khaskhas ke fayde

खसखस और दूध दोनों में कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। इन दोनों को अगर एक साथ मिलाकर पिएं तो इससे मिलने वाले फायदे अधिक होते हैं। खसखस वाला दूध तैयार करने के लिए दो चम्मच खसखस को पानी में भिगो दें। चार पांच घंटे बाद इसे पीस लें और गुनगुने दूध में मिलाकर पिएं। इस ड्रिंक को रात में पीने से डाइजेशन खराब हो सकता है। इसलिए इसे नाश्ते से पहले पीना ज्यादा इफेक्टिव है। हम बता रहे हैं खसखस वाला दूध पीने के 10 फायदे।

खसखस का इस्तेमाल किस मौसम में करना होता है बेहतर

वैसे तो खसखस के फायदे अनगिनत हैं और इसके औषधीय गुणों के कारण पूरे साल कभी भी इसका इस्तेमाल करने की जरूरत पड़ सकती है। लेकिन आयुर्वेदिक चिकित्सक खसखस का प्रभाव ठंडा होने के कारण इसका सेवन गर्मी के मौसम में करना ही फायदेमंद होता है। सर्दी के मौसम या मानसून में खसखस के सेवन से बचना चाहिए । गरमी के दिनों में खसखस से शरबत बनाया जाता है जिससे शरीर को ठंडक मिलती है।

खसखस वाला दूध पीने के फायदे

दर्द निवारक

खसखस को दर्द निवारक के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसमें पाया जाने वाला ओपियम एल्कलॉइड्स सभी प्रकार के दर्द को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। खास तौर से इसका प्रयोग मांसपेशियों के दर्द में किया जाता है। खसखस का तेल भी बाजार में उपलब्ध होता है, जिसका प्रयोग दर्द वाले स्थान पर किया जाता है।

सांस संबंधी तकलीफ

सांस संबंधी तकलीफ होने पर भी खसखस काफी फायदेमंद होता है। इसके साथ ही यह खांसी को कम कर सांस संबंधी समस्याओं में लंबे समय तक आराम दिलाने में भी मदद करता है।

नींद न आने की समस्या

अगर आप नींद न आने की समस्या से परेशान हैं, तो सोने से पहले खसखस का गर्म दूध पीना आपके लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है। यह अनिद्रा की समस्या को दूर करता है। यह आपको नींद लेने के लिए प्रेरित करेगा।

फाइबर का बेहतरीन स्त्रोत

खसखस फाइबर का बेहतरीन स्त्रोत है, जिसका प्रयोग करने से कब्ज की समस्या नहीं होती। इसके अलावा यह बेहतर पाचन में भी मदद करता है और शरीर को उर्जा देने के लिए भी बहुत लाभदायक होता है।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें और अपडेट करें अपना हेल्थ है। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

पथरी में इलाज

गुर्दे की पथरी में इलाज के तौर पर भी खसखस को सेवन किया जाता है। इसमें पाया जाने वाला ओक्सलेट्स, शरीर में मौजूद अतिरिक्त कैल्शियम का अवशोषण कर गुर्दे में पथरी बनने से रोकता है।

मानसिक तनाव

खसखस मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाने के साथ-साथ त्वचा पर होने वाली झुर्रियों को भी कम करने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं, जो आपको जवां बनाए रखने में मदद करते है।

त्वचा

खसखस त्वचा को नमी प्रदान करने में भी सहायक होता है। यह त्‍वचा की जलन व खुजली को कम करने के साथ ही एक्जिमा जैसी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है।

त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए खसखस का इस्तेमाल दूध में पीसकर फेसपैक के रूप में किया जाता है। यह त्वचा को नमी प्रदान करने के साथ ही प्राकृतिक चमक लाता है, और चेहरा दमक जाता है।

वजन घटाने के लिए

वजन घटाने के लिए खसखस के बीज बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो वेट कम करने में मदद करता है। इसके लिए रोजाना कुछ दाने खाएं।

ब्लड प्रेशर

ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए खसखस का सेवन काफी फायदेमंद है। इसमें मौजूद पोटैशियम बीपी को कंट्रोल करने में मदद करता है।

खून की कमी

इसे दूध के साथ लेने से शरीर में खून की कमी दूर होती है और एनीमिया से बचा जा सकता है।

इसके अलावा कई तरह की छोटी-छोटी समस्याओं जैसे अधि‍क प्यास लगना, बुखार, सूजन या पेट में होने वाली जलन से राहत पाने के लिए खसखस का प्रयोग किया जाता है। यह पेट में बढ़ने वाली गर्मी को भी शांत करने में सहायक है।

खसखस के नुकसान

Khus Khus side effects

खसखस का सेवन हमेशा डॉक्टर के सलाह के अनुसार ही करना चाहिए। अत्यधिक मात्रा में खसखस ग्रास का सेवन करने से हद से ज्यादा पेट भरा हुआ महसूस होता है। सर्दी-खांसी होने पर खसखस का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए क्योंकि खस की तासीर ठंडी होती है। गर्भवती महिला या जो मां दूध पिलाती है वह खसखस का सेवन करने के पहले डॉक्टर से ज़रूर सलाह ले लें।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleइसे खाने से 100 साल तक नही होगा घुटनों/जोड़ों और बदन में दर्द
Next articleभोजन के बाद इन खतरनाक 6 आदतों को छोड़दे | How to Cure Acidity Or Gas Problem With Easy Way
Loading...

Leave a Reply