hibiscus

आपने दूध वाली चाय, ग्रीन टी, ब्लैक टी का नाम तो सुना होगा, लेकिन क्या आपने फूल वाली चाय का नाम सुना हैं, ये चाय आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होती है। चाय आज के समय में बहुत से लोगों के जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है। कई लोगों की तो बिना चाय के सुबह होती ही नहीं है, तो कई लोग अगर सुबह चाय न पियें तो पूरे दिन ढीले से रहते हैं।

वैसे तो अधिक चाय पीना सेहत के लिए हानिकारक होता है लेकिन यदि आप गुड़हल के फूल की चाय बनाकर पियें तो इससे आपको काफी लाभ मिल सकता है। इस चाय का स्वाद तो अच्छा होता ही है साथ ही ये आपको कई गंभीर बीमारियों से भी बचा सकता है।

अगर आप ये चाय पीएंगे तो सेहत को कई फायदे मिलेंगे। जी हां हम बात कर रहे हैं गुड़हल के फूलों की चाय के बारे मे। गुड़हल की चाय पीने से कई फायदे होते है। इससे स्वास्थ्य संबंधित कई परेशानियां दूर होती है। चलिए आपको बताते हैं गुड़हल की चाय पीने के लाभ के बारे में…

गुड़हल के फुल से चाय बनाने की विधि :

सर्व प्रथम इसके फूलों को साफ पानी से धो लीजिए। फिर पानी में उबाल लीजिए। इसमें एक छोटा-सा दालचीनी का टुकड़ा डालें। कुछ देर बाद छान लीजिए। इसमें थोड़ा-सा शहद और नींबू का रस मिलाकर पीना चाहिए।

आइए जाने गुड़हल के फुल से बनी चाय के फ़ायदे

कैंसर से रखे दूर 

गुड़हल के फूल से बनी चाय का यदि आप रोजाना सेवन करें तो आप कैंसर जैसे गंभीर रोग से बच सकते हैं। दरसल ये कैंसर कोशिकाओं के विकास को धीमा कर देते हैं, जिससे इसका तेजी से विकास नही हो पाता।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

वज़न कम करे

मोटापे या बढ़ते पेट से आप परेशान हो तो गुड़हल के फुल से बनी चाय का सेवन जरूर करें। इसमें एंटी ऑक्सीडेंट की मात्रा काफी अधिक होती है जो मेटाबॉलिज्म को बढाते हैं। अतः आपकी चर्बी धीरे धीरे कम होने लगेगी।

अवसाद की नहीं रहेगी शिकायत

गुड़हल के फुल से बनी चाय में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो तानव यानि अवसाद की शिकायत को बढने से रोकता है। इस प्रकार इस चाय का सेवन करने से आपका दिमाग हमेशा शांत रहता है।

कंट्रोल करे कोलेस्ट्रोल 

कोलेस्ट्रोल को निय़ंत्रित रखना आज के समय में एक बड़ी चुनौती है। क्योंकि बढा हुआ कोलेस्ट्रोल धमनियों में ब्लॉकेज का कारण बन सकता है जो कि हृदय संबंधी बीमारियों को जन्म देती हैं। लेकिन गुड़हल के फुल से बनी चाय पीने से कोलेस्ट्रोल कंट्रोल में रहता है और हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा नही रहता।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleअर्जुन, नीम, बबूल, वटवृक्ष, अशोक, गजपीपली की छाल रामबाण औषधि
Next articleपैरों को गरम पानी मे डुबोने के फायदे

Leave a Reply