भारत में एक कहावत बहुत ही प्रचलित है- “एक अनार, सौ बीमार” अर्थात अनार एक ऐसी महा-औषधि है जो अनेकों बिमारियों का उपचार है। यह अपने स्वास्थ्य के लिए पोषक गुणों की वजह से विश्व-भर में प्रसिद्ध है। अनार फाइबर के साथ-साथ विटामिन सी, के और बी का बहुत अच्छा स्रोत है। इसमें लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, फोलेट, मैंगनीज, सेलेनियम, ज़िंक जैसे और भी अन्य पोषक तत्व निहित हैं। यह फल ओमेगा-6 फैटी एसिड का भी एक अच्छा स्रोत है। अनार का फल ही नहीं अपितु इसका हर एक अंश शरीर के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। अनार के पेड़ की जड़ें, पत्तियां, छिलका, बीज आदि सभी औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग की जाती हैं। यह पाचन शक्ति को बेहतर करता है, वीर्य गठन को बढ़ाता है, स्मृति को सक्रिय करता है, हवा, पित्त, कफ की वजह से शरीर में हुए असंतुलन को ठीक कर देता है, हीमोग्लोबिन के गठन को बेहतर बनाता है और एक बहुत अच्छा रक्त शोधक है। आइये हम भी इस चमत्कारी फल के चमत्कारी गुणों को विस्तार में जानें:-

Leave a Reply