भारत में गेंहूं के आटे की रोटियां मुख्य रूप से खाई जाती हैं। लेकिन ज्यादातर लोग सफेद और मुलायम रोटी के चक्कर में गेंहूं का चोकर निकाल देते हैं। गेंहूं का चोकर या छिलका फाइबर से भरपूर होता है। चोकरयुक्त आटा खाने से आपकी सेहत को ढेर सारे फायदे मिल सकते हैं। कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल की डाइटिशियन डॉ अदिति शर्मा के अनुसार गेहूं के चोकर का सेवन कोलन बीमारी (कैंसर सहित), पेट का कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, गॉलब्लैडर, हर्निया आदि रोगों से बचाता है। यही नहीं ये कब्ज, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS), हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई बीपी, व टाइप 2 शुगर को ठीक करने में भी लाभदायक है। गेहूं के चोकर में बहुत से पौष्टिक तत्व होते हैं।

चोकर में मौजूद पोषक तत्व ( Nutritional Value)

60 कैलोरीज़ एनर्जी
1.2 ग्राम फैट
0.2 ग्राम सैचुरेटेड फैट
4.4 ग्राम प्रोटीन
17.9 ग्राम कार्बोहाइड्रेट
12.4 ग्राम डाइट्री फाइबर
3.5 एमजी नियासिन
0.14 एमजी थियामिन
342 एमजी पोटैशियम
0.3 एमजी विटामिन बी 6
0.14 एमजी राइबोफ्लेविन

गेंहूं का चोकर खाने के फायदे

फाइबर से होता है भरपूर :

अगर आप फाइबर के किसी ऐसे स्रोत को ढूंढ रहे हैं जो आपको इनसोल्युबल फाइबर प्रदान कर सके तो गेहूं का चोकर उसके लिए एकदम सही है। यह आपके पाचन तंत्र के अंदर अच्छे बैक्टीरिया की मात्रा बढ़ाते हैं जिससे आपका पाचन अच्छे से हो पाता है। आपकी सेहत भी बढ़िया रह पाती है।

कब्ज से दिलाता है छुटकारा :

कब्ज के लिए गेहूं के चोकर से बेहतर कोई उपचार नहीं है। अगर आप कब्ज से जूझ रहे हैं तो आपको रोजाना एक से दो चम्मच इसका सेवन करना चाहिए। आपको जरूर ही राहत मिलेगी। गेहूं के चोकर के सेवन के साथ साथ आपको ढेर सारा पानी भी पीते रहना है।

आपको लंबे समय तक भर पेट रखता है :

गेहूं के चोकर के सेवन करने से आपकी एनर्जी बढ़ती है। आप काफी देर तक भर पेट रह पाते हैं। जिस कारण आप ज्यादा खाने से और ओवर ईटिंग करने से बच सकते हैं। गेहूं के चोकर का सेवन करना वजन कम करने में भी लाभदायक रह सकता है।

प्रोटीन का भंडार है ये :

अगर आप शाकाहारी हैं तो आपके पास प्रोटीन के केवल गिने चुने ही स्रोत बाकी रह जाते हैं। उन्हीं में से एक है गेहूं का चोकर। इसलिए अगर आप प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा पूरी करना चाहते हैं तो अपनी डाइट में गेहूं के चोकर को जरूर शामिल करें।

कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में सहायक :

गेहूं के चोकर में मौजूद नियासिन की हाई मात्रा के कारण आपका बैड कोलेस्ट्रॉल लेवल कम हो सकता है। इससे आपके हृदय की सेहत भी स्वस्थ रहेगी और आप काफी सारे हृदय से जुड़े रोगों से खुद को बचा सकेंगे।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक :

अगर आपका भी बीपी बढ़ता है तो आपको गेहूं के चोकर को अपनी डाइट में जरूर शामिल कर लेना चाहिए। क्योंकि इसमें पोटेशियम मौजूद होता है। जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में लाभदायक होता है।

मैग्नीशियम का अच्छा स्रोत :

गेहूं का चोकर मैग्नीशियम का भी अच्छा स्रोत होता है। मैग्नीशियम के लाभ तो हम सब ही जानते हैं कि यह आपके हृदय और नर्व को स्वस्थ रखने में मदद करता है। साथ ही आपकी हड्डियों और इम्यूनिटी को मजबूत करता है। अच्छी बात तो यह है कि आपके दैनिक जरूरत की मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा आप गेहूं के चोकर से ही पूरी कर सकते है।

गेहूं का चोकर भी गेहूं जितना ही लाभदायक होता है। यहां तक कि यह आपको गेहूं से भी अधिक लाभ देने में सक्षम होता है। आप इसे कई तरह से खा सकते हैं जैसे आप इसका ग्रेनुला बना सकते हैं या फिर आप नॉर्मल गेहूं से बनने वाली रोटी को गेहूं के चोकर से बनी रोटी के साथ बदल सकते हैं। यह आपकी सेहत में एक दिखने वाला अंतर ला सकता है इसलिए आप एक बार तो इसका ट्राई जरूर कर सकते हैं।

Leave a Reply