noni

नोनी आलू के आकार का सफेद, पीले और हरे रंग का एक फल होता है। खास बात ये है कि ये फल किसी एक बीमारी नहीं बल्कि कई गंभीर बीमारियों का अचूक दवा है। जानकारी के अभाव में लोग इसकी खूबियों से अनभिज्ञ हैं। इसके औषधिय गुण पेट से जुड़ी हर तरह की समस्या, डायबिटीज, अस्थमा, अर्थराइटिस, दिल की बीमारी के साथ ही कैंसर और पुरुषों में होने वाली समस्याओं पर सटिक काम करते हैं।

इसमें पाया जाने वाला जेरोनाइन ही सबसे खास होता है। ये फल इम्यून सिस्टम के लिए अमृत समान होता है। नोनी एक अकेला ऐसा फल है जिसमें 150 से अधिक स्वास्थ्यवर्धक औषधिय गुण होने का दावा किया जाता है। इतना ही नहीं ये विटामिन्स और एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, एंटी-फंगल, एंटी-ट्यूमर, एंटी-इंफ्लेमेटरी से भरपूर होता है। तो आइए जानें नोनी की खासियत और किस रोग में ये सबसे कारगर है यह भी।

घर में नोनी जूस कैसे बनाएं

नोनी जूस के फायदे इतने सारे हैं तो इसका सेवन रोज़ाना करना चाहिए। आपको बता दें कि नोनी जूस को घर में आसानी से बनाया जा सकता है। इसके लिए आपको सिर्फ दो चीज़ो की जरुरत है- एक ग्लास पानी और नोनी फल। नोनी जूस को बनाने की पूरी प्रक्रिया की जानकारी आप नीचे से देख सकते हैं।

सबसे पहले ब्लेंडर में पानी डालें और नोनी फल को काट कर डालें ताकि ब्लेंडर में यह अच्छ से ब्लेंड हो जाए।

इसके बाद दोनों को ब्लेंड कर लें और तब तक करें जितना पतला आपको जूस चाहिए।

इसका स्वाद आपको अज़ीब जरुर लगेगा लेकिन आप इसमें और फल भी डाल सकते हैं जैसे कि संतरा।

इसके बाद आप इसमें मीठा भी डाल सकते हैं। लेकिन मीठा डालने से पहले आप यह जान लें कि इसकी केलोरी ज्यादा हो जाएगी।

किस समय नोनी जूस का सेवन बेस्ट है

नोनी जूस के फायदे लेने हैं तो इसका सही समय पर सेवन करना जरुरी है। अगर इसको खाली पेट पीया जाए तो सबसे अच्छा है क्योंकि जो आप खाना खाने वाले हैं वो खाना जल्दी और आसानी से पच जाएगा।

खाना खाने से आधा घंटा पहले इसको पीना चाहिए। और रात के समय तो बिल्कुल भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि नोनी जूस पीने से एनर्जी मिलती है जो आपकी नींद खराब कर सकती है।

अगर आप नोनी जूस को अपनी डाइट में शामिल करना चाहते हैं तो बहुत अच्छी बात है। लेकिन उससे पहले इसके सभी फायदे और नुकसान की जानकारी प्राप्त कर लें। और इस बात का खास ध्यान रखें कि आपके शरीर को कितनी मात्रा में नोनी जूस चाहिए। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। साथ ही सबसे अच्छा यह होगा कि आप घर में बने हुए जूस का ही सेवन करें।

नोनी जूस के फायदे

Benefits of Noni Juice in Hindi

जिस प्रकार नोनी के पत्ते, तना और फल फायदेमंद होते हैं, ठीक वैसी ही नोनी का जूस भी हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यहां हम बता रहे हैं कि नोनी जूस किस प्रकार से हमें लाभ पहुंचाता है।

कैंसर में नोनी जूस के फायदे

नोनी के रस में कई ऐसे गुण और पोषक तत्व होते हैं, जो विभिन्न बीमारियों से हमारी रक्षा कर सकते हैं। नोनी जूस में एंटीकैंसर और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये गुण कैंसर के सेल्स को पनपने से रोकते हैं, जिससे शरीर में कैंसर नहीं फैलता । साथ ही औषधीय गुणों से भरपूर नोनी जूस धूम्रपान से होने वाले कैंसर के खतरे को भी दूर कर सकता है । इतना ही नहीं यह एंटीट्यूमर गुण से भी संपन्न है, जो कैंसर को बढ़ाने वाले ट्यूमर को बढ़ने से पहले ही रोक देता है और शरीर को ट्यूमर व कैंसर से बचाने में कारगर हो सकता है।

मधुमेह में नोनी के फायदे

मधुमेह के मरीजों के लिए प्रतिदिन दो गिलास नोनी के रस का सेवन फायदेमंद हो सकता है। यह एंटीडायबिटीज गुणों से भरपूर होता है, जो टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रण करने में कारगर हाे सकता है। इसमें मौजूद ये गुण रक्त में मौजूद शुगर और ग्लूकोज की मात्रा को कम करके मधुमेह को नियंत्रित करने में मददगार होते हैं ।

प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए नोनी के लाभ

अगर आपको प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक करना है या फिर उसे बढ़ाना है, तो यहां नोनी का जूस आपकी मदद कर सकता है। नोनी के जूस में एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ ऐसे कई गुण मौजूद होते हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार के साथ ही कई बीमारियों से आपकी सुरक्षा करने में कारगर हाे सकते हैं।

पाचन में सुधार के लिए नोनी जूस के फायदे

पाचन तंत्र की समस्या के लिए नोनी का जूस अच्छा समाधान हो सकता है । इसमें दर्द और सूजन से राहत देने वाले गुण होते हैं, जो आंतों की सूजन को दूर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें और भी कई गुण होते हैं, जो पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद हो सकते हैं।

लीवर के स्वास्थ्य के लिए नोनी के फायदे

अगर आप लीवर की समस्या से परेशान हैं, तो नोनी का जूस आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं, जो लीवर को नुकसान पहुंचाने वाले कारणों से लीवर की सुरक्षा करने में सक्षम होते हैं। साथ ही लीवर की गतिविधि काे भी मजबूत करने में कारगर हो सकते हैं । कार्बन टेट्राक्लोराइड (जिसका उपयोग वसा और तेलों में किया जाता है) लीवर के लिए एक टॉक्सिन का कार्य करता है और नोनी का जूस तीव्र कार्बन टेट्राक्लोराइड टॉक्सिन के खिलाफ लीवर की रक्षा में लाभकारी हो सकता है ।

सूजन को दूर करने के लिए नाेनी के लाभ

नोनी के रस में कई बीमारियों को दूर करने के साथ ही और भी कई गुण होते हैं, जो इसे लाभकारी बनाते हैं। इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होता है, जो सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। शोध में पाया गया है कि नोनी में पाए जाने वाले एंटीइंफ्लेमेटरी गुण ने फेफड़ों की सूजन को ठीक कर दिया ।

गठिया को दूर करने के लिए नोनी के फायदे

गठिया रोग के कारण लोगाें को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन लोगों के लिए नोनी का जूस बहुत फायदेमंद हो सकता है। नोनी के रस में एंटी-अर्थराइटिस गुण होते हैं, जो ऑटोइम्यून विकार से होने वाले पुराने रुमेटाइड जैसी गठिया की शिकायत को ठीक करने में कारगर हो सकते हैं ।

वजन कम करने के लिए नोनी जूस के फायदे

अगर आप बढ़ते हुए वजन और मोटापे से परेशान हैं, तो नोनी का रस आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें एंटी-ओवेसिटी गुण पाए जाते हैं, जो मोटापे को रोकने और वजन कम करने के लिए कारगर होते हैं। इस कारण नोनी के जूस के सेवन से वजन को नियंत्रित रखना आसान हो जाता है।

मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए नोनी के फायदे

मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए नोनी का रस लाभदायक हो सकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीएंफ्लेमेटरी जैसे कई औषधीय गुण होते हैं। नोनी में पाए जाने वाले ये गुण इस्केमिक तनाव (एक प्रकार का मानसिक तनाव) के कारण होने वाली मस्तिष्क क्षति पर सुरक्षात्मक कार्य करते हैं ।

ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए

नोनी का जूस दिल के लिए भी फायदेमंद होता है। इसकी जड़ों में एंथ्राक्विनोन नामक घटक पाया जाता है, जो कैंसर के साथ दिल की कई समस्याओं में फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, नोनी जूस का सेवन करने से हानिकारक कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम हो जाती है और यह रक्तचाप में भी फायदेमंद होता है। नोनी जूस के ये फायदे आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी हो सकते हैं ।

कोशिकाओं की देखभाल के लिए नोनी के फायदे

नोनी में ऐसे गुण होते हैं, जो कोशिकाओं की देखभाल करने में सहायता करते हैं। साथ ही शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। नोनी में मौजूद जेरोनिन कोशिकाओं को ठीक कर सकता है। साथ ही इसमें एंटी-एजिंग गुण भी होता है। नोनी के रस को टिश्यू की देखभाल करने के लिए भी जाना जाता है ।

उम्र से संबंधित स्पाइनल डैमेज

बड़ती हुई उम्र के कारण अक्सर स्पाइनल डैमेज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में नोनी जूस का सेवन फायदेमंद हो सकता है। इसमें विटामिन-सी के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं । नाेनी में पाए जाने वाले ये तीनों गुण उम्र के साथ बढ़ने वाले स्पाइनल डैमेज के खतरे को कम करने में कारगर हो सकते हैं ।

बैक्टीरियल इंफेक्शन को करे दूर

बैक्टीरिया के कारण कई बीमारियाें का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में बैक्टीरिया के संक्रमण को रोकने के लिए नोनी का सेवन लाभदायक हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण न सिर्फ बैक्टीरिया के संक्रमण को दूर करते हैं, बल्कि इससे होने वाली बीमारियों को भी रोक सकते हैं ।

त्वचा की देखभाल के लिए नोनी जूस के फायदे

नोनी के रस में कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होते हैं। इसमें पाया जाने वाला एंटीइंफ्लेमेटरी गुण सूजन से त्वचा की रक्षा करता है। साथ ही एंटी-एक्ने गुण मुंहासों की समस्या को दूर करता है। इसके अलावा, इसका एंटी-एजिंग गुण बढ़ती हुई उम्र के साथ बढ़ने वाली त्वचा संबंधी विकारों को दूर कर त्वचा को आकर्षक और चमकदार बनाने में मदद करता है ।

बालों की मजबूती के लिए

अगर आपको बालों की भी कोई समस्या है, तो नोनी जूस आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें प्रोटीन, विटामिन-ए और विटामिन-सी जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं । नोनी में पाए जाने वाले ये पोषक तत्व न सिर्फ बालों के विकास में सहायक होते हैं, बल्कि बालों से जुड़ी हुई कई समस्याओं जैसे बालों का झड़ना, सफेद होना, रूसी व रूखेपन से छुटकारा दिलाने में भी कारगर हाे सकते हैं ।

नोनी जूस साइड इफेक्ट्स

नोनी के रस में पोटैशियम की मात्रा अधिक होती है, जो लीवर या हृदय की समस्याओं वाले रोगियों के लिए हानिकारक हो सकता है ।

जिन लोगों को लो शुगर की समस्या हो, उन्हें इससे परहेज करना चाहिए, क्योंकि नोनी का रस शरीर में मौजूद ग्लूकोज को कम करता है ।

औसत से कम वजन वालों को भी नोनी का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद घटक वजन को कम कर सकता है ।

जिन्हें किडनी से संबंधित बीमारी रहती है, उन्हें नोनी जूस का सेवन नहीं करना चाहिए ।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleपानी के साथ आधा चम्मच कलौंजी तेल पीने से Joint pain | कमजोरी जैसे 8 रोग जड़ से ख़त्म | Kalounji Oil
Next articleआंवला खाने के फायदे

Leave a Reply