पीलिया लिवर से सम्बंधित बीमारी है । जो सामान्यतः  लिवर में होने वाले किसी संक्रमण से होती है | पीलिया एक ऐसी बीमारी है जिसमें आँखें और त्वचा पीली हो जाती हैं.  पेशाब भी अक्सर पीला आने लगता है.

■   पीलिया में क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए, परहेज – Jaundice Diet Chart In Hindi

पीलिया एक ऐसी बीमारी है जो किसी भी व्यक्ति को हो सकती है यह बीमारी मनुष्य के लिए कभीकभी जानलेवा भी हो जाती है इस बीमारी में मनुष्य का खून पीला पड़ने लगता है और शरीर कमजोर हो जाता है इस बीमारी का मुख्य कारण पाचन शक्ति का सही ढंग से काम करना मनुष्य की पाचन शक्ति ख़राब होने के कारण खून बनना बंद हो जाता है और उनके शरीर का रंग धीरेधीरे पीला पड़ने लगता है इसी को हम पीलिया कहते है पीलिया की बीमारी होने पर रोगी को समय रहते ही इसका उपचार करना चाहिए नही तो ये जानलेवा बन जाती है   पीलिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए घर में रखी वस्तुओं से इस बीमारी को जड़ से ख़त्म किया जा सकता है

पीलिया के कारण

  • खून में लाल रक्तकणों की कमी हो जाना,
  • लीवर कमज़ोर होना
  • लीवर में बनने वाला पित्त खून में पहुँच जाना, ये सभी पीलिया के रोग के

    हमारे यूट्यूब चैनल को SUBSCRIBE करने के लिए लाल रंग के लिंक पर क्लिक करें –

    http://bit.ly/30t2sCS

■   पीलिया कैसा भी और कितना भी पुराना क्यों ना हो, ये घरेलु उपाय उसकी 3 दिन में छुट्टी कर देगा

पीलिया के लक्षण

  • आँखों, मूत्र और त्वचा का पीली हो जाना
  • सभी चीज़ें पीली दिखाई देना
  • लीवर में दर्द
  • बुखार
  • कमज़ोरी
  • खुजली
  • चिकने पदार्थों का नहीं पचना आदि पीलिया रोग के लक्षण हैं.

पीलिया का आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार-

इमली से पीलिया का इलाज

इमली खाने के अनुसार रात्रि को सोने से पूर्व भिगोकर रख दे । प्रातकाल उठकर भीगी हुई इमली को मसलकर इसके छिलके उतार कर अलग रख दे । तथा इमली का बचे हुए पानी में काली मिर्च और काला नमक मिलाकर दो सप्ताह तक पीने से पीलिया रोग ठीक हो जाता है ।

■   इमली खाने वालों यदि आप भी इमली को खाकर इसके बीजो को फेंक देते है तो इसको जरूर देखे कहीं बाद.

चने से पीलिया का उपचार

रात्रि को सोने से पहले चने की दाल को भिगोकर रख दे । प्रातकाल उठकर भीगी हुई दाल का पानी निकालकर उसमे थोड़ा सा गुड डालकर मिलाये ।और इसको कम से कम एक से दो सप्ताह तक खाने से पीलिया की बीमारी ठीक हो जाती है । पीलिया की बीमारी को ठीक करने के लिए और भी अनेक उपाए है ।

पीलिया का आँवला से उपचार

एक चम्मच शहद में 50 ग्राम ताजे हरे आँवले का रस मिलाकर प्रतिदिन सुबह कम से कम तीन सप्ताह तक खाने से पीलिया की बीमारी से छुटकारा मिल जायेगा ।

■   आंवला और शहद कर देंगे आपको एनर्जी से ओत प्रोत, दिनभर रहोगे एक्टिवेट मोड में इन 10 फायदों से

पीलिया का इलाज प्याज़ से

पीलिया की बीमारी में प्याज़ का बहुत ही महत्व है । सबसे पहले एक प्याज़ को छीलकर इसके पतले – पतले हिस्से करके इसमें नींबू का रस निचोड़े तथा इसके बाद इसमें पीसी हुई थोड़ी सी काली मिर्च और काला नमक डालकर प्रतिदिन सुबह – शाम इसका सेवन करने से पीलिया की बीमारी १५से २० दिन में ख़त्म हो जाती है ।

बादाम से पीलिया का उपचार :

सामग्री :

बादाम की गिरी         – १०

छोटी इलायची के बीज   – ५ के

छुहारे                 – २ नग

इन सभी सामग्री को मिलाकर किसी भी मिट्टी के बर्तन में डालकर रात्रि को सोने से पहले भिगो दे । और प्रातकाल उठकर इन सभी भीगी हुई सामग्री में 75 ग्राम मिश्री मिलाकर इनको बारीक़ पीसकर इसमें 50 ग्राम ताजा मक्खन मिलाये और इसे एक मिश्रण की तरह तैयर करके रोगी को लगातार कम से कम दो सप्ताह तक सेवन करने से पीलिया की बीमारी ठीक हो जाती है । साथ ही पेट में बनी गर्मी भी दूर हो जाती है ।

■   रात को इलायची खाकर गर्म पानी पीने के फायदे जानकर चौक जायगे आप

तरबूज से पीलिया का उपचार

  • फलों में तरबूज और खरबूजा दोनों ही पीलिया में बहुत लाभदायक हैं.
  • इन्हें अच्छी मात्रा में खाना चाहिये. इससे पीलिया का रोग बहुत जल्दी ठीक हो जाता है.

    हमारे यूट्यूब चैनल को SUBSCRIBE करने के लिए लाल रंग के लिंक पर क्लिक करें –

    http://bit.ly/30t2sCS

पीलिया का लहसुन से इलाजपीलिया की बीमारी में लहसुन भी फायदेमंद होता है । इसलिए कम से कम 4 लहसुन ले और इन्हे छीलकर किसी वस्तु से पीसकर इसमें 200 ग्राम दूध मिलाये । और रोगी को इसका रोजाना सेवन करने से पीलिया की बीमारी जड़ से ख़त्म हो जाती है । तथा पीलिया की बीमारी का उपकार इमली से भी किया जा सकता है ।

■   खाली पेट लहसुन खाने से शरीर के साथ जो हुआ, जानकर हैरान हो जाएंगे 

Leave a Reply