छुई मुई का पौधा | छुई मुई के फायदे, लाभ और औषधीय गुण इन हिंदी

छुई मुई का पौधा अपने आप में थोडा अजीब तरह का पौधा है साथ ही छुई मुई का दूसरा नाम लाजवंती भी है. इसके इन दोनों नामों के पीछे भी कारण है, जैसे ही हम इस पौधे को छूते हैं ये खुद को सिकोड़कर छोटे रूप में बदल जाता है. उस समय ऐसा प्रतीत होता है मानो ये हमसे शर्मा रहा होऔर यही कारण है कि इसका नाम लाजवंती पड़ा.छुईमुई के गुण

आइये जानें लाजवन्ती के बीज के फायदे, लाजवन्ती खाने के फायदे, लाजवंती के फायदे इन हिंदी, lajwanti बीज के उपयोग, लाजवंती के प्रयोग, लाजवंती बीज, लाजवंती जड़ी बूटी, मोहिनी प्लांट, mimosa pudica, छुई मुई का पौधा छूने से क्यों मुरझा जाता है।
■  गर्मी और लू से बचने के लिए 10 आसान घरेलू उपाय हिंदी में

छुई मुई का वानस्पतिक नाम माईमोसा पुदींका भी है जबकि देसी नाम लजोली भी है. इसके फूल गुलाबी रंग के होते हैं, जो देखने में बहुत आकर्षक और सुन्दर प्रतीत होते हैं.छुईमुई के गुण

छुई-मुई के क्षुप (पौधे) छोटे होते हैं। यह भारत में गर्म प्रदेशों में पाया जाता है। इसका पौधे जमीन पर फैला हुआ या थोड़ा सा उठा होता है। इसके 30 से 60 सेमी तक के क्षुप पाये जाते हैं। इसके पत्ते चने के पत्तों के समान होते हैं।लाजवन्ती के बीज के फायदे

छुई-मुई के फूलों का रंग हल्का बैंगनी होता है और इस फूल के ही ऊपर गुलाबी रंग के 3 से 9 सेमी लंबी फली लगती है जिसमें 3 से 5 बीज होते हैं। बारिश के महीनों में छुई-मुई में फल लगते हैं। छुई-मुई की खासियत है कि इसको छूने से ही यह सिकुड जाती है। इसकी अनेक प्रजातिया होती हैं। विभिन्न रोगों में प्रयोग-

  दस्त रोकने और पेट की मरोड़ का इलाज के 10 आसान उपाय

लाजवंती के फायदे इन हिंदी

Laajwanti Ke Fayde, Labh Aur Aushadhiya Gun In Hindi

1. रक्तातिसार (खूनी दस्त)

छुई-मुई की जड़ का चूर्ण 3 ग्राम, दही के साथ रोगी को खिलाने से खूनी दस्त जल्दी बंद होता है। छुई-मुई की जड़ के 10 ग्राम चूर्ण को 1 गिलास पानी में काढ़ा डालकर बनायें जब थोड़ा सा रह जाये तब बचे काढ़े को सुबह-शाम पिलाने से खूनी दस्त बंद हो जाता है।लाजवन्ती के बीज के फायदे

2. अजीर्ण

छुई-मुई के पत्तों का 30 मिलीलीटर रस निकालकर पिलाने से अजीर्ण नष्ट हो जाता है।lajwanti बीज के उपयोग

3. पेशाब का अधिक आना (Lajwanti For Urine Problems In Hindi)

छुई-मुई के पत्तों को पानी में पीसकर नाभि के निचले हिस्से में लेप करने से पेशाब का अधिक आना बंद हो जाता है।lajwanti बीज के उपयोग

4. पीलिया (Lajwanti For Piliya (Jaundice) In Hindi)

छुई-मुई के पत्तों का रस निकालकर पीने से कामला या पीलिया रोग दो हफ्ते में दूर हो जाता है।लाजवंती के फायदे इन हिंदी

5. मधुमेह (Lajwanti For Diabetes In Hindi)

छुई-मुई की जड़ का काढ़ा 100 मिलीलीटर बनाकर रोजाना सुबह-शाम देने से मधुमेह का रोग ठीक होता है।लाजवन्ती खाने के फायदे

6. पथरी (Lajwanti For Pathri In Hindi)

छुई-मुई की 10 मिलीलीटर जड़ का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से पथरी गलकर निकल जाती है। लाजवन्ती (छुई-मुई) के पंचांग का काढ़ा बनाकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। इसके काढ़े से पथरी घुलकर निकल जाती है तथा मूत्रनलिका पर आई सूजन मिट जाती है।लाजवंती के प्रयोग

■  बदहजमी और फूड पाइज़निंग का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

दोस्तों छुईमुई, छुई-मुई का पौधा, Lajwanti का पौधा, लाजवंती या Shameplant का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास लाजवंती के पौधे के गुण और फ़ायदों, Lajwanti plant and seeds benefits and side effects in hindi, छुइमुइ या लज्जावती के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply