सरसों का तेल हर घर में इस्तेमाल होता है। साथ ही यह तेल प्राचीन समय से आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। कड़वा तेल यानि सरसों के तेल में कई गुण हैं जो आपकी सेहत और उम्र दोनों को बेहद फायदा पहुंचाते हैं। सरसों का तेल दर्दनाशक होता है जो गठिया व कान के दर्द से राहत देता है इसलिए सरसों का तेल किसी औषधि से कम नहीं है।

■   महीने में सिर्फ 4 बार करना है इसका इस्तेमाल जिससे गठिया का दर्द हो जाएगा छूमंतर

सरसों के तेल को शरीर के लिए बहुत उपयोगी व रामबाण माना जाता हैं। इसके सही उपयोग से आपको दवाई की भी जरूरत नहीं होगी, क्योंकि सरसों के तेल में दर्दनाशक गुण हैं। सरसों का तेल दिल को चुस्त-दुरुस्त रखता है।

कैंसर की रोकथाम के लिए

सरसों के तेल में ग्लुकोजिलोलेट होता है, जो कैंसर विरोधी गुण होने की वजह से कैंसर ट्यूमर(गांठ) होने से बचाता है। सरसों में लाभकारी गुण होने की वजह से ग्लुकोजिलोलेट और कोरोरेकटल कैंसर से बचाने का काम करता है।

दर्द में दे राहत

दर्द चाहे जोड़ों का हो या फिर गठिया काए सरसों के तेल से मालिश करने से सभी तरह के दर्द से मुक्ति मिलती है। सर्दियों में ठंड की वजह से होने वाले जोड़ों के दर्द में सरसों के तेल को गुनगुना करके मालिश करने से दर्द में आराम मिलता है।

■   इन वजहों से होता है कमर दर्द, इसको जड़ से ख़त्म करने का सबसे आसान घरेलु उपाय

अस्थमा को कंट्रोल करने के लिए

सरसों के बीज में सेलेनियम एंड मैग्नीशियम ज़्यादा मात्रा में पाया जाता है। इन दोनों में एंटी-इन्फ्लामेटरी होता है। सरसों के तेल को रोज खाने से अस्थमा,सर्दी और ब्रेस्ट में होने वाली दिक्कतों में लाभ मिलता है।

फुन्सी या रैशेज और इन्फेक्शन

सरसों के तेल में मौजूद गुणों से त्वचा से जुड़ी हुई दिक्कतें जैसे रैशेज या फुन्सी आदि ठिक होती हैं। सरसों के तेल को त्वचा पर लगाने से चेहरे का रूखापन डलनेस और जलन कम हो जाती है। इस तेल की मालिश करने से शरीर में इन्फेक्शन का खतरा भी नहीं होता है।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

वजन कम करना

सरसों के बीज में बी-कॉम्पलेक्स विटामिन जैसे-फोलेट, थियामाइन, नियासिन, रिबोफ्लाविन होता है। सरसों का तेल हमारी बॉडी के मेटाबॉल्जिम को बढ़ाता है,जिससे वजन कम करने में आसानी होती है।

■   सिर्फ 3 दिनों में 5 किलो तक वजन कम कर सकती है यह जादुई चाय 

लिप बाम

यदि लिप बाम से आपके होठों को कोई फायदा न मिल रहा हो तो आप सरसों के तेल को होंठों पर लगाएं। इससे होंठ मुलायम बनते हैं।

एंटी-एजिंग

सरसों में कैरोटिन्स, जियक्साथिंस एंड ल्यूटिन,विटामिन ए,सी और के की मात्रा भरपूर होती है। इन सभी विटामिन होने के कारण यह एंटीऑक्सीडेंट भी है जो बढ़ती एज में होने वाली निशान, झुर्रियां और रिंकल को दूर करता है।

छोटे बच्चों के लिए सरसों के तेल का फायदा

बचपन से ही यदि आप बच्चे के शरीर पर सरसों के तेल की मालिश करते हो तो इससे बच्चे को कई फायदे मिल सकते हैं।छोटे बच्चों की मालिश भी सरसों के तेल से करनी चाहिए। इससे बच्चों का शरीर मजबूत बनने के साथ उनकी लंबाई बढ़ती है।

■   लंबाई बढ़ाने का अचूक और रामबाण घरेलु नुस्खा, 14 दिनों में बढ़ाएं 3 से 4 इंच लंबाई, स्वयं देखें लाभ

सर्दी और खांसी के लिए

यह उन लोगों के लिए फायदेमंद है जिन्हें अक्सर खांसी या गले में बलगम की शिकायत रहती है। इसके लिए आप एक चम्मच सरसों के तेल में कपूर मिक्स करके छाती पर लगाएं। साथ ही, जल्दी आराम के लिए तेल की स्टीम ले सकते है। इसके लिए थोड़ी मात्रा में सरसों का तेल और उसमें जीरा डालकर उबालें और उससे स्टीम लें। इस स्ट्रांग अरोमा सरसों के तेल से आपकी श्वास नली खुल जाएंगी और खासी या कोल्ड से बनने वाली बलगम को खत्म कर देगा।

भूख को बढ़ाना

एक अच्छी हेल्थ की पहचान तभी होती है जब आपको खुलकर भूख लगती है। इसके लिए आपका स्वास्थ्य भी अच्छा होना चाहिए। इसके लिए सरसों का तेल बेस्ट है। सरसों का तेल पेट में गैस्ट्रिक जूस की तरह हमारे ऐपिटाइजर के रूप में काम करता है,जिससे भूख बढ़ने लगती है। इसलिए आज से ही खाने में सरसों के तेल का इस्तेमाल करना शुरू करें। खूब खाएं और हेल्दी रहें।

शरीर को दे अंदरूनी शक्ति

हमारे शरीर के लिए सरसों का तेल बेहद फायदेमंद है। इसे खाने में इस्तेमाल करने से शरीर की अंदरूनी शक्ति बढ़ती है और यह शरीर को मजबूत बनाता है।

■   हड्डियों को मजबूत बनाता है ये फल, चेहरे पर झुर्रियां होने की समस्या है तो इसे जरुर आजमाएँ

कोरोनरी हार्ट डिसीज से बचाता है

सरसों के तेल का नियमित इस्तेमाल करने से कोरोनरी हार्ट डिसीज का खतरा कम होता है। जिन्हें दिल की बीमारी की समस्या हो वे सरसों का तेल खाने में इस्तेमाल करें।

शरीर की क्षमता को बढ़ाता है

सरसों का तेल शरीर की क्षमता बढ़ाने में एक दवा का काम करता है। शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए और उसकी क्षमता को बढ़ाने के लिए सरसों के तेल की मालिश के बाद नहाने से त्वचा और शरीर दोनों स्वस्थ रहते हैं।

बालों की ग्रोथ के लिए

सरसों के तेल से सिर में मसाज करने से बालों की ग्रोथ तो होती है साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है। सरसों के तेल में विटामिन और मिनरल्स होते है, इससे बालों को पोषण मिलता है। सरसों के तेल में बीटा-कैरोटिन की मात्रा ज्यादा होती है जो विटामिन में कन्वर्ट होता है और बालों की ग्रोथ को बढ़ाता है। सरसों के तेल में आयरन,फैटी एसिड,कैल्सियम और मैग्नीशियम जैसी गुण होते है जो बालों के लिए फायदेमंद हैं।

■   यूरिक एसिड बढ़ने का कारण, लक्षण और इसको सिर्फ 2 सप्ताह में कंट्रोल करने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

टैन स्किन और डार्क सपॉट को कम करना

सरसों के तेल से गर्मियों में होने वाली स्किन टैन और आंखों पर पड़ने वाले डार्क सर्कल को कम करने में मदद करता है।इसके लिए आप सरसों के तेल में बेसन,दही और कुछ बूंदे नींबू की मिलाकर चेहरे पर लगाएं। फेस मास्क को 10 से 15 मिनट चेहरे पर लगा कर रखे,उसके बाद ठंडे पानी से चेहरे को धूल लें। इस मास्क को हफ्ते में दो या तीन बार लगाएं।

दांत दर्द में

दांत के दर्द में सरसों का तेल बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि दातों में किसी प्रकार का दर्द हो रहा हो तो सरसों के तेल में नमक मिलाकर रगड़ें। आपको राहत मिलेगी। और दांत भी मजबूत बनेगें।

प्राकृतिक सनस्क्रीन के रूप में

सरसों के तेल में विटामिन की मात्रा ज़्यादा होने की वजह से चेहरे के लिए प्राकृतिक सनस्क्रीन का काम करता है। हल्का तेल और विटामिन ई होने की वजह से बाहरी धूप और अल्ट्रावॉयलेट रेज और प्रदूषण से बचाता है। विटामिन ई एजिंग और झुर्रियों को कम करता है।

■   विटामिन ई कैप्सूल्स में ये खास चीज मिलाने के बाद पार्लर जाने की जरूरत नहीं

कमर दर्द में

कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए सरसों के तेल में अजवाइन, लहसुन और थोड़ी से हींग को मिलाकर कमर की मालिश करें। नियमित मालिश करने से कमर का दर्द ठीक हो जाएगा।

रैशेज (फुन्सी) और इन्फेक्शन को कम करना

सरसों का तेल एंटी-बैक्टीरिया और एंटी-फंगल होने की वजह से रैशेज और स्किन से जुड़ी समस्याओं के लिए काफी फायदेमंद होता है। अगर आप रोज खाने या चहेरे पर सरसों का तेल यूज करते है तो यह स्किन में होने वाली ड्रायनेस,डलनेस और जलन को खत्म करता है। सरसों के तेल से बॉडी मसाज करने से चमक और स्किन साफ हो जाती है। बॉडी में मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन और इन्फेक्शन के लिेए भी काफी फायदेमंद है।

गठिया दर्द में

सरसों के तेल में कपूर को पीसकर मिलाएं और फिर इसकी गठिया वाली जगह पर मालिश करें। यह गठिया दर्द में राहत देता है।

■   ये पौधा गठिया, यूरिक एसिड और लिवर के लिए किसी वरदान से कम नही

मजबूत शरीर के लिए

सरसों के तेल का एक और फायदा यह है कि इस तेल को भोजन में इस्तेमाल करने से शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है। जिससे शरीर के अंदर ताकत व मजबूती आती है।

त्वचा के लिए सरसों का तेल

सरसों का तेल त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद है। सरसों के तेल में विटामिन ई की मात्रा अधिक होती है जो आपकी त्वचा को अल्ट्रावाइलेट किरणों से बचाती है।

मलेरिया से बचने के लिए

मच्छरों से बचने के लिए रात में सोने से पहले सरसों का तेल शरीर पर लगाएं। इससे मच्छर नहीं काटेंगे,खासकर मलेरिया होने का खतरा नहीं रहेगा।

■   मलेरिया में क्या खाये क्या ना खाएं, परहेज – Malaria Diet Chart In Hindi

बालों के नेचुरल कलर के लिए

जिन लोगों के बाल भूरे रंग के होते है, उन्हें सरसों का तेल लगाना चाहिए। इससे बालों का रंग काला हो जाएगा। रात में सोने से पहले हर रोज सरसों का तेल लगाने से कुछ दिन में आपके बाल काला होने लगेंगे।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

कान दर्द में

कान के दर्द में सरसों का तेल फायदा करता है। जब भी कान में दर्द हो तब गुनगुने सरसों के तेल को कान में टपकाएं।

झड़ते बाल और स्कैल्प के लिए

सरसों के तेल में काफी विटामिन होते है जो आपके झड़ते बाल,गंजेपन जैसी समस्याओं के साथ दोमुंहे और रूखे बालों के लिए भी फायदेमंद है। स्कैल्प में इन्फेक्शन होने पर फंगल ग्रोथ को रोकता है और हाइड्रेटिड रखता है। सरसों के तेल को लगाने का सबसे अच्छा तरीका है कि सरसों ,बादाम नारियल,ऑलिव और बादाम के तेल को साथ मिलाकर सिर में 15 से 20 मिनट तक हल्के हाथों से मसाज करें। उसके बाद 2 या 3 घंटे बाद सिर को धो दें। इससे आपके बाल हेल्दी,लंबे और मुलायम रहेंगे।

■   सफेद बालों को आधे घंटे मे हमेशा के लिए जड़ से काला कर देगा यह नुस्खा

त्वचा को लाइट करना

नारियल तेल में सरसों के तेल को मिलाकर अपने चेहरे पर मालिश करें। यह त्वचा में खून का संचार करता है जिससे त्वचा का रंग लाइट होता है।

सरसों का तेल किसी औषधि से कम नहीं है। यह हमे कई बीमारियों से बचाकर हमारी सेहत को फायदे देता है। इसलिए हमें अपने दैनिक जीवन में सरसों के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

नोट :- भारत में, सरसों के तेल (mustard oil) को खाना पकाने से पहले जलने तक गरम किया जाता है; ऐसा गंध को कम करने और स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। बहरहाल, अधिक देर तक गरम होने के परिणामस्वरूप तेल में ओमेगा-3 (Omega3) समाप्त हो जाता है

अपील:- प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा.

■   बिना दवाई के पाइये बवासीर से मुक्ति, घर बैठे करें इलाज

6 COMMENTS

Leave a Reply