इसे पिताया या स्ट्रॉबेरी पीयर के नाम से जाना जाता है। ये एक बेहद खूबसूरत फल होता है। इसके फूल का आकार और रंग सबको हैरान कर देता है।  ये अंदर से बेहद सॉफ्ट और टेस्टी होता है।

क्या है ड्रैगन फ्रूट ?

कैक्टस की किस्म वाले पौधों से निकलने वाला फूल तीन हफ्तों में ड्रैगन फ्रूट में बदल जाता है। ये रात को ही बढ़ता है, इसलिए इसके फूल को क्वीन ऑफ द नाइट भी कहते हैं। कैक्टस का पेड़ 40 डिग्री से ज्यादा तापमान वाले इलाकों में भी तेजी से बढ़ता है। ड्रैगन फ्रूट लाल, गुलाबी और पीले रंग का होता है। इसका इस्तेमाल वाइन बनाने में भी किया जाता है। ये मैक्सिको, साउथ अमेरिका, कंबोडिया, थाईलैंड, मलयेशिया, इंडोनेशिया और चीन के अलावा भी कुछ देशों में पाया जाता है।

pitayya

 

ज्यादातर ड्रैगन फ्रूट गाढ़े लाल रंग का होता है, लेकिन कुछ पीले और गुलाबी रंग के भी पाए जाते हैं। इस फल का छिलका काफी पतला होता है और चारों तरफ से स्केल्स से ढका होता है। इस फल के बीच का हिस्सा लाल या सफेद रंग का होता है, जिसमें काले रंग के बीज होते हैं। ये खाने में काफी स्वादिष्ट होता है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। एक ड्रैगन फ्रूट में करीब 60 कैलोरी होती है। इसके अलावा विटामिन सी, बी1, बी2, बी3, आयरन, कैल्शियम और फॉस्फोरस भी ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। इतनी सारी खूबियों की वजह से इसे ‘सुपर फ्रूट्स’ भी कहा जाने लगा है।

अगर आप सेब और केला खाते-खाते बोर हो गए हैं तो विटामिन्स से भरपूर ड्रैगन फ्रूट को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। बाहर से देखने में भले ही ये फ्रूट आपको सख्त लगे, लेकिन इसे खाना बेहद आसान है। पतला छिलका होने की वजह से इसे आराम से उतारा जा सकता है। स्नेक्स के तौर पर एक ड्रैगन फ्रूट आपके लिए काफी होगा, लेकिन स्वादिष्ट होने की वजह से धीरे-धीरे आपकी इच्छा इसे एक से ज्यादा खाने की भी होने लगेगी।

एंटीऑक्सीडेंट्स का है नेचुरल सोर्स

ड्रैगन फ्रूट एंटीऑक्सीडेंट्स का एक प्राकृतिक स्त्रोत है। इसे अपनी हेल्दी डाइट में शामिल करने से कैंसर पैदा करने वाले फ्री रेडिकल्स और कई दूसरी बीमारियों से बचा जा सकता है। इस फ्रूट में जितना एंटीऑक्सीडेंट्स पाया जाता है, उतना किसी दवाई और फूड सप्लीमेंट्स में नहीं होता है। किसी एक एंटीऑक्सीडेंट कम्पाउंड की मेगाडोज लेने से शरीर को काफी नुकसान भी पहुंच सकता है, इसलिए अच्छा है कि सप्लीमेंट्स लेने के लिए दवाइयों या कोई शॉर्टकट रास्ता अपनाने की बजाए ताजे फल और सब्जियां खाएं।

हार्ट को रखता है हेल्दी

ड्रैगन फ्रूट में काफी कम मात्रा में कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है। यही वजह है कि इसे खाने से हार्ट की कोई समस्या पैदा नहीं होती है। अमेरिका में कार्डियोवेसकुलर से जुड़ी बीमारियां लगातार बढ़ रही हैं। ऐसे में वहां के लोग ड्रैगन फ्रूट खाकर खुद को हार्ट प्रॉब्लम्स से दूर रख रहे हैं। ये फ्रूट शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने में भी मदद करता है। ड्रैगन फ्रूट मोनोसैचुरेटेड फैट्स का सबसे बढ़िया स्त्रोत है, जिससे हार्ट अच्छी कंडीशन में बना रहता है। इतना ही नहीं ये बॉडी ब्रेक डाउन को भी बहुत जल्दी रिकवर करता है। इसे खाने से वजन और दांत दोनों स्वस्थ रहते हैं।

hearthealth

सनबर्न स्किन में पहुंचाता है राहत

अक्सर गर्मियों में सनबर्न की शिकायत आम होती है। तेज धूप में काम करने वाले लोगों की स्किन जलकर काली पड़ जाती है। इसे ठीक करने के लिए ड्रैगन फ्रूट एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इस फ्रूट को खीरे के रस और शहद के साथ मिलाकर सनबर्न स्किन पर लगाने से काफी राहत मिलती है। फ्रूट में विटामिन बी3 की अधिकता होने की वजह ये सनबर्न स्किन पर एक मॉश्चराइजर की तरह काम करता है।

कील-मुंहासों को करें दूर

टीनएज में अक्सर चेहरे पर पिंपल्स निकलने लगते हैं, जिसकी वजह से यूथ किसी के सामने आने, कॉलेज जाने और पार्टी अटेंड करने से भागने लगते हैं। अगर आपने साथ भी ऐसा हो रहा है तो ड्रैगन फ्रूट से बढ़कर कुछ भी नहीं है। बाजार में बिकने वाली महंगी क्रीम्स और दवाइयों पर फिजूलखर्ची करने से अच्छा है कि इस फ्रूट का इस्तेमाल करें। इसमें काफी मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है, जो इसे एक तरह का टॉपिकल ऑइंटमेंट बनाता है। इस फ्रूट के एक टुकड़े का पेस्ट बनाकर इसे चेहरे पर उस जगह लगाएं जहां मुंहासे हों। कुछ देर बाद चेहरा साफ पानी ने धो दें। इस दिन में दो बार इस्तेमाल करने से आपको कुछ ही दिन में फर्क नजर आने लगेगा।

दूर करता है जोड़ों का दर्द

सर्दियों में बुजुर्गों को अक्सर गठिया की शिकायत होती है। इसमें सीधा असर जोड़ों पर पड़ता है, जिसकी वजह से चलने-फिरने और उठने की काफी दिक्कत होती है। ड्रैगन फ्रूट के जरिए गठिया में होने वाले दर्द से काफी हद तक निजात पाई जा सकती है। इस रोग में ड्रैगन फ्रूट से मिलने वाले फायदे की वजह से ही लोगों ने अब इसे ‘एंटी-इनफ्लेमेटरी फ्रूट’ भी कहना शुरू कर दिया है।

joint-knee-pain

डाइजेस्टिव सिस्टम रखता है ठीक

अगर आप अपना डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक रखना चाहते हैं तो ड्रैगन फ्रूट जरूर खाएं। इसमें काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिससे खाना सही से पचता है और कब्ज की शिकायत कभी नहीं रहती है। इस फ्रूट का बीच वाला गूदेदार हिस्सा प्रोटीन से भरा होता है। उसे खाने से शरीर चुस्त और मजबूत बनता है। साथ ही डायबिटीज कंट्रोल करने में भी मदद करता है। ये शुगर स्पाइक्स को दबाकर ब्लड शुगर लेवल मेंटेन करता है।

कलर्ड हेयर को रखे ख्याल

अगर आपके बालों में कलरिंग है तो ड्रैगन फ्रूट ऐसे बालों का खास ख्याल रखता है। इसके लिए आप स्केल्प पर इस फ्रूट के जूस या फिर ड्रैगन फ्रूट मिक्स कंडीशनर का इस्तेमाल कर सकती हैं। ऐसा करने से कलर्ड बालों को केमिकल ट्रीटमेंट से बचाया जा सकता है। इस फ्रूट का जूस बालों की जड़ों तक पहुंचकर उन्हें हेल्थी और स्मूथ बनाता है।

स्किन के लिए है फायदेमंद

अगर आप ब्यूटी पॉर्लर में होने वाले खर्चे से बचना चाहती हैं तो बस थोड़े से पैसे इस फ्रूट पर खर्च कीजिए और देखिए कि कैसे ये आपकी स्किन पर फेयर और ग्लोइंग बनाता है। ड्रैगन फ्रूट में ज्यादा मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाने की वजह से ये स्किन को जवां रखता है। शहद के साथ मिलाकर इसका इस्तेमाल एंटी-एजिंग फेस मास्क के तौर पर भी किया जा सकता है।

beautiful skin3

Loading...

Leave a Reply