बबूल की फली के फायदे इन हिंदी | बबूल के फायदे इन हिंदी

वैसे तो बबूल का हर भाग पत्तीयाँ, फूल, छाल और फली सभी औषधि है। लेकिन आज हम आपको बबूल की फली के 7 फायदे बताएंगे। आइये जानते है इसके बारे में…

आइये जानें बबूल की फली, बबूल की फली का पाउडर, बबूल की फली का पाउडर ऑनलाइन, बबूल की फली का चूर्ण online, बबूल की पत्ती, बबूल की पत्ती खाने के फायदे, बबूल की फली का चूर्ण price

अतिसार (दस्त)

बबूल की दो फलियां खाकर ऊपर से छाछ (मट्ठा) पीने से अतिसार में लाभ मिलता है।

हड्डी टूटने पर

बबूल के बीजों को पीसकर तीन दिन तक शहद के साथ लेने से अस्थि भंग दूर हो जाता है और हडि्डयां वज्र के समान मजबूत हो जाती हैं। या बबूल की फलियों का चूर्ण एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम नियमित रूप से सेवन करने से टूटी हड्डी जल्द ही जुड़ जाती है।

रक्त बहने पर

बबूल की फलियां, आम के बौर, मोचरस के पेड़ की छाल और लसोढ़े के बीज को एकसाथ पीस लें और इस मिश्रण को दूध के साथ मिलाकर पीने से खून का बहना बंद हो जाता है।

दांत का दर्द

बबूल की फली के छिलके और बादाम के छिलके की राख में नमक मिलाकर मंजन करने से दांत का दर्द दूर हो जाता है।

शारीरिक शक्ति और कमज़ोरी मिटाएँ

बबूल की फलियों को छाया में सुखा लें और इसमें बराबर की मात्रा मे मिश्री मिलाकर पीस लेते हैं। इसे एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम नियमित रूप से पानी के साथ सेवन से करने से शारीरिक शक्ति में इज़ाफ़ा होता है और सभी कमज़ोरी वाले रोग दूर हो जाते हैं।

पेशाब का अधिक मात्रा में आना

बबूल की कच्ची फली को छाया में सुखाकर उसे घी में तलकर पाउडर बना लें। इस पाउडर की 3-3 ग्राम मात्रा रोजाना सेवन करने से पेशाब का ज्यादा आना बंद होता है।

दोस्तों बबूल की पत्ती खाने के फायदे, बबूल (कीकर), बबूल की गोंद के फायदे, babool ki phali ke fayde aur labh in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास babool ki phali ko kaise khaye, babool ki phali ka sevan kaise kare in hindi के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply