हमारे शरीर के हानिकारक पदार्थो को शरीर से छानकर बाहर निकलने का काम किडनी का ही होता है! किडनी हमारे शरीर के लिए रक्त शोधक का काम करती है, हम जो कुछ भी खाते है उसमे से विषैले तत्वों और नुकसान पहुचने वाले पदार्थो को यूरिनरी सिस्टम (मूत्राशय) के जरिये बाहर निकाल देती है जिससे की शरीर ठीक तरीके से काम कर सके और जहरीले तत्व कोई हानि नहीं पंहुचा सके!

शरीर में किडनी का मुख्य कार्य खून का शुद्धीकरण करना है। जब बीमारी के कारण दोनों किडनी अपना सामान्य कार्य नहीं कर सके, तो किडनी की कार्यक्षमता कम हो जाती है, जिसे हम किडनी फेल्योर कहते हैं।

डाक्टर प्रयाग डाभी – आज किडनी फेल्योर के चमत्कार के बारे मे बताता हूँ । मैने किडनी के विषय में पहले 1 लेख लिखा था जिसके परिणाम स्वरुप मुझे 2-3 लोगो ने कॉल  करके बताया कि उनकी किडनी ठीक हो गई है. डॉक्टर्स ने बताया था के उनकी किडनी सिकुड़ चुकी है और अभी डायलिसिस के लिए तैयार रहें. तो उन्होंने ये बताया हुआ प्रयोग किया और कुछ ही दिनों में उनकी रिपोर्ट आई के उनकी किडनी सही हो गयी है और अभी उनको डायलिसिस की ज़रूरत नहीं है. वही प्रयोग आज मैं आपके  साथ शेयर करना चाहता हूँ, जिस से के अनेक लोगों तक ये प्रयोग पहुंचे और अनेक जन इसका लाभ उठा सकें. आइये जाने इस प्रयोग के बारे में-

प्रयोग इस प्रकार है :

किडनी फेल्यर में गौमूत्र का कमाल :

गौमूत्र अर्क सुबह शाम 20 – 20 मि.ली. खाली पेट लेना है. और इसके बाद 30 मिनिट तक कुछ भी खाना नहीं है.

kidney

इसके साथ में ये नीचे बताया हुआ काढ़ा भी पीना है.

काढ़े के लिए आवश्यक सामग्री :

गिलोय
गोखरु
ऐरंड मूल
वरुण छाल
पुनँनवा
ईन्दजौ

उपर बताई गयी चीजें आपको किसी अच्छे पंसारी से साफ़ सुथरी कंडीशन में लेनी हैं. बाद में इन औषधियों को समान मात्रा में लेकर थोडा कूटकर 20 ग्राम की मात्रा में ले आैर 2 ग्लास पानी मे उबाले जब 1 ग्लास पानी बचे तब इसको छानकर पी लें।

ये  प्रयोग भी सुबह शाम करना है. गौमूत्र लेने के आधे घंटे बाद ये काढ़ा पियें और इसके भी आधे घंटे तक कुछ भी खाना पीना नहीं है।

इन प्रयोग से जिनको पथरी, किडनी सिकुडना, डायालिसिस, किडनी फेल्योर जैसे रोग हैं उनसे आप बच जायेगे।

kidney-failure

 
Loading...

NO COMMENTS

Leave a Reply