बबूल की गोंद के फायदे babool ki gond ke fayde

बबूल के गोंद | कीकर का गोंद | Babool Ke Fayde In Hindi

आज हम आपको एक ऐसे चमत्कारी पौधे के उस महत्त्वपूर्ण भाग के बारे में बताएँगे जिसके बारे में आपने सायद ही कही पढ़ा या सुना होगा। उस पौधे का नाम बबूल है जिसका प्रत्येक अंग दवा है, इस पौधे का एक महत्त्वपूर्ण भाग है जिसे गोंद कहते है। जिसके फ़ायदे आज हम आपको ऑल आयुर्वेदिक के माध्यम से बताएँगे। बबूल की गोंद के फायदे

■   नाखूनों पर लहसुन रगड़ने से होते हैं ये अद्भुत लाभ, जरूर आजमाएं

बबूल की गोंद का प्रयोग करने से छाती मुलायम होती है। यह मेदा (आमाशय) को शक्तिशाली बनाता है तथा आंतों को भी मजबूत बनाता है। यह सीने के दर्द को समाप्त करता है, तथा गले की आवाज को साफ करता है। इसका प्रयोग फेफड़ों के लिए अत्यंत लाभकारी होता है। इसके छोटे-छोटे टुकड़े घी, खोवा और चीनी के साथ भूनकर खाने से शरीर शक्तिशाली हो जाता है।

बबूल का गोंद गर्मी के मौसम में एकत्रित किया जाता है। इसके तने में कहीं पर भी काट देने पर जो सफेद रंग का पदार्थ निकलता है। उसे गोंद कहा जाता है। यह बाज़ार में भी किसी भी दुकान पर सहजता से मिल जाता है। सामान्यतः गोंद का सेवन 5 से 10 ग्राम तक किया जा सकता है।

■   कमर दर्द का कारण और इसका परमानेंट इलाज, पुराने से पुराने दर्द में भी लाभकारी, जरूर पढ़ें

बबूल की गोंद के फायदे

Babool Ki Gond Ke Fayde Aur Labh In Hindi

1. कमर दर्द (Babool Ki Gond For Back Pain)

बबूल की छाल, फली और गोंद बराबर मिलाकर पीस लें, एक चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार सेवन करने से कमर दर्द में आराम मिलता है।

2. सिर दर्द  (Babool Ki Gond For Headache)

पानी में बबूल का गोंद घिसकर सिर पर लगाने से सिर का दर्द दूर हो जाता है।

3. मधुमेह (Babool Ki Gond For Diabetes)

3 ग्राम बबूल के गोंद का चूर्ण पानी के साथ या गाय के दूध के साथ दिन में 3 बार रोजाना सेवन करने से मधुमेह रोग में लाभ पहुंचता है।

■   मधुमेह या डायबिटीज के रोगियों के लिए किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं है यह पौधा

4. खांसी (Babool Ki Gond For Cough)

बबूल का गोंद मुंह में रखकर चूसने से खांसी ठीक हो जाती है।

5. जलने पर (Babool Ki Gond For Burn)

बबूल की गोंद को पानी में घोलकर शरीर के जले हुए भाग पर लगाने से जलन दूर हो जाती है।

6. अतिसार या दस्त (Babool Ki Gond For Diarrhea)

बबूल की गोंद को 3 ग्राम से लेकर 6 की मात्रा में दिन में सुबह और शाम पीने से 1 दिन में ही अतिसार में लाभ होने लगता है।

7. पेट और आँतो के घाव (Babool Ki Gond For Wound)

बबूल की गोंद पानी में घोलकर पीने से आमाशय (पेट) और आंतों के घाव तथा पीड़ा मिट जाती है।

■   हर तरह के घाव जल्दी भरने के 5 आसान उपाय और देसी नुस्खे

8. शक्तिवर्द्धक (Babool Ki Gond For Energy)

बबूल के गोंद को घी के साथ तलकर उसमें दुगुनी चीनी मिला देते हैं इसे रोजाना 20 ग्राम की मात्रा में लेने से शक्ति में वृद्धि होती है।

9. बवासीर (Babool Ki Gond For Piles Bawaseer)

बबूल का गोंद, कहरवा समई और गेरु 10-10 ग्राम लेकर पीसकर चूर्ण बना लें। इसके 1 से 2 ग्राम चूर्ण को गाय के दूध की छाछ (मट्ठा) में मिलाकर 2 से 3 सप्ताह तक पीयें। यह बादी बवासीर और खूनी बवासीर दोनों रोगों में लाभकारी होता है।

■   बवासीर में क्या खाएं और क्या ना खाएं इलाज और परहेज – Bawaseer (Piles) Diet Chart In Hindi
Loading...

Leave a Reply