Home-made-butter

कृष्‍ण जन्माष्टमी के मौके पर भोग के लिए विशेष तौर से कृष्‍ण जी को माखन मिश्री का भोग लगाया जाता है। माखन मिश्री खाने में ज‍ितना मधुर लगता है, उतने ही इसके सेहत से जुड़े फायदे भी है। मक्‍खन में काफी पौष्टिक मात्रा में गुण मौजूद होते हैं। जन्‍माष्‍टमी के मौके पर जानिए माखन मिश्री खाने से और क्‍या-क्‍या फायदें हो सकते हैं।

छालों से द‍िलाएं राहत

इसके अलावा मुंह में छाले हो जाने पर माखन मिश्री का सेवन लाभदायक साबित होता है। इसे खाने से आपके छालों से जल्द ही आराम मिलेगा।

सिरदर्द से छुटकारा

माखन-मिश्री को मिलाकर प्रतिदिन अगर नाश्ते में खाया जाए, तो सिरदर्द और जोड़ों में दर्द की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। इससे जोड़ों में खाई हुई नमी और चिकनाई मिल सकेगी और रूखापन धीरे-धीरे कम होगा।

बवासीर की छुट्टी

बवासीर जैसी बीमारी से परेशान हैं, तो परेशान न हों, माखन मिश्री का नियमित रूप से सेवन कर, कुछ ही दिनों में आप इस समस्या से निजात पा सकेंगे।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

याददाश्‍त के ल‍िए बेहतर

माखन मिश्री का सेवन करना मस्तिष्क के लिए भी बेहद फायदेमंद होता है। बच्चों को नियमित रूप से अगर माखन मिश्री खिलाया जाए, तो यह उनके मस्तिष्क और शरीर के विकास के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

हीमोग्लोबिन का स्‍तर ठीक करे

माना जाता है कि माखन के साथ मिश्री मिलाकर खाने से शरीर ताकत और पौष्टिकता मिलती है। साथ ही शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्र भी बढ़ती है जिससे त्‍वचा में कांति आती है।

source

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleहल्दी से बवासीर का इलाज
Next articleआयुर्वेद के ये नियम अपनाये और हमेशा स्वस्थ रहे। 40 की उम्र में दिखेंगे 20 साल के।

Leave a Reply