शरीर पर कहीं कहीं उभरा हुआ मांस का छोटा भद्दा खुरदरा भाग जो चिकित्सा विज्ञान के अनुसार एक प्रकार का चर्मरोग है, मस्सा अथवा Wart (Verruca Vulgaris) कहलाता है।

मस्से के कारणों में मुख्य कारण त्वचा में पेपीलोमा वायरस है जिसकी वजह से छोटे खुरदरे कठोर गोल पिण्ड बन जाते हैं । ये प्रायः सरसों अथवा मूँग के आकार से लेकर बेर तक के आकार के हो जाते है। ये गर्दन, चेहरे, हाथ, पैर और शरीर के अन्य अंगों पर भी हो सकते है।

मस्से विषाणु संक्रमण से पैदा होते हैं। प्रायः ‘मानव पेपिल्लोमैविरस’ (human papilloma virus) नामक विषाणु की कोई प्रजाति इसका कारण होती है। मस्से लगभग दस प्रकार के होते हैं।

संक्रमण (छुआछूत) से भी मस्से हो सकते हैं और शरीर में वहाँ प्रवेश करते हैं जहाँ त्वचा कटी-फटी हो। कुछ मस्से अपने आप ही कुछ माह में स्वयं समाप्त हो जाते हैं जबकि कुछ अन्य वर्षों तक बने रह सकते हैं. मस्से पुनः भी हो सकते हैं।

आयुर्वेद में मस्से हटाने के तरीके उपचार बड़े ही आसान हैं. मस्से यदि आपकी सुदरता में धब्बा बन कर आपको परेशान कर रहे हैं तो इन आसान उपायों की सहायता से आप इनसे छुटकारा पा सकते हैं। केवल आपको इन्हें लगातार उपयोग करना है.

नीचे कई इलाज और नुस्खे दिए गए हैं. इनमें से किसी एक या दो, जो आपको आसान लगें, उनको अपनाईये.

यदि एक माह बाद भी लाभ न मिले तो अन्य दिया गया नुस्खा अपनाईये. ये इसलिए क्योकि मस्सों की अलग अलग किस्में होती हैं. कुछ आसानी से चले जाते हैं जबकि कुछ थोडा अधिक समय लेते हैं. आईये जानते हैं, मस्सों के क्या हैं इलाज, दवा व उपाय:

1 रोज दो तीन बार प्याज के रस मस्सों पर लगाने से मस्से जड़ से खत्म हो जाएंगे। प्याज को काट कर भी मस्से पर घिसना लाभप्रद है।

2 यदि छोटे-छोटे काले मस्से हो गए हों तो उन पर काजू के छिलकों का लेप लगाने से मस्से साफ हो जाते हैं।

3 समान मात्रा में चूना और घी लेकर दोनों को खूब फेंटकर सुरक्षित रखें। इसे दिन में 3-4 बार मस्सों पर लगाएं। मस्से जड़ से मिट जाएंगे।

4 कास्टिक सोडा 6 ग्राम 250 ग्राम पानी में घोलकर बोतल को सुरक्षित जगह पर, बच्चों से दूर रख दें। सावधानी से रूई की सहायता से मस्सों पर लगाएं। मस्सों के लिए यह रामबाण दवा है।

5 बी काम्पलेक्स, विटामिन ए, सी, ई युक्तआहार के सेवन से मस्सों को दूर किया जा सकता है। मस्सों से छुटकारा पाने के लिए पोटेशियम भी बहुत लाभदायक होता है। पोटेशियम बहुत सी साग-सब्जी और फलों में पाया जाता है। जैसे – सेब, केला, अंगूर, आलू, मशरूम, टमाटर, पालक इत्यादि। इन आहारों से मस्सों का बनना रुक जाता है.

6 सेव का सिरका (Apple Cider Vinegar) मस्सों पर लगाने से मस्सों के छोटे-छोटे टुकड़े होकर गिर जाते हैं।

7 फिटकरी और काली मिर्च आधा-आधा ग्राम, पानी में पीसकर मस्से पर मलने से लाभ होता है। ये नुस्खा मुहासे पर भी कारगर रहता है.

8 बरगद के पेड़ के पत्तों का रस मस्सों के उपचार के लिए बहुत ही असरदार होता है। इस प्रयोग से त्वचा सौम्य हो जाती है और मस्से अपने आप गिर जाते हैं।

9 एक चम्मच कोथमीर (हरा धनिया) के रस में एक चुटकी हल्दी डालकर सेवन करने से मस्सों से राहत मिलती है।

10 कच्चे आलू का एक स्लाइस नियमित रूप से दस मिनट तक मस्से पर लगाकर रखने से मस्सों से छुटकारा मिल जायेगा।

11 एक अगरबत्ती जला लें और अगरबत्ती के जलते हुए गुल को मस्से का स्पर्श कर तुरन्त हटा लें। ऐसा 8-10 बार करें, इस उपाय से मस्सा जल सूखकर झड़ जाएगा।

12 ताजा अंजीर जिसमें दूध निकलता हो, लें। इसकी कुछ मात्रा कुचल-मसलकर मस्से पर लगावें और 30 मिनिट तक लगा रहने दें फ़िर गरम पानी से धोलें। 3-4 हफ़्ते में मस्से समाप्त होंगे।

13 केले के छिलके के अंदर के भाग को मस्से पर रखकर उसे एक पट्टी से बांध लें। और ऐसा दिन में दो बार करें. लगातार करते रहें जब तक कि मस्से ख़तम नहीं हो जाते।

14 अरंडी का तेल नियमित रूप से मस्सों पर लगायें। इससे मस्से नरम पड़ जायेंगे, और धीरे धीरे गायब हो जायेंगे। अरंडी के तेल में कपूर मिलाकर भी प्रयोग कर सकते हैं।

15 कलौंजी के कुछ दाने सिरके में पीस कर मस्सों पर लगा कर सो जाए कुछ दिनों में मस्से कट जायेंगे।

16 लहसून के एक टुकड़े को पीस लें, लेकिन बहुत महीन नहीं, और इस पीसे हुए लहसून को मस्से पर रखकर पट्टी से बांध लें। इससे भी मस्सों के उपचार में सहायता मिलती है।

17 एक बूँद ताजे मौसमी का रस मस्से पर लगा दें, और इसे भी पट्टी से बांध लें। ऐसा दिन में लगभग 3 या 4 बार करें। ऐसा करने से मस्से गायब हो जायेंगे।

18 बंगला, मलबारी पान, कपूरी, या नागरबेल के पत्ते के डंठल का रस मस्से पर लगाने से मस्से झड़ जाते हैं। अगर तब भी न झड़ें, तो पान में खाने का चूना मिलाकर मलें।

19 अम्लाकी को मस्सों पर तब तक मलते रहें जब तक मस्से उस रस को सोख न लें। या अम्लाकी के रस को मस्से पर मल कर पट्टी से बांध लें।

20 कसीसादी तेल मस्सों पर रखकर पट्टी से बांध लें।

21 थूहर का दूध या कार्बोलिक एसिड सावधानीपूर्वक लगाने से मस्से निकल जाते हैं।

22 मस्सों पर अलोवेरा के रस को दिन में तीन बार लगायें। ऐसा एक सप्ताह तक करते रहें, मस्से गायब हो जायेंगे।

23 बेकिंग सोडा और अरंडी तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर इस्तेमाल करने से मस्से धीरे-धीरे खत्म हो जाते हैं।

24 हरे धनिए को पीसकर उसका पेस्ट बना लें और इसे रोजाना मस्सों पर लगाएं।

25 त्वचा को अच्छी तरह धोएं और सिरके में कॉटन को भिगोकर तिल-मस्सों पर लगाएं। दस मिनट बाद गर्म पानी से त्वचा को धो लें। कुछ दिनों में मस्से गायब हो जाएंगे।

26 रात को सोते वक्त और सुबह के समय मस्सों पर शहद लगाने के लाभकारी परिणाम मिले हैं।

27 ग्वार पाठा (एलोवेरा) से मस्से की चिकित्सा की जा सकती है। एलोवेरा के रस में रूई का फ़ाया (काटन बाल) एक मिनट के लिये भिगोएं फ़िर इसे मस्से पर रखें और चिपकने वाली पटी (एढीसिव टेप) से स्थिर कर दें। यह प्रक्रिया दिन में कई बार करना उचित है। 3-4 हफ़्ते में मस्से साफ़ हो जाएंगे।

मस्से बार बार न हों और अन्य कई प्रकार के इम्युनिटी सम्बंधित रोगों के लिए आप रोग प्रतिरोधी रसायनों जैसे अमृतयोग का भी उपयोग कर सकते हैं.

Loading...

1 COMMENT

Leave a Reply