sleep

एक अच्छी सेहतमंद जिंदगी के लिए रात की भरपूर नींद बेहद जरूरी होती है और साथ ही हमारी सोने की स्थिति भी, क्योंकि हमारे सोने की पोजीशन का शारीरिक स्वास्थ्य और दिमाग पर बहुत असर पड़ता है। बाँयी तरफ सोने से न केवल शरीर में रक्त का संचार बेहतर रहता है बल्कि पेट संबंधित रोग, दिल के रोग और अन्य समस्याओं से भी बचाव रहता है। शरीर में बाएं और दाएं पक्षों के मुताबिक सोने की स्थितियों के बारे में प्राचीन काल से ही यह माना जाता है कि बाँयी ओर सोना हमारे लिए बेहद लाभकारी होता है। तो चलिए जानते हैं कि बाँयी ओर सोने से और क्या लाभ हो सकते हैं-

खर्राटे कम करने में मददगार

यदि आप भी सोते हुए तेज खर्राटे लेने वाले लोगों में से हैं तो आपको भी बाँयी तरफ करवट लेकर सोना चाहिए, ऐसा करने से आपको खर्राटे लेने की परेशानी से छुटकारा मिल सकता है। दरअसल पीठ के बल सोने पर जीभ और गले का वायुमार्ग बंद रहता हैजिससे आपको सांस लेने में मुश्किल होती है, फलस्वरुप तेज खराटे आने लगते हैं। इसी के विपरीत स्थिति बाँयी तरफ करवट लेकर सोने पर जीभ और गले का वायुमार्ग साफ रहता है जिससे सांस लेने में आसानी होती है और आपको खराटे भी नहीं आते हैं। बाँयी तरफ करवट लेकर सोना हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होता है, हालांकि यदि आपको ऐसे सोने की आदत नहीं है तो शुरुआत में यह थोड़ा सा मुश्किल होगा लेकिन अच्छी नींद और अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है।

ग*र्भावस्था में फायदेमंद

ग*र्भवती महिलाओं के लिए भी बाँयी ओर करवट लेकर सोना बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि एक तो इससे रक्त का प्रवाह सही रहता है और पीठ पर दबाव भी कम बनता है। पीठ और रीढ़ की हड्डी में दबाव कम रहने के कारण आप अच्छी नींद ले पाते हैं। इसके अलावा यह प्लेसेंटा में पोषक तत्व को पहुंचाता है और ग*र्भाशय व ग*र्भ में पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य को भी सही रखता है। यदि आप चाहें तो बाँयी तरफ सोने पर घुटनों को थोड़ा मोड़कर पैरों के बीच तकिया लगाए, ऐसा करने से आप ग*र्भावस्था में आरामदायक स्थिति में सो पाएंगे।

पाचन क्रिया बेहतर रहती है

बाँयी तरफ करवट लेकर सोना पेट के लिए, सीने में जलन, एसिडिटी, दिल के लिए और भी अन्य कई बीमारियों के लिए फ़ायदेमंद साबित होता है। बाँयी ओर करवट लेकर सोने से पेट और अग्नाशय खाना पचाने के कार्य को आसानी से करते हैं। शरीर में पेट और अग्नाशय बाँयी ओर स्थित होने के कारण अग्नाशय से एंजाइम्स सही समय पर निकलना शुरू होता है और यह अपनी सही स्तिथि में भी रहते है। बाँयी ओर सोने से गुरुत्वाकर्षण के खिंचाव के द्वारा भोजन छोटी से बड़ी आँत तक आराम से पहुंचता है जिससे पाचन क्रिया सही रहती है, विषाक्त पदार्थ भी शरीर से बाहर निकलते हैं और मल त्याग करने में भी आसानी रहती है। यदि आपको खाना खाने के पश्चात सीने में जलन, कब्ज और अपच की शिकायत रहती है तो आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार भोजन करने के उपरांत थोड़ी देर के लिए बाँयी तरफ करवट लेकर सोना चाहिए, इससे पाचन क्रिया अच्छी रहती है और पेट संबंधित परेशानी भी नहीं होती है।

दिल के लिए लाभकारी

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए रक्त का सही संचार होना बेहद जरूरी होता है, अब क्योंकि हमारा दिल बाँयी ओर होता है इसलिए जब हम बाँयी तरफ करवट लेकर सोते हैं तो इससे खून की सप्लाई काफी अच्छी मात्रा में होती है। ऐसा करने से इससे दिल पर जोर कम पड़ता है और हमें आराम व ऊर्जा का एहसास होता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleपाचन शक्ति इतनी बढ़ जाएगी की पत्थर भी पचा लोगे,खट्टी डकार,सीने में जलन गैस पेट फूलना अफरा/कब्ज मोटापा
Next articleजानिए कौन सा फल को खाने से कौन सी बीमारी होगी जड़ से दूर
Loading...

Leave a Reply