पायरिया एक ऐसी बीमारी जो हमारे दाँतों में हो जाती है पायरिया होने पर मनुष्य के दाँतों में अधिक दर्द होने लगता है और इंसान इस दर्द से परेशान होकर अपने दांत को निकलवाने लगते है दाँत निकलवाने से इंसान समय से पहले ही बूढ़ा सा दिखाई देने लगता है ये पायरिया कि बीमारी इंसान की लापरवाही के कारण हो जाती है । पायरिया के होने से मसूड़ों में सूजन आने लगती है और खून निकलने लगता है. जिससे दांतों के गिरने का भय रहता है और दांतों में पीली परत जमने लगती है.पायरिया के होने पर मुंह से दुर्गंध भी आने लगती है तथा दांतों के आस पास की मांसपेशियों को भी हानि पहुंचती है. 

teeth

पायरिया के लक्षण

पायरिया के लक्षणों में मासूड़ों में सूजन का आना, दातों पर पीले रंग की परत चढ़ जाना, खून आना और मुँह से दुर्गन्ध आना आदि होता है जिससे व्यक्ति को बेहद परेशानी हो जाती है। पायरिया दाँतों की एक गंभीर बीमारी होती है जो दाँतों के आसपास की मांसपेशियों को संक्रमित करके उन्हें हानि पहुँचाती है।

पायरिया की बीमारी का उपचार :

  • दाँतों को अधिक साफ करने के लिए तेजपात का चूर्ण तैयार करके इस चूर्ण को सप्ताह में एक या दो बार करने से दाँत बिल्कुल दूध के भाती सफेद या चमकते हुए दिखाई देंगे |
  • पायरिया को ठीक करने के लिए टमाटर और गाजर का रस निकालकर पीने से दाँतों की बीमारी ठीक हो जाती है । तथा सरसों की 2 या 4 बून्द लेकर इसमें बारीक़ नमक एक चुटकी डालकर इसका मंजन करने से दाँत का दर्द ठीक हो जाता है ।
  • दाँत के मसूड़े में से खून निकलने पर इसको रोकने के लिए थोड़ी सी फिटकरी भूनकर इसको बारीक़ पीस कर इसमें हल्दी मिलाकर इसका चूर्ण तैयार कर ले । इस चूर्ण को रोजाना मंजन के रूप में करने से मसूड़े का खून आना बंद हो जायेगा| और दाँत भी साफ हो जायेंगे ।
  • पायरिया को दूर करने के लिए तुलसी का उपयोग बहुत ही उपयोगी होता  है । तुलसी के पत्तों को धूप में सुखाकर बारीक़ पीसकर इसका चूर्ण तैयार कर ले । इस चूर्ण में समान मात्रा में सरसों का तेल डालकर लेप की तरह तैयार कर ले । इस लेप को अपने हाथों की ऊँगली या ब्रश पर लगाकर करने से पायरिया की शिकायत ख़त्म हो जाती है । तथा मुँह से बदबू भी दूर हो जाती है | जब मनुष्य के दाँत हिलने लगे तो मनुष्य को अपने दाँत निकलवाने नही चाहिए । इसका उपचार आम के पत्तों से किया जा सकता है । ऐसे मनुष्य को आम के पत्तों को रोजाना चबाकर कुछ समय बाद थूक देना चाहिए । ऐसा करने से कुछ दिन बाद मनुष्य के दाँत हिलना बंद हो जाएंगे |

tulsi

पायरिया को दूर करने के घरेलु नुस्खे-

पीपल के पेड़ की छाल का उपाय

पीपल की छाल या उसकी कोमल डंठल का उपयोग करने से पायरिया रोग  नष्ट हो जाता है. पीपल की छाल या उसके कोमल डंठल को पानी में डालकर इसका काढ़ा बनकर पीने से पायरिया  रोग से राहत मिलती है

पायरिया रोग के लिए तिल के तेल का प्रयोग

पायरिया रोग के होने पर तिल के तेल से 10 से 15 तक गरारा करने से पायरिया रोग से मुक्ति मिल जाती है.

sesame-oil

बबूल की लकड़ियों का प्रयोग

बबूल के पेड़ की कुछ लकडियो को लेकर जला ले फिर उसमें कोयले को मिक्स करके पीसकर उसका पाउडर बना लें. और पाउडर को सुबह- शाम दांतों व मसूड़ों में उंलियो से मले. ऐसा करने से पायरिया रोग से हमेशा के लिए मुक्ति मिल जाएगी.

नींबू का घरेलु उपचार

पायरिया रोग को दूर करने के लिए निम्बू को प्रयोग में लाना चाहिए. इसके रस को मसूड़ों पर लगाना चाहिए. इससे मसूड़े से खून निकलना बंद हो जायेगा और यह दाँत मजबूत करने में भी बहुत सहायक होता है.

सरसों का तेल और नमक का उपाय

रोजाना सुबह उठने के बाद तथा रात में सोने से पहले सरसों के तेल में थोड़ा सा नमक मिलकर दांतों व मसूड़ों में मलने से पायरिया रोग जल्दी ठीक हो जाता है.

mustard-seed-oil

लौंग के तेल का प्रयोग

पायरिया दूर करने के लिए 1 गिलास गुनगुने पानी में  5-6 बूंद लौंग का तेल  मिलाकर प्रतिदिन गरारे व कुल्ला करने से पायरिया ठीक होता है। पायरिया को दूर करने के लिए यह एक उत्तम उपचार माना जाता है।

Loading...

Leave a Reply