ayush kadha

कोरोना वायरस (Coronavirus) से छुटकारा पाने के लिए विश्व स्तर पर सभी देश इसके वैक्सीन की खोज में लगे हुए हैं। भारत में भी वैक्सीन की खोज जारी है। अब तक के अध्ययन से यही सामने आया है कि कोरोना से बचाव के लिए लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक होना जरूरी है। इसके लिए आयुष मंत्रालय ने दिशानिर्देश भी जारी किया है और लोगों को रोक रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढ़ा पीने की सलाह दी है। आयुष मंत्रालय ने कहा की कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए अभी तक कोई दवा नहीं है और ना ही कोई वैक्सीन है, ऐसे में यह अच्छा होगा कि हम एहतियाती कदम उठाए जो इस वक्त रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए।

हर्बल काढ़ा

इसके लिए आयुष मंत्रालय ने कहा कि दिन में एक या दो बार हर्बल चाय तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सूखी अदरक और किशमिश का काढ़ा पीने की सलाह दी है इसके अलावा आयुष मंत्रालय ने कहा है कि सुबह और शाम दो बार नाक के दोनों नाथूनों में तील का तेल या घी लगाने जैसे कुछ आसान आयुर्वेदिक उपाय भी किए जा सकते हैं।

काढ़े को लेकर आयुष मंत्रालय का कहना है कि यह हर्बल काढ़े का सेवन करने से वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है उन्होंने कहा कि हर्बल काढ़ा में 4 औषधीय जड़ी बूटियों का समावेश किया गया है जो भारतीय रसोई में आसानी से उपलब्ध होती है।

आयुष काढ़ा रेसिपी

इस आयुष काढ़े को घर में आराम से बनाया जा सकता है जिसके लिए आपको इन चीजों की जरूरत होगी

तुलसी का पत्ता-4,

दालचीनी छाल-दो टुकड़े,

सोंठ -दो टुकड़े,

काली मिर्च -1,

मुनक्का-4।

काढ़ा बनाने की विधि

यह काढ़ा बनाने के लिए तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ और मुनक्का को एक साथ पानी में उबाल लें और छानकर इस पानी का सेवन करें, इस काढ़े का सेवन दिन में एक से दो बार कर सकते हैं। अगर इस काढ़े को पीने में स्वाद में कोई परेशानी आए तो आप इसमें गुड़िया या निंबू का रस मिला सकते हैं।

आयुष मंत्रालय ने सलाह दी है कि सूखी खांसी या गले में सूजन के लिए दिन में एक या दो बार पुदीने की ताजा पत्तियां अजवाइन के साथ ले सकते हैं। गले में खराश के लिए दिन में दो या तीन बार प्राकृतिक शक्कर या शहद के साथ लॉन्ग का पाउडर लेने के लिए भी आयुष मंत्रालय ने सलाह दी है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous article3 चीजों की कमी से पैरो पिंडलियों और तलवों में होता है दर्द | Foot leg pain Treatment
Next articleJoint Pain कमर दर्द Calcium की कमी कभी नहीं होने देगा मेथीदाना | इस तरह करें उपयोग

Leave a Reply