immunity badhane ke upay increase immunity

मौसमी बुखार, कोरोना वायरस और सांस संबंधी बीमारियों के साथ ही आम संक्रमण जैसे निमोनिया आदि का डर बना हुआ है। बड़े और बच्चों में ही नहीं, इस समय तो हर किसी के बीमार होने की संभावना बनी हुई है। ऐसे में जरूरी है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाया जाए, ताकि संक्रमण और मौसमी बीमारियों से बचा जा सके। खानपान में हमें इस वक्त ऐसी चीजों को ज्यादा से ज्यादा खाना चाहिए जो इम्युनिटी को बढ़ा सकें। इम्युनिटी बढ़ाने में भारतीय मसालों से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। हमारे किचन में कई ऐसे मसाले हैं जो इम्युनिटी को बढ़ाकर कई रोगों के जोखिम से बचा सकते हैं।

जानें किन मसालों में है किन रोगों को हरने का गुण

हल्दी

हल्दी एंटीसेप्टिक होने के साथ ही एंटीइंफ्लेमटरी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरी होती है। ये निमोनिया और हर तरह के संक्रमण से बचाने का भी काम करती है। निमोनिया में या इससे बचने के लिए हल्दी वाला दूध जरूर पीएं। इसके अलावा कच्ची हल्दी को पानी में उबाल कर रख लें और बीच में-बीच में पीते रहें। हल्दी में सरसों का तेल मिला कर हल्का गुनगुना कर ले और उसे बच्चों की छाती पर लगा दें। हल्दी में मौजूद करकुमिन नामक पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट हमारी कोशिकाओं को नष्ट होने से रोकता है और नई कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होता है।

लहसुन का पेस्ट

निमोनिया होने पर लहसुन का पेस्ट भी सीने पर लगाना फायदेमंद होता है। लहसुन का प्रयोग सुबह खाली पेट करना हाई बीपी में भी बहुत फायदेमंद होता है।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

लौंग और काली मिर्च

लौंग और काली मिर्च सर्दी-जुकाम, कफ-खांसी आदि से बचाने बहुत कारगर होता है। आप 5-6 लौंग और काली मिर्च को एक गिलास पानी में उबाल लें। जब पानी ठंडा हो जाएं तो इसमें खाने वाला सोडा डाल कर पी लें।

ब्लैक-टी और मेथी का मिश्रण

इम्युनिटी बढ़ाने का सबसे कारगर आयुर्वेदिक दवा होती ब्लैक टी और मेथी है। दो टी-स्पून मेथी पाउडर में एक कप ब्लैक-टी मिलाकर सुबह और शाम पीएं। इससे इम्युन सिस्टम मजबूत होगा।

अजवाइन

अजवाइन संक्रमण से बचाने वाला होता है। इसे पानी में उबाल कर पीने से बुखार और संक्रमण दोनों ही दूर होते हैं। आजवाइन में मौजूद नियासिन और थाइमोल ब्लड सर्कुलेशन को भी सुधारता है। ये दिल और कोलेस्ट्राल के लिए फायदेमंद होता है।

हींग

हींग में प्रचुर मात्रा में एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और एंटीवायरल प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं, जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाती हैं।

हमारे यूट्यूब चैनल को SUBSCRIBE करने के लिए लाल रंग के लिंक पर क्लिक करें –

https://bit.ly/3dIPAju

दालचीनी

दालचीनी में सिनामलडिहाइड होता है जो एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल भी होता है। यही कारण है कि हर तरह के इंफेक्शन में इसका पानी पीना बहुत काम करता है। संक्रमण, गले में खराश, सर्दी-जुकाम से बचाव में ये बहुत कारगर होता है।

■  ग्रीन टी और ब्लैक टी, दोनों ही इम्यून सिस्टम के लिए फायदेमंद होती हैं लेकिन एक दिन में इनके एक से दो कप ही पिएं. ज्यादा मात्रा में इसके सेवन से नुकसान हो सकता है.

■  दही के सेवन से भी इम्यून पावर बढ़ती है. इसके साथ ही यह पाचन तंत्र को भी बेहतर रखने में मददगार होती है.

■  ओट्स में पर्याप्त मात्रा में फाइबर्स पाए जाते हैं. साथ ही इसमें एंटी-माइक्राबियल गुण भी होता है. हर रोज ओट्स का सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है.

■  विटामिन डी हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है. इससे कई रोगों से लड़ने की ताकत मिलती है. साथ ही हड्डियों को मजबूत बनाए रखने के लिए और दिल संबंधी बीमारियों को दूर रखने के लिए भी विटामिन डी लेना बहुत जरूरी है.

■  संक्रामक रोगों से सुरक्षा के लिए विटामिन सी का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है. नींबू और आंवले में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को दुरुस्त रखने में मददगार होता है.

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous article7 बार निम्बू के साथ इसे लो कितना भी पेट कमर पे चर्बी हो गायब | how to lose tummy fat | Belly Fat
Next articleजानिए कौन सा मास्क वायरस से कितना बचाव करता है

Leave a Reply