त्वचा की ऊपरी परत पर ब्लिस्टर यानी फफोले हो जाते हैं। ये जलने, लगातार घर्षण या इन्फेक्शन से भी हो जाते हैं। इनके लिए कई घरेलू उपाय मौजूद हैं। ग्रीन-टी, एलोविरा, विच हेजल आदि के इस्तेमाल से ब्लिस्टर का इलाज किया जा सकता है।

■  जलने और चोट के निशान हटाने के 10 आसान उपाय और नुस्खे

ब्लिस्टर यानी त्वचा पर पड़ने वाले फफोले या छाले। त्वचा की ऊपरी परत पर कई वजहों से फफोले पड़ जाते हैं। त्वचा के जलने, जमने, उस पर कुछ रगड़ लग जाने या फिर किसी इन्फेक्शन की वजह से होने वाले इन फफोलों में पानी जैसा कोई द्रव भी भरा होता है और आमतौर पर ये फूले हुए लगते हैं। इसमें भरा द्रव सीरम या प्लाज्मा कहलाता है। इसके अलावा कुछ अन्य मामलों में इन फफोलों में खून या पस भी भर जाती है। इन फफोलों और छालों में काफी दर्द होता है। फफोले की तकलीफ से छुटकारा पाने के लिए कुछ आसान घरेलू उपाय भी अपनाए जा सकते हैं। आइये जानते हैं इन घरेलू उपायों के बारे में।

घरेलू नुस्खों से हो सकता है ब्लिस्टर ठीक-

ग्रीन टी

ग्रीन टी के बैग्स को उबलते पानी में डालें। उसमें एक चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं। फिर उस पानी को थोड़ा ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद इस ग्रीन टी के पानी में अपने फफोले को डुबा लें। अगर फफोले की जगह ऐसी है जिसे डुबाया नहीं जा सकता किसी मुलायम कपड़े को डुबाकर फफोले पर रखें। इससे फफोला मुलायम पड़ जाएगा और फूट जाएगा। फूटने के बाद फफोला जल्दी ठीक हो जाता है।

■  वजन घटाने से लेकर खूबसूरती बढ़ाने तक, ग्रीन टी के कई हैं फायदें

सुरक्षित रखने के लिए ढंक लें

बैंडेज से आपके ब्लिस्टर यानी फफोले को सुरक्षित रखा जा सकता है। इससे फफोले पर किसी चीज से घर्षण होने से बचाव होगा। लेकिन आप बैंडेज किस तरह से लगाते हैं, आपके ब्लिस्टर का ठीक होना उस पर निर्भर करेगा। बैंडेज को इस तरह से लगाए कि चिपकने वाला हिस्सा फफोले के आसपास हो और बीच का हिस्सा फफोले से ऊपर उठा रहे। ये आपके फफोलों को घर्षण, गंदगी और इन्फेक्शन से बचायेगा। साथ ही, आपके छाले को सूखने के लिए जगह मिल जाएगी।

एलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल से सूजन खत्म होती है और ये दर्द भी कम करता है। अध्ययनों के मुताबिक एलोवेरा सेकेंड और थर्ड डिग्री बर्न में भी एक प्रभावशाली परंपरागत दवा का काम करता है। ब्लिस्टर के लिए भी एलोवेरा जैल का बहुत फायदा होता है।

अरंडी का तेल

अरंडी का तेल ब्लिस्टर या फफोले के लिए काफी ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला घरेलू उपचार है। रात को सोने से पहले रूई की फाहे से थोड़ा सा अरंडी का तेल छाले पर लगाएं। रात भर  के लिए उसे लगा रहने दें और सूखने दें। सुबह तक काफी आराम होगा। आप और ज्यादा फायदे के लिए अरंडी के तेल में थोड़ा सा ऐप्पल साइडर विनेगर मिलाकर भी लगा सकते हैं।

■  एड़ी, टखने और घुटनों का दर्द दूर करने के लिए अरंडी का तेल और बेकिंग सोडा ही काफी है असर पहले ही दिन

सेब का सिरका

सेब के सिरके में एंटी-बैक्टीरियल तत्व मौजूद होते हैं। इससे ब्लिस्टर या फफोले में इन्फेक्शन होने से रोका जा सकता है। थोड़ा सा सिरका लें और प्रभावित स्थान पर ढक्कन या चम्मच की सहायता से इसे डालें। ध्यान से, इससे काफी दर्द हो सकता है और फफोले में टीस मच सकती है, लेकिन इससे आपको फायदा भी पहुंचेगा। इगर आपको विनेगर का इस्तेमाल बहुत दर्दभरा लग रहा है तो प्रभावित स्थान को हाईड्रोजन पेरोक्साइड से साफ कर लें।

विच हेजल

विच हेजल में एस्ट्रीजेंट तत्व मौजूद होते हैं। एस्ट्रीजेंट से आपका ब्लिस्टर सूखेगा। इसके अलावा, विच हेजल ब्लिस्टर को साफ करने और उसे ठीक करने में भी मदद करता है। साफ रूई में इसे लगाकर ब्लिस्टर पर धीरे-धीरे लगाएं। इससे आपको थोड़ी जलन हो सकती है लेकिन, ये ब्लिस्टर का अच्छा व सुरक्षित घरेलू उपचार है।

विटामिन ई

विटामिन ई में त्वचा की मरम्मत करने वाले तत्व होते हैं। विटामिन ई त्वचा की कोशिकाओं को तुरंत ठीक करता है और निशान पड़ने से बचाता है। आप विटामिन ई ऑयल या क्रीम को ब्लिस्टर त्वचा पर लगा सकते हैं या फिर विटामिन ई के कैप्सूल को फोड़ कर भी लगाया जा सकता है।

■  विटामिन ई कैप्सूल्स में ये खास चीज मिलाने के बाद पार्लर जाने की जरूरत नहीं 

2 COMMENTS

Leave a Reply