wood-apple

बेल एक ऐसा पेड़ है जिसके हर हिस्से का इस्तेमाल सेहत बनाने और सौंदर्य निखारने के लिए किया जा सकता है. आयुर्वेद में इसके कई फायदों का उल्लेख मिलता है. इसका फल बेहद कठोर होता है लेकिन अंदर का हिस्सा मुलायम, गूदेदार और बीजों से युक्त होता है.

■   बालों में से रूसी हटाने के 10 आसान तरीके और घरेलू उपाय

बेल के फल का जीवनकाल काफी लंबा होता है. पेड़ से टूटने के कई दिनों बाद भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. बेल का इस्तेमाल कई तरह की दवाइयों को बनाने में तो किया जाता है ही साथ ही ये कई स्वादिष्ट व्यंजनों में भी प्रमुखता से इस्तेमाल होता है. बेल में प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, थायमीन, राइबोफ्लेविन और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है.

बेल का रस पीने के फायदे

खून साफ करने में सहायक

बेल के रस में कुछ मात्रा गुनगुने पानी की मिला लें. इसमें थोड़ी सी मात्रा में शहद डालें. इस पेय के नियमित सेवन से खून साफ हो जाता है.

khoon saaf karne ke upay blood cleansing tips

दिल से जुड़ी बीमारियों से बचाव में सहायक

बेल का रस तैयार कर लीजिए और उसमें कुछ कुछ बूंदें घी की मिला दीजिए. इस पेय को हर रोज एक निश्चित मात्रा में लें. इसके नियमित सेवन से दिल से जुड़ी बीमारियों से बचाव होता है. ये ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में सहायक होता है.

heart

■   10 रूपए की ये सब्जी 5 दिनों में करे हृदयाघात की रोकथाम, करेगी पेट के सभी विकारों को भी दूर

कैंसर से बचाव के लिए

नियमित रूप से बेल का रस पीने से ब्रेस्ट कैंसर होने की आशंका काफी कम हो जाती है.

cancer treatment

गैस, कब्ज की समस्या में राहत

नियमित रूप से बेल का रस पीने से गैस, कब्ज और अपच की समस्या में आराम मिलता है.

kabj ka ilaj constipation treatment remedy in hindi

नई मांओं के लिए भी है फायदेमंद

अगर आप एक नई मां हैं तो आपके लिए बेल का रस पीना बहुत फायदेमंद रहेगा. ये मां के स्वास्थ्य को बेहतर करने में तो सहायक है ही साथ ही ब्रेस्ट मिल्क प्रोडक्शन को भी बढ़ाता है.

■   कानों में कपड़ों की पिन टांगने से दूर होंगे बड़े से बड़े रोग, रिसर्च में हुआ है साबित

ठंडक देने का काम करता है

बेल के रस को शहद के साथ मिलाकर पीने से एसिडिटी में राहत मिलती है. अगर आपको मुंह के छाले हो गए हैं तो भी इसका सेवन आपके लिए फायदेमंद रहेगा. गर्मी के लिहाज से ये एक बेहतरीन पेय है. एक ओर जहां ये लू से सुरक्षित रखने में मददगार होता है वहीं शरीर को अंदर से ठंडक देने का काम करता है.

acidity

दस्त और डायरिया की समस्या में भी फायदेमंद

आयुर्वेद में बेल के रस को दस्त और डायरिया में बहुत फायदेमंद माना गया है. आप चाहें तो इसे गुड़ या चीनी के साथ मिलाकर पी सकते हैं.

Stomach-Problems pet ki samasyaein

कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रित रखने में मददगार

बेल का रस कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मददगार होता है.

heart cholesterol

■   आयुर्वेद के इन आठ नियमों के पालन से जीवन में कभी नहीं आता बुढ़ापा!!
Loading...

Leave a Reply