है।

3. पपीता और दूध (Papaya and Milk)

पपीते के साथ दूध का कॉम्बिनेशन भी आपको नुकसान के घेरे में ला सकता है। हालांकि दूध के साथ फल का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है। वहीं अगर पपीते के साथ दूध पिया जाए तो यह आपको कब्ज और डायरिया जैसी समस्या में डाल सकता है। इससे आपके पेट में ममोड़ और पेट भरा भरा लगने जैसी समस्या महसूस हो सकती है। इसीलिए पपीता खाने के कम से कम 30 मिनट बाद दूध का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

4. पपीता और करेला (Papaya and Bitter Gourd)

पपीते के साथ करेले का कॉम्बिनेशन बिलकुल गलत है। पपीते के साथ करेले का सेवन करना सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। पपीता एक वाटर रिच फूड है जो शरीर में पानी की मात्रा की आपूर्ति करता है। वहीं करेला एक ऐसा खट्टा फल है, जो शरीर से पानी को अवशोषित करता है। इसलिए अगर इनका सेवन एक साथ किया जाए तो शरीर में डिहाइड्रेशन के साथ ही एसेडिक रिएक्शन की भी समस्या हो सकती है। वहीं पपीता स्वाद में मीठा और करेला स्वाद में काफी कड़वा होता है। यह आपके मुंह का स्वाद बिगाड़ सकते हैं। हालांकि अगर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है तो आपपर इसका इतना असर नहीं पड़ेगा। लेकिन ध्यान रहे बच्चों को ऐसे कॉम्बिनेशन से कोसों दूर रखें।

5. पपीता और नींबू (Papaya and Lemon)

पपीते और नींबू का सेवन भी विपरीत होता है। पपीते के साथ नींबू का सेवन करने से शरीर में पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। यहां तक कि पपीते के साथ नींबू के सेवन को काफी नुकसानदायक भी माना जाता है। पपीते के साथ नींबू का सेवन करने से आपको रक्त संबंधी विकार भी हो सकता है। जिस कारण व्यक्ति एनीमिया का भी शिकार हो सकता है। इसलिए ध्यान रखें कि इन दोनों का सेवन एक साथ भूलकर भी न करें और बच्चों को तो पपीते पर नींबू निचोड़कर बिलकुल न खिलाएं। इससे उन्हें पाचन संबंधी समस्या भी हो सकती है।

पपीते के साथ इस लेख में दिए गए 5 फूड्स आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए पपीता खाने के कम से कम आधे घंटे बाद ही आप इनका सेवन कर सकते हैं।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleबुखार होने पर न खाएं ये 6 फूड्स, कमजोर कर सकते हैं आपकी इम्यूनिटी और बढ़ा सकते हैं परेशानी
Next articleज्यादा पके हुए फलों को फेंकने की जगह इन 5 तरीकों से करें इस्तेमाल

Leave a Reply