प्रेगनेंसी के दौरान खान पान और रहन सहन का पूरा ध्यान रखने के बावजूद भी कई महिलाओं से अनजाने में कुछ ऐसी गलतियाँ हो जाती हैं जिससे उन्हें नुकसान पहुँच सकता है। इसलिए बेहतर है कि आप इन गलतियों के बारे में पहले से ही जान लें और इन्हें न दोहरायें। आइये जानते हैं ऐसी ही कुछ गलतियों के बारे में

ज्यादा हॉरर मूवी देखना

अगर आपको इन हॉरर मूवी को देखने में बिलकुल भी डर नहीं लगता तो फिर कोई दिक्कत की बात नहीं है। लेकिन अगर आपको डर लगता है तो भूलकर भी इस दौरान इस तरह की फ़िल्में न देखें।

पीठ के बल न सोयें

कई महिलायें ऐसा सोचती हैं कि प्रेगनेंसी के दौरान पीठ के बल सोना सही होता है जबकि आपको जानकर आश्चर्य होगा कि प्रेगनेंसी के दौरान पीठ के बल सोने से शरीर के अन्य अंगों जैसे कि हार्ट, फेफड़े , किडनी पर दवाब बढ़ जाता है। इसलिए करवट होकर सोयें।

sleeping1

ज्यादा मोबाइल का इस्तेमाल करना

मोबाइल का इस्तेमाल करना आज की ज़रूरत है लेकिन कई महिलायें आवश्यकता से ज्यादा इसका इस्तेमाल करती हैं। मोबाइल से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगे आपके गर्भ में पल रहे बच्चे को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए कम से कम मोबाइल का इस्तेमाल करें।

ऊँचे हील वाली चप्पलें पहनना

कभी भी प्रेगनेंसी के दौरान हाई हील वाली चप्पलें न पहनें क्योंकि इस दौरान शरीर का वजन पहले की तुलना में काफी बढ़ जाता है ऐसे में बैलेंस बना पाना बहुत मुश्किल होता है। इसलिए इस दौरान फ्लैट स्लीपर पहनें और चिकनाई या फिसलन भरी जगहों पर जाने से बचे।

high heels

आगे झुककर बैठना

प्रेगनेंसी पीरियड में शरीर का सेंटर ऑफ़ ग्रेविटी बदल जाने के कारण अक्सर महिलायें आगे की ओर झुककर बैठने लगती हैं, लेकिन ऐसे पोजीशन में न बैठें। प्रेगनेंसी के दौरान ख़राब पोजीशन में बैठने से आपको पीठ और पेल्विक एरिया में दर्द हो सकता है।

नीचे झुकना

प्रेगनेंसी पीरियड में अचानक नीचे झुकने से आपके बेली और पेट पर अचानक से दवाब बढ़ जाता है जो आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए कभी भी नीचे झुककर कोई सामान न उठायें।

ज्यादा सोना

प्रेगनेंसी में ज्यादा देर तक सोना भी स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। उतनी ही मात्रा में आराम करें जितनी आपकी शरीर की ज़रूरत हो। हद से ज्यादा सोने से आप आलसीपन की शिकार हो जाती हैं। इस दौरान 8 से 9 घंटे की नींद पर्याप्त है।

sleeping

दूसरे बच्चे को उठाना

ऐसी महिलायें जिनका पहले से ही एक बेबी है उनके लिए प्रेगनेंसी पीरियड में मुश्किलें काफी बढ़ जाती है। बार बार अपने बच्चे को गोद में उठाने से और लम्बे समय तक रखने से गर्भाशय पर दवाब बढ़ जाता है। अगर बच्चे को उठाना है तो नीचे बैठकर फिर उसे गोद में लें।

भारी बैग उठाना

अगर आप बाहर शॉपिंग करने या घर के लिए कुछ सामान लाने जा रही हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी 5-6 किलो की वजन वाली चीज न उठायें। अक्सर ऐसा होता है कि शॉपिंग करते करते आप को यह याद ही नहीं रहता है कि आपने बैग में कितना कुछ सामान भर लिया है और अचानक भारी बैग उठा लेने से आपको कई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

women carrying bags

सीट बेल्ट न पहनना

कई महिलायें ऐसा सोचती है कि गर्भावस्था के दौरान सीट बेल्ट लगाने से बच्चे को नुकसान पहुँचता है जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। इसलिए जब भी सफ़र करें बेल्ट लगाना न भूलें। ध्यान रखें एक्सीडेंट से आपके बच्चे की जान भी जा सकती है।

 
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
SHARE
Previous articleकान में इन चीजों को डालना होता है खतरनाक, हो सकते हैं बहरे
Next articleइन सरल घरेलू उपायों से बंद माहवारी (पीरियड्स) को फिर से चालू करें
Loading...

NO COMMENTS

Leave a Reply