नाक में घी naak mein ghee dalne ke fayde aur labh in hindi

नाभि में लगभग 72 हज़ार रक्त नलिकाएं होती है। जो शरीर के विभिन्न भागों की रक्त धमनियों से जुड़ी होती हैं। इस कारण जब हम घी या तेल से नाभि की मालिश करते हैं, तो ये धमनियां सक्रीय हो जाती हैं।

जिससे खून का संचार शरीर के अंगों में सुचारू रूप से होता है। परिणामस्वरुप बाल, स्किन में चमक आने के साथ हीं अन्य अंगों में भी लाभ प्राप्त होता है। आइये जाने देशी घी की कुछ बूँद नाभि पर रोज़ लगाने से प्राप्त होने वाले लाभ।

बालों के लिए

औषधीय गुणों से भरपूर घी का उपयोग बालों में भी किया जा सकता है जो बालों को सुंदर, नरम और चमकदार बना सकता है। लेकिन स्‍वाभाविक है कि आज की चमक दमक में कोई भी अपने बालों में घी का उपयोग नहीं करना चाहता है। लेकिन इसका एक अच्‍छा विकल्‍प नाभि पर घी लगाने के रूप में मौजूद है। क्‍योंकि नाभि पर घी की बूंदे डालने से यह घी के सभी पोषक तत्‍वों को तेजी से अवशोषित कर लेती है। और नसों के माध्‍यम से उपयुक्‍त पोषक तत्‍वों को उनकी जरूरत वाले अंगों तक पहुंचाने में मदद करती है। इसलिए आप घी में मौजूद विटामिन और प्रोटीन को प्राप्‍त करने के लिए रात में सोने से पहले अपनी नाभि में लगाकर मालिश करें। ऐसा करने पर आपके कमजोर बाल फिर से मजबूत हो सकते हैं।

त्‍वचा के लिए

आप अपनी त्‍वचा संबंध विभिन्‍न समस्‍याओं से छुटकारा पाने के लिए नाभि में घी का उपयोग कर सकते हैं। क्‍योंकि इसमें मौजूद विभिन्‍न पोषक तत्‍व त्‍वचा संबंध विभिन्‍न समस्‍याओं का प्रभावी रूप से इलाज करने में मदद करते हैं। घी एक अद्भुद मॉइस्‍चराइजर है जो आपकी त्‍वचा को कोमल और स्‍वस्‍थ बनाने में मदद करता है। घी में मौजूद फैटी एसिड आपकी त्‍वचा को गहराई से हाइड्रेट करने और परतदार त्‍वचा को तुरंत मॉइस्‍चराइज करने में मदद करता है। घी से त्‍वचा की मालिश करने पर यह उम्र बढ़ने संबंधी लक्षणों को कम करने में सहायक होता है। यदि आप आंखों के नीचे डार्क सर्कल्‍स से परेशान हैं तो आंख के नीचे घी की हल्‍की मालिश करें। यह आंख के काले घेरे हटाने में प्रभावी हो सकता है। देशी घी के फायदे इसलिए भी होते हैं क्‍योंकि ये विटामिन से भरपूर होते हैं।

शरीर की कमजोरी दूर करे 

सेवन करने पर घी शरीर को ताकत और मजबूती प्रदान करता है। लेकिन बहुत से लोग घी खाना पसंद नहीं करते हैं। इस वजह से वे घी के फायदे प्राप्‍त करने से चूक जाते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। वो लोग भी घी के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं जो धी को आहार के रूप में नहीं लेते हैं। इसके लिए उन्‍हें अपनी नाभि पर घी लगाकर हल्‍की मालिश करने की आवश्‍यकता है। चिकित्‍सकों और आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार जो लोग शारीरिक कमजोरी महसूस करते हैं उन्‍हें अपने पेट और विशेष रूप से नाभि पर घी की मालिश करनी चाहिए। ऐसा करने पर घी के पोषक तत्‍वों को नाभि द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है। जिससे आपको भी घी के सारे पोषक आसानी से प्राप्‍त हो सकते हैं।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

घुटने के दर्द के लिए

उम्र बढ़ने के साथ ही हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। इसलिए अधिकांश लोगों को घुटनों का दर्द सताने लगता है। लेकिन यदि आप नियमित रूप से प्रतिदिन रात में सोने से पहले नाभि में देसी घी की कुछ बूंदों का उपयोग करते हैं तो आपको घुटने के दर्द से राहत मिल सकती है। इसके अलावा आप घी से अपने पेट की हल्‍की मालिश भी ले सकते हैं।

जोड़ों का दर्द ठीक करे

अधिकांश बुजुर्गों को जोड़ों में दर्द जैसी समस्‍याएं होती हैं। जोड़ों में होने वाला दर्द अत्‍यंत कष्‍टदायक होता है जिसके कारण लोगों को चलने तक में परेशानी होती है। इसलिए इस समस्‍या का प्रभावी इलाज किया जाना चाहिए। आप जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए घी की मालिश कर सकते हैं। साथ ही उन्‍हें रात में सोने से पहले अपनी नाभि में घी की 3-4 बूंदें डालनी चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि आप अन्‍य पहले से चल रहे उपचार को बंद कर दें। लेकिन ऐसा करने से आपको आंशिक लाभ जरूर प्राप्‍त हो सकता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleथायराइड के लक्षण – Symptoms Of Thyroid
Loading...

Leave a Reply