jeebh ke rang se jane sehat

आप जीभ के रंग से भी किसी गंभीर बीमारी का पता लगा सकते हैं। यह कार्य सदियों से बीमारियों के मूल्याकंन के लिए उपयोग किया जा रहा है मगर अब पश्चिमी दुनिया में भी चिकित्सा विशेषज्ञ इस प्रक्रिया का उपयोग कर रहे हैं। हो सकता है कि आपको जानकारी न हो मगर जीभ का मस्तिष्क और अन्य महत्वपूर्ण अंगों के करीबी संबंध होता है जिसकी वजह नसे हैं और इससे शरीर में खराबी जानी जा सकती है

मेडिकल विशेषज्ञों ने लोगों को अपनी जीभ का अक्सर घर पर निरीक्षण करने की सलाह दी, खासकर सुबह उठने के तुरंत बाद, क्योंकि बाद में आहार रंगत छोड़ने की संभावना होती है। अगर कुछ असामान्य दिखता है, तो कृपया तुरंत अपने चिकित्सक से सलाह लें।

जर्मनिक एरफोर्ट हेलियो अस्पताल के विशेषज्ञों के मुताबिक, जीभ आम तौर पर गुलाबी रंग की होती है, जिसकी सतह कुछ खुरदरी होती है। यदि जीभ इससे हट कर नजर आये चाहे कुछ घंटो के लिए ही तो यह किसी बीमारी का संकते हो सकता है।

जर्मन डॉक्टरों ने कहना था कि शरीर में एसिड का स्तर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, यदि किसी मरीज के परिणाम में पित में पाये जाने वाले तरल पदार्थ बिगड़ता है, तो एसिड का स्तर प्रभावित होता है। यही कारण है कि यदि जीभ पीले रंग की हो जाती है, तो उसे पित की समस्याओं का प्रतीक माना जाता है। हालांकि, रंग में परिवर्तन चिकित्सा समस्याओं को शामिल नहीं किया जाता है, लेकिन अगर इसका खुरदुरापन खत्म हो जाये तो यह विटामिन या मिनर्ल की कमी का संकेत हो सकता है।

 

जीभ के रंग से जाने आप कितने स्वस्थ है

काला रंग 

यदि जीभ की रंगत काली हो जाये तो यह बल्ड कैंसर की ओर इशारा करता है।

गहरा पीला रंग 

इसी तरह, बहुत ज्यादा गहरा पीला रंग जिगर या पित में समस्या का संकेत देता है।

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें और अपडेट करें अपना हेल्थ है। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

भूरा रंग 

यदि जीभ का रंग भूरा हो जाता है, तो यह पोषण नली में समस्या का कारण भी हो सकता है।

ग्रे रंग 

जबकि ग्रे रंग का दिखना खून की कमी के रूप में देखा जाता है।

नीला

यदि जीभ नीला हो जाये है, तो यह फेफड़ों में बीमारियों का भी परिणाम हो सकता है।

गहरा सफेद रंग 

नजला जुकाम या पेट की बीमारी के कारण, जीभ पर गहरा सफेद रंग हो जाता है।

भूरी या वह सूजी जीभ

यदि जीभ भूरी है या वह सूज रही है, तो यह भी विटामिन की कमी का संकेत होता है। इसी प्रकार, यदि जीभ में सूजन के साथ रंग थोड़ा भूरा है, तो यह गुर्दा रोगों का संकेत हो सकता है।

source

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleपत्ता गोभी के पत्तो को छाती और टांगों पर लगाकर सोने से होने वाले फायदे
Next articleअलसी के पानी से मोटापा कम करें 1 दिन में 1 किलों वजन कम करें
Loading...

Leave a Reply