nagfani ke fayde aur nuksan in hindi

नागफनी के फायदे और लाभ इन हिंदी | नागफनी का उपयोग | नागफनी का रस

नागफनी को संस्कृत भाषा में वज्रकंटका कहा जाता है क्योंकि इसके कांटे बहुत मजबूत होते हैं. पहले समय में इसी का काँटा तोडकर कर्णछेदन कर दिया जाता था .इसके Antiseptic होने के कारण न तो कान पकता था और न ही उसमें पस पड़ती थी और कर्णछेदन से hydrocele की समस्या भी नहीं होती। आइये जानें नागफनी के फायदे और लाभ। 

आइये जानें नागफनी का पेड़ थूहर, नागफनी की खेती, नागफनी का पौधा कैसा होता है, nagfani ke fayde in hindi, नागफनी का दूध कैसे निकाले, नागफनी जिनके आँगन, नागफनी का दूध कैसा होता है, नागफनी wikipedia।
■  सफेद दाढ़ी और बालों को जड़ से खत्म कर देगा यह इलाज

नागफनी फल का हिस्सा flavonoids, टैनिन, और पेक्टिन से भरा हुआ होता है नागफनी के रूप में इसके अलावा संरचना में यह जस्ता, तांबा, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, मोलिब्डेनम और कोबाल्ट शामिल है। यह स्वाद में कड़वी और स्वाभाव में बहुत उष्ण होती है।

नागफनी फल के फायदे

यह पेट के अफारे को दूर करने वाली, पाचक, मूत्रल, विरेचक होती है। औषधीय प्रयोग के लिए इसके पूरे पौधे को प्रयोग किया जाता है।

कुक्कर खांसी, में इसके फल को भुन कर खाने से लाभ होता है। इसके फल से बना शरबत पिने से पित्त विकार सही होता है। इसका पौधा पशुओं से खेतों की रक्षा ही नहीं करता बल्कि रोगों से हमारे शरीर की भी रक्षा करता है।

नागफनी के चमत्कारिक गुण

Nagphani Ke Fayde Aur Labh In Hindi

कैक्टस या थूहर का उपयोग

1. हड्डियों के लिए नागफनी के लाभ (Nagphani For Bones In Hindi)

हड्डियों के लिए इसमें कैल्शियम के अलावा कई उपयोगी तत्व मौजूद होते हैं. जो क्षतिग्रस्त होने के बाद मजबूत हड्डियों के निर्माण और हड्डियों की रिपेयर का एक अनिवार्य हिस्सा है. 

■  थायरॉइड का पक्का इलाज जिसे बताया है महर्षि चरक ने चरक संहिता में, एक बार जरूर पढ़ें

2. सुन्दर और बेदाग त्वचा के लिए लाभकारी है नागफनी (Nagphani For Skin In Hindi)

इसमें मौजूद फाइटोकैमिकल और एंटीऑक्सिडेंट गुण समय से पहले उम्र के लक्षणों के खिलाफ एक अच्छा रक्षात्मक तंत्र है. सेलुलर चयापचय के बाद मुक्त कण त्वचा पर रह जाते हैं जो आपकी त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं.

3. नागफनी की पत्तियों से करें सूजन को कम (Nagphani For Swelling In Hindi)

नागफनी की पत्तियों से निकाले जाने वाले रस सूजन को कम करने वाले प्रभाव देखे गए हैं जिनमें गठिया, जोड़ों के दर्द और मांसपेशियों के तनाव से जुड़े लक्षण भी शामिल हैं.इसके रस को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं या अधिक लाभों का आनंद लेने के लिए सब्जी के रूप में उपयोग करें.

4. पाचन क्रिया से जुड़ी सभी समस्याओं में गुणकारी है नागफनी (Nagphani For Digestion In Hindi)

इसमें बहुत अधिक आहार फाइबर होता है. पाचन प्रक्रिया में आहार फाइबर बहुत आवश्यक होता है क्योंकि यह आँतों के कार्यों के लिए बल्क जोड़ता है. यह दस्त और कब्ज के लक्षणों को कम करता है.इसके अलावा, शरीर में अतिरिक्त फाइबर सक्रिय रूप से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम कर सकते हैं.

  भूनी हुई गोंद 80 साल के बुढ़ापे में भी जवानी भर दे

5. अल्सर के लिए करें नागफनी का सेवन (Nagphani For Ulcer In Hindi)

नाकपेशियों में तरल पदार्थ और रेशेदार पदार्थ गैस्ट्रिक अल्सर के विकास को रोकते हैं और अल्कोहल के अत्यधिक खपत के कारण विकसित होते हैं, इसलिए ऐसे लोगों के लिए जो नियमित रूप से अल्सर से ग्रस्त हैं उनको इस शक्तिशाली जड़ी बूटी को अपने आहार में शामिल करना चाहिए.

6. चयापचय के लिए नागफनी का प्रयोग  (Nagphani For Metabolism In Hindi)

नागफनी में थायामिन, राइबोफ़्लिविन, नियासिन और विटामिन बी 6 शामिल हैं, जो सभी सेलुलर चयापचय के महत्वपूर्ण घटक होते हैं जो पूरे शरीर में एंजाइम कार्यों को विनियमित करते हैं.एक स्वस्थ अंग प्रणाली और हार्मोनल संतुलन आसानी से वजन कम करता है, स्वस्थ मांसपेशियों को बढ़ावा देता है.

7. वजन कम करने के लिए नागफनी का प्रयोग (Nagphani For Weight Loss In Hindi)

नागफनी में फाइबर शरीर को पूर्ण महसूस करा सकता है और घ्रालिन को रिलीज़ करने से रोकता है, यह एक भूख को बढ़ाने वाला हार्मोन है. इसके अलावा यह संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल में बहुत कम है.यह चयापचय की क्षमता से भरपूर है. इसमें मौजूद विटामिन बी 6, थियामीन, और रिबोफ़्लिविन की उपस्थिति भी चयापचयी कार्य को जल्दी से करती है.

 जल्दी पतला होने और पेट अन्दर करने की आयुर्वेदिक दवा

8. नागफनी के गुणों से करें मधुमेह का उपचार (Nagphani For Diabetes In Hindi)

नागफनी के पत्तों से तैयार अर्क शरीर के भीतर ग्लूकोज के स्तर के लिए शक्तिशाली नियामक हो सकता है. टाइप 2 डायबिटीज़ वाले मरीजों के लिए, यह ग्लूकोज के स्तर में कम स्पाइक पैदा कर सकता है जिससे मधुमेह को मैनेज करना आसान हो जाता है.

9. नागफनी के पौधे से करें कैंसर का इलाज (Nagphani For Cancer In Hindi)

इसमें पाए जाने वाले फाइटोकेमिकल्स, फ्लेवोनोइड यौगिकों, विटामिन सी और अन्य एंटीऑक्सिडेंट की विविधता संपूर्ण प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए बेहद फायदेमंद होती है, खासकर जब विभिन्न कैंसर की बात आती है. एंटीऑक्सिडेंट फायदेमंद यौगिक हैं जो शरीर में मुक्त कणों की तलाश करते हैं और कैंसर कोशिकाओं में स्वस्थ कोशिकाओं के डीएनए को उत्परिवर्तित करने से पहले उन्हें समाप्त कर देते हैं.

  पेट में गैस बनने की समस्या से तुरंत छुटकारा पाने का आसान सा घरेलु उपाय

10. अनिद्रा की समस्या में नागफनी का प्रयोग (Nagphani For Insomnia In Hindi)

इसमें मैग्नीशियम भी होता है जो अनिद्रा, चिंता या बेचैनी से ग्रस्त लोगों में नींद पैदा करने के लिए एक उपयोगी खनिज है. यह शरीर में सेरोटोनिन को रिलीज़ करता है, जिसके परिणामस्वरूप मेलाटोनिन का स्तर बढ़ जाता है.

नागफनी के नुकसान

नागफनी कभी-कभी लोगों को हाइपोग्लाइमिक बना सकता हैं.

ऑपरेशन से पहले भी अत्यधिक उपयोग नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि इससे ग्लूकोज और रक्त पोषक तत्वों को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है.

■  शरीर के किसी भी हिस्से की नसों में होने वाले दर्द का घर पर इलाज करने का अचूक उपाय

दोस्तों नागफनी का फूल, कैक्टस के पौधे, नागफनी in english, Benefits of Nagphani का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास नागफनी के फल और पत्तियों के लाभ, नागफनी का दूध कैसा होता है और इसे कैसे निकालें, नागफनी के दूध का प्रयोग  के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply