दिल के मरीजों के लिए अमृत है ये फल, खाने से होगा दिल मजबूत,...

केले  में थाइमिन, रिबोफ्लेविन, नियासिन और फॉलिक एसिड के रूप में विटामिन ए और विटामिन बी पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है। इसके अलावा केला ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता...

दिल से जुड़े हर खतरे से महफूज़ रखेंगी ये चीज़ें, कभी नहीं होगा हृदयरोग

भोजन में अनेक ऐसी वस्तुएं हैं, जिन्हें प्रतिदिन प्रयोग करके हृदयरोग व हृदयाघात से बचा जा सकता है। आइये जानते हैं कुछ ऐसी ही घरेलू चीजों के विषय में जिनका सही...

राजमा : दाल ही नहीं; औषधि भी, वजन कम करने से लेकर मधुमेह और...

राजमा को किडनी बीन्स के नाम से भी जाना जाता है. भारत समेत दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में राजमा बहुत चाव से खाया जाता है. जिस तरह भारत में राजमा बहुत...

जानिए हृदय को स्वस्थ रखने के घरेलु उपचार

हृदय हमारे शरीर का सबसे व्यस्त अंग है, जो हमारे जन्म के साथ ही कार्य करना शुरू करता है तो मृत्यु के साथ ही बंद होता है। यदि आप हृदय के...

खनिजों से भरपूर यह मसाला, करेगा फेफड़ों से जुड़े रोगों का प्राकृतिक इलाज

छोटी इलायची खून बढ़ाने, बदहज़मी, भूख बढ़ाने, एसिडिटी में, फेफड़ो के रोगो, हृदय रोगो, डी टॉक्सिफिकेशन, मुंह के रोगो, खांसी, हिचकी, सिरदर्द, पेशाब के रोगो और यहाँ तक के कैंसर के...

यू ही नहीं कहते आम को फलों का राजा, इसके हैं अनेक लाभ

आम को फलों का राजा यूं ही नहीं कहा जाता। इसके एक से बढ़कर एक गुण हैं, जो इसे खास बनाते हैं। रसीला आम ‘फलों का राजा’ के रूप में मशहूर भारत...

दोमुहें बालों से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय

प्रदूषित वातावरण की वजह से बाल दोमुंहे हो जाते हैं, इसके अलावा बालों पर अत्‍यधिक रसायनिक प्रोडक्‍ट, बार-बार धोना, खराब तरह से बालों की देखभाल आदि से भी बालों पर बुरा...

ये है संजीवनी काढ़ा – अगर किडनी फेल हो चुकी है? तो आपकी किडनी...

हमारे शरीर के हानिकारक पदार्थो को शरीर से छानकर बाहर निकलने का काम किडनी का ही होता है! किडनी हमारे शरीर के लिए रक्त शोधक का काम करती है, हम जो...

स्मोकिंग करने वालो की ज़िन्दगी बचाने का अचूक नुस्खा, 7 दिन में होगी फेफड़ो...

जैसे की हम सब बचपन से ही सुनते आ रहे है की हमे नशीले पदार्थो का सेवन न तो करना चाहिए और न ही किसी को भी करने देना चाहिए नशीले...

गूलर के आयुर्वेदिक औषधीय गुण, पुरुषों और स्त्रियों के गुप्त रोगों में है रामबाण

गूलर को आयुर्वेद में हजारों साल से चिकित्सीय रूप से प्रयोग किया जाता रहा है। गूलर का कच्चा फल कसैला एवं दाहनाशक है। पका हुआ गूलर रुचिकारक, मीठा, शीतल, पित्तशामक, तृषाशामक,...
error: Content is protected !!