मानसून के समय सर्दी-खांसी ,गले में दर्द जैसी समस्याओं का होना आम हो गया है। इसके लिए दवाई के जगह पर घरेलू नुस्ख़ों को अपनाना भी अच्छा होता है। इसके लिए चलिये पहले खोज किचन से करते हैं। हर किचन में लौंग तो मिल ही जाएगा। यह एक ऐसा मसाला है जिसका इस्तेमाल सदियों से कई तरह के घरेलू इलाजों में किया जाता रहा है। दाँत दर्द में तो इसका चलन आम है , इसके साथ ही आपको शायद यह भी पता होगा कि यह वज़न घटाने में भी बहुत मदद करता है। लेकिन आप यह नहीं जानते हैं कि गले के खराश या दर्द में लौंग कारगार रूप से काम करता है। लौंग कैसे काम करता है? सर्दी-खांसी के दौरान गले में दर्द तो होता ही है। लौंग में कुछ एसे यौगिक या कम्पाउन्ड होते हैं जो जिनमें एन्टीबैक्टिरिअल गुण होता है जो इन्फेक्शन को कम करके गले के दर्द से राहत दिलाता है। गले के खराश होने पर जो खुजली जैसा एहसास होता है उसको भी कम करता है। गले के दर्द के इलाज में लौंग का कैसे इस्तेमाल करें? लौंग के फली को एक चम्मच शहद में भिगोकर कुछ घटों के लिए रख दें। इस काम को आप रात में भी करके रख सकते हैं। उसके बाद लौंग को निकालकर शहद को पी लें या शहद लेने के बाद लौंग को अपने मुँह में भी रख सकते हैं।

cloves

Loading...

Leave a Reply