हम यहां ऐसी चमत्कारी दाद की दवा रिंगवर्म क्रीम, मेडिसिन , टेबलेट्स, सिरुपस और आयुर्वेदिक नुस्खे बताएंगे जिनके जरिये आप चंद दिनों में ही दाद खाज खुजली से छुटकारा पा सकेंगे. खाज खुजली त्वचा के ऐसे रोग हैं जिनको अगर शुरूआती स्टेज में ना रोका जाए तो यह वक्त के साथ धीरे-धीरे पुरे शरीर में फेल जाते हैं, कई प्रकार के होते हैं दाद खाज खुजली, Eczema in Hindi, Fungal Infection in Hindi आदि यह पुरे शरीर में किसी भी अंग पर हो सकते हैं best daad khujli medicine in Hindi most effective ayurvedic cream etc.

   मुंह जीभ और होठों के छालों का इलाज के 10 आसान घरेलू नुस्खे

दाद होने पर ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं

स्किन पर लाल चकत्ते होना, स्किन में खुजली होना, जलन होना, फफोला बनना, धीरे-धीरे लाल चकत्ते का फैलना, अंगूठी के आकर में बन जाता हैं आदि इसके लक्षण बहुत ही सामान्य होते है व कोई भी व्यक्ति इसे आसानी से पहचान सकता हैं. दाद खाज खुजली आदि फफूंद वायरस, बैक्टीरिया के संक्रमण से होते हैं, जिस व्यक्ति को हो उसके कपडे पहनने से दूसरे व्यक्ति में भी पैदा हो जाते है, यह एक छुआछूत का रोग हैं. इसके साथ ही टाइट कपडे पहनने से आदि के कारण से भी होता हैं.

बिना एक रूपया खर्च किये करे इलाज 

दाद खाज खुजली की दवा में हम सबसे पहले आपको स्वमूत्र चिकित्सा के बारे में बताएंगे, जिसमे आप खुद के मूत्र के जरिये दाद खाज खुजली से छुटकारा पा सकेंगे. इसके बाद निचे हम रिंगवर्म की क्रीम, मेडिसिन्स, टेबलेट्स भी बताएंगे. आपसे गुजारिश हैं की पूरी जानकारी पाने के लिए इस लेख को पूरा पड़ें.

   बालों में से रूसी हटाने के 10 आसान तरीके और घरेलू उपाय

दाद खाज, गीली खुजली या एक्जिमा आदि चर्म रोग में रोजाना 15-20 मिनट तक पुराने स्वमूत्र (खुद का पेशाब) से जहाँ पर आपको आदि है वहां पर हलके हाथों से मालिश करे, केवल 10-15 दिन में ही दूर होने लगेंगे. यह बिना पैसे के दाद खाज खुजली को मिटा देगा. मूत्र मालिश के दो घंटे बाद गुन-गुने पानी से स्नान करना और स्नान करते समय किसी भी तरह के साबुन, शैम्पू का प्रयोग नहीं करना हैं. इस तरह इस दाद की आयुर्वेदिक दवा के प्रयोग से शरीर के सारे चर्म रोग को भी मिटाया जा सकता हैं, अगर पुरे शरीर पर फुंसिया, दाद खाज हो रही हो तो खुद के 7 दिन पुराने मूत्र से नाहने से पहले मालिश करे और फिर नाहये.

एक्जिमा में बेहद असहाय खुजली होने पर अपने 7 दिन पुराने स्वमूत्र को लगा दें या चुपड़ने से तत्काल खुजली से आराम मिलता हैं, खुजली से तुरंत राहत पाने का यह सबसे सरल घरेलु उपाय हैं.

गर्मियों में अगर आपके पांव के तलुओं में जलन हो तो आप स्नान से पूर्व तलुओं पर 10 मिनट स्वमूत्र की मालिश करें. फिर 15 मिनट बाद नाह लें. नाहते समय तलुओं पर साबुन न लगाए. गर्मियों में बदन पर होने वाले बारीक दाने अलैयन भी इसी प्रकार खुद की पेशाब की मालिश करने से ठीक हो जाती हैं.

दाड़ी की जगह खाज barber itch या उस्तरे की छूट या ब्लड इन्फेक्शन उभर आने पर स्वमूत्र मालिश करने से ब्लड की फुंसियां जल्द ही गायब हो जाती है और गालों की त्वचा अधिक साफ़ और मुलायम हो जाइत है. सुबह दाड़ी बनाने के बाद स्वमूत्र की पांच-छह बुँदे शेव लोशन के शतान पर मॉल लें तो ब्लड इन्फेक्शन नहीं होता, यह उपाय दाद खुजली की अचूक दवा हैं.

■   गर्दन में दर्द का इलाज के 10 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

बरसात में सड़-गल जाने वाले पैर पर स्वमूत्र की मालिश करे से वह ठीक हो जाता हैं.

वास्तव में त्वचा रोगों के लिए स्वमूत्र से बढ़कर अन्य कोई मरहम नहीं है.

अनुभव – उंगलियों की खाज व गलना – 30 वर्षीय युवती के दाए हाथ की उँगलियों में दो साल से दाद खाज आती थी और वे गल भी गई थी. दो सप्ताह स्वमूत्र से हाथ धोने से उंगलियां बिलकुल ठीक हो गई.

अनुभव सुखी – श्री ‘रीता जी’ के छाती व पीठ पर सुखी थी. केवल रोजाना 10 मिनट स्वमूत्र मालिश से 10 दिन में दाद का नामोनिशान भी न रहा, इन्होने दाद की क्रीम टेबलेट्स का खूब सेवन किया लेकिन फिर-फिर तकलीफ हो जाती थी लेकिन स्वमूत्र से इनको ऐसा नहीं हुआ और अब उनको यह शिकायत नहीं होती.

चोट लगने से हुई – इसी तरह एक व्यक्ति को चोट लगने से उत्पन्न टांग पर नौ साल पुराणी दाद स्वमूत्र मालिश और मूत्र पट्टी के प्रयोग से अच्छी हो गई. स्वमूत्र मालिश के साथ-साथ स्वमूत्र से भीगा रुई का फोहा तथा हल्का और प्राकृतिक भोजन करने से चर्म रोगों में शीघ्र लाभ होता है, इनपर भी दाद खुजली मेडिसिन ने असर नहीं किया था और स्वमूत्र से ही लाभ हुआ था.

■   माइग्रेन के दर्द से छुटकारा पाने के 10 रामबाण घरेलू नुस्खे और उपाय

चार साल पुराना एक्जिमा – गाजियाबाद की श्रीमती सुषमा के पैर का चार साल पुराण एक्जिमा एक दिन पुराने स्वमूत्र से तर की हुई रुई अथवा कपडे रखते रहने से एक 20 दिनों में एक्जिमा जड़ से नष्ट हो गया था और पैरों की सुंदरता वापस आगे थी, हजारों का कहना है की स्वमूत्र दाद की मेडिसिन सबसे अच्छी है.

अनुभव – एक व्यक्ति का दाई टांग का एक्जिमा छह दिन की मूत्र पट्टी रखने से उसे पूरा आराम हो गया था.

15 साल पुराना एक्जिमा – भूतपूर्व उप-प्रधानमंत्री श्री देवीलाल ने बताया था की उनके पाँव का काला और बहने वाला,

15 साल पुराण एक्जिमा था जो की हिमालय के खनिज पानी तथा अन्य इलाज से ठीक नहीं हुआ था रोग ग्रस्त भाग पर केवल पंद्रह दिन तक स्वमूत्र लगाने मात्र से उनका एक्जिमा पूरी तरह चला गया था.

तो दोस्तों यह तो यह तो रही देसी दवा जो की सभी तरह के दाग व चर्म रोगों को मिटाने में सहायता करता है. आप बेशक इसके बारे में सुनकर हिचक रहे होंगे लेकिन हजारों लोगों ने इसका प्रयोग किया है और उनको लाभ भी मिला हैं. इसके लिए आप जितने ज्यादा दिन पुराना पेशाब प्रयोग में लाएंगे उतना ही लाभ होगा. हो सके तो सुबह पहली की पेशाब का प्रयोग करे, सुबह पेशाब करते वक्त जरा सी पेशाब करे और उसे रोक ले फिर एक डिब्बे में बाकि पेशाब को कर ले और जब पेशाब खत्म होने लगे तो डिब्बे को हटाले, इस तरह शुरुआत की पेशाब व आखिरी की पेशाब को डिब्बे में न लें बस बिच की पेशाब को डिब्बे में भर ले. इस पेशाब को प्रयोग में लाये तो ज्याद फायदा होगा.

   बदहजमी और फूड पाइज़निंग का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

अगर आप स्वमूत्र से का प्रयोग नहीं करना चाहते तो निचे दिए जा रही अन्य अचूक दवा क्रीम आदि का भी प्रयोग कर सकते हैं.

अन्य दाद खुजली की आयुर्वेदिक दवा – Khaj Khujli Medicine in Hindi

दाद की होम्योपैथिक दवा ग्रेफिट्स पेंटरकन ptk.50 (graphites pentarkan ptk.50 दवाई) की 2 गोली दिन में तीन बार लेने से वेट एक्जिमा व ड्राइड एक्जिमा दोनों में लाभ होता हैं.

दाद की क्रीम Sulphur 30 की दो बुँदे रोजाना खाज एक्जिमा पर सुबह के समय पर लगाए तो कुछ ही दिनों में यह अचूक दवा खाज खुजली को ख़त्म कर देती हैं.

Petroleum 200 की दो बुँदे दिन में दो बार खाज पर लगाए तो इससे भी बहुत ही आराम मिलता हैं, यह भी दाद खाज खुजली की क्रीम है जो की अचूक दवा के रूप में आपको फायदा पहुंचाएगी.

एलॉपथी की दवा Oltef NF cream को रोजाना सुबह नाहने के बाद व रात को सोने से पहले लगाने से जल्द ही आराम मिलता हैं.

   दस्त रोकने और पेट की मरोड़ का इलाज के 10 आसान उपाय

इसके अलावा आप अपने शहर के किसी भी मेडिकल स्टोर पर जाकर उनसे दाद की इंग्लिश दवा व अन्य दवा का नाम पूछकर उनसे खरीद सकते हैं. उनमे से कुछ टेबलेट्स व क्रीम का नाम हम बता देते हैं – name of medicine for khujli – ringworm cream, tigboderm cream, Puriya’s Wonder Balm आदि हैं.

पतंजलि की दवा

बाबा रामदेव द्वारा बताई गई पतंजलि दाद की दवा है “दिव्य कायाकल्प वटी”. यह दो फॉर्म में उपलब्ध हैं तेल और टेबलेट्स में. दिव्य कायाकल्प वटी के तेल को रोजाना सुबह नाहने के बाद व रात को सोने से पहले जहाँ भी दाद खाज खुजली हो वहां पर लगाए और दिव्य कायाकल्प वटी की टेबलेट्स को दिन में दो बार खाना खाने से पहले लें. इस तरह इसके दोनों फॉर्म के प्रयोग से आपको बहुत ही जल्द राहत मिलेगी. यह आपको आपको पतंजलि स्टोर्स पर आसानी से मिल जाएगी.

खदिरारिष्ट के सिरप होती है जो की दाद खुजली की एलोपैथिक मेडिसिन जैसी है, इस सिरप के सेवन से खून साफ़ होता है जिससे दाद खाज खुजली में बहुत ही लाभ होता हैं. रोजाना खाना खाने के बाद 20 ML इस सिरप का सेवन करे.

■   गर्मी और लू से बचने के लिए 10 आसान घरेलू उपाय हिंदी में

अन्य घरेलु दाद की आयुर्वेदिक दवा है यह उपाय

एलोवेरा का रस आदि चर्म रोगों में रामबाण होता हैं, यह एक देसी दवा हैं. इसके प्रयोग से आपको बहुत ही लाभ होगा. इसके लिए आप अलोएवेरा के पत्तों को काटकर उसके बिच के भाग को निकाल ले और मिक्सर में पीसकर उसका रस बनाकर रोजाना सुबह एक कप की मात्रा में पिए. कुछ ही दिनों में आपको अत्यंत लाभ होगा. इसके अलावा अलोएवेरा के रस को दाद खाज खुजली पर लगाने से भी तुरंत राहत मिलती हैं.

नाहने के पानी में 1-2 चम्मच हल्दी या एक नीबू का रस डालकर उस पानी से नाहये तो पुरे शरीर पर हो रहे चर्म रोग खाज खुजली आदि मिट जाते हैं.

दाद को किसी कपडे से थोड़ा सा रगड़ ले फिर एक नीबू को काटकर उसके एक टुकड़े को अपने पर दाद रगड़े इस तरह एक दिन में यह 4-5 बार करे तो दाद खाज खुजली में बहुत ही लाभ होता हैं. यह दाद की देसी दवा की तरह काम करता है.

खुजली की आयुर्वेदिक दवा

आंकड़ा यानि अर्क का पौधा इस पौधे के के फूल भगवान शिव को चढ़ाये जाते हैं. इस पौधे के पत्तो को तोड़ने पर उसमे से सफ़ेद दूध जैसा पदार्थ निकलता है तो आपको उस सफ़ेद पदार्थ को अपने एक्जिमा पर लगाना है यह बहुत जलन करेगा लेकिन थोड़ा सहन करे कुछ दिनों के प्रयोग से आपका रोग जड़ से खत्म हो जायेगा.

दाद खाज खुजली आदि पर जैतून के तेल की मालिश भी अत्यंत फायदेमंद होती हैं.

लहसुन का पेस्ट बनाकर दाद पर लगाने से भी बहुत फायदा होता हैं, इसका प्रयोग दिन में तीन बार करे.

इस तरह आप अगर इन बताये गई की दाद की दवा आयुर्वेदिक का प्रयोग करते हैं तो आपको बहुत ही लाभ होगा. इसके लिए आपको स्वमूत्र का खाज खुजली में प्रयोग अवश्य करना चाहिए, इसमें घिन्न जैसी कोई बात नहीं हैं. हजारों लोगों ने स्वमूत्र से अपने एक्जिमा आदि चर्म रोगों से छुटकारा पाया हैं. यह दाद खाज खुजली की दवा से भी बेहतर हैं और आपको 100% अचूक फायदा ही करेगी नुकसान कुछ भी नहीं हैं. इसलिए आप daad khujli medicine in Hindi लेकर स्वमूत्र का इस्तेमाल जरूर करे.

   पेशाब में रुकावट का इलाज और रुक रुक कर आने के 10 उपाय इन हिंदी
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleगठिया रोग में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं – Arthritis Diet Chart In Hindi
Next articleखाली पेट लहसुन खाने से शरीर के साथ जो हुआ, जानकर हैरान हो जाएंगे subah lahsun khane ke fayde
Loading...

Leave a Reply