खाज खुजली का घरेलु इलाज और नुस्खा इन हिंदी

आज कल अधिकतर लोग खाज-खुजली से परेशान है।लोग बहुत सारा पैसा खुजली से निजात पाने के लिए खर्च करते हैं लेकिन कोई फायदा नही मिल पाता है। इसलिए इलाज करवाने से पहले यह जानना जरूरी है की इलाज कितना कारगर है।

खुजली और फोड़े-फुंसियों से छूटकारा पाने के लिए आयुर्वेद में एक अतिप्रभावशाली औषधि है जो खाज-खुजली को जड़ से मिटा देता है। इसके साथ ही यह औषधि चेहरे पर होने वाले फोड़े और फुंसियों को भी मिटा देता है।इस रामबाण औषधि का नाम चिरायता है जो सामान्य जड़ी-बूटी के दुकानों में भी आसानी से मिल जाता है।

आइये जानें दाद-खाज और खुजली का रामबाण इलाज, दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा, दाद खाज खुजली की क्रीम, दाद का इलाज पतंजलि, खुजली का घरेलू उपाय, दाद खुजली की दवा, खुजली की अंग्रेजी दवा नाम, खुजली की अंग्रेजी दवा का नाम।

आयुर्वेद के मतानुसार चिरायता का रस तीखा, गुण में लघु, प्रकृति में गर्म तथा कड़ुवा होता है। चिरायता मन को प्रसन्न करता है। इसके सेवन से पेशाब खुलकर आता है। यह सूजनों को पचाता है। दिल को मजबूत व शक्तिशाली बनाता है।
आज भारत में बहुत से लोग खुजली से परेशान रहते हैं। खुजली एक ऐसी बीमारी है, जो ना तो ठीक से सोने देती है, और ना ही काम करने देती है। वैसे तो खुजली होने के बहुत कारण होते हैं, लेकिन उनमें से प्रमुख है पसीना।

■  तुलसी के बीज के बेहतरीन फायदे जिससे आपके हर रोग होंगे आसानी से दूर

जब हम धूप में या अन्य किसी जगह पर काम करते हैं, और हमें पसीना आता है, तो उस जगह कुछ फंगस हमारी त्वचा में प्रवेश कर जाते हैं। जिसके कारण हमें खुजली होती है। एक बार खुजली होने के बाद उससे छुटकारा पाना आसान नहीं होता है। लेकिन आज हम आपको बताएंगे, खुजली को जड़ से खत्म कर देने वाला जबरदस्त घरेलू नुस्खा

खाज-खुजली के लिए घरेलु नुस्खा

सबसे पहले आपको तुलसी के लगभग 10-15 पत्ते लेने हैं। अब इसमें एक गेहूं के दाने के समान मात्रा में चूना मिलाना है।
अब दो पत्थरों के बीच इसको रगड़कर लेप बनाना है। इस लेप को खुजली वाले स्थान पर लगाएं। लेप लगाने पर थोड़ी देर तो जलन होती है, लेकिन कुछ देर बाद राहत महसूस हो जाती है।

इस प्रकार आप को यह लेप रोज बनाकर तब तक लगाना है, जब तक खुजली जड़ से खत्म नहीं हो जाती है।
बीमारियों से बचने के लिए महंगी दवाओं के स्थान पर घरेलू नुस्खे आजमाएं। इन्हीं घरेलू नुस्खों में एक है अनमोल चिरायता। बरसों से हमारी दादी-नानी कड़वे चिरायते से बीमारियों को दूर भगाती रही हैं, आप भी जानें इसके बारे में..

■  गर्म दूध में गुड़ डालकर पीने के जबरदस्त फायदे, बड़े से बड़े रोग को करे ठीक

बनाने और सेवन करने के तरिका

लगभग 5 से 10 ग्राम चिरायता को एक ग्लास पानी में रात को डुबो कर छोड़ दें और सुबह खाली पेट नित्य क्रिया के बाद चिरायता छान कर पानी पी ले। 2 से three महीने तक लगातार ऐसे ही सुबह-शाम चिरायते का सेवन करने से खाज-खुजली सदा के लिए ख़त्म हो जाता है।तब तक खुजली से राहत के लिए कोई भी फफूंदरोधी मलहम का इस्तमाल कर सकते हैं।

त्वचा सम्बंधी अन्य रोग :

खुजली, फोडे़ फुन्सी जैसे रोगों में चिरायता का लेप लगाना चाहिए। इससे ये सभी रोग नष्ट हो जाते हैं।

रात को पानी में चिरायते की पत्ती को डालकर रख दें। रोजाना सुबह उठते ही इसका पानी पीने से खून साफ हो जाता है और त्वचा के रोग मिट जाते हैं।

1 चम्मच चिरायता 2 कप पानी में रात को भिगोकर सुबह के समय छानकर सेवन करें। इससे फोड़े-फुन्सी, यकृति-विकार, जी मिचलाना, भूख न लगना आदि रोगों में लाभ होता है। यदि कड़वा पानी पिया नहीं जा सके तो स्वादानुसार मिश्री मिलाकर पीते हैं।

■  जानिए दांतों से कीड़ा हटाने के घरेलु उपचार

दोस्तों daad khaj khujli ka ilaj aur gharelu nuskhe in hindi, daad khujli ka permanent ilaj in hindi, purani khujli ka ilaj in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास daad khaj khujli ki dawa aur ayurvedic upchar in hindi के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

13 COMMENTS

Leave a Reply