आयुर्वेद का नाम आप सभी ने खूब सुन रखा है। लेकिन बहुत कम लोग ही इसके बारे में अच्छी तरह जानते होंगे। आज हम आयुर्वेद के बारे में आप सभी को खुल कर बताते है। आयुर्वेद की खोज बहुत सालो पहले हुई थी आयुर्वेद का अर्थ मै आपको बताता हूँ। आयुर्वेद विश्व की सबसे पुरानी चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। आयुर्वेद को अथर्ववेद का उपवेद भी माना जाता है। आयुर्वेद में ज्ञान, विज्ञानं, कला और दर्शन का मिश्रण होता है। इसके नाम का अर्थ ही यही है।

■  एलर्जी का इलाज के 5 आसान घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे

चिकित्साशास्त्र के प्राचीन भारतीय ढंग को आयुर्वेद कहते हैं। वो लोग ऐसे ही इलाज़ करते थे लेकिन आज के युग में इसका महत्तव कम होता प्रतीत हो रहा है क्योकि इसके स्थान पर ऐलोपैथिक प्रणाली आ गई है हमारी भाषा में इसे डाक्टरी कहा गया है और कुछ हद तक ये सही भी है क्योंकी इससे जो रिजल्ट आपके सामने आता है वो आपको तुरंत ही दिख जाता है लेकिन एलोपैथिक आपकी बीमारी को जड़ से खत्म नहीं करती जबकि आयुर्वेद आपकी बीमारी को जड़ से खत्म करती है परन्तु इसका इलाज़ कुछ लम्बा चलता है।

आयुर्वेद का उद्देश्य:

आयुर्वेद का उद्देश्य ही यही रहता है या फिर ये कह लो की आयुर्वेद का प्रयोग हम स्वस्थ रहने के लिए करते है। ये आयुर्वेद ऐसा है की ये हमे रोगो से दूर रखता है।

स्वस्थ वक्तिओ के स्वास्थ्य की रक्षा करता है आयुर्वेद: इसके लिए आपको रोज़ाना अपने शरीर, अपने देश का चिंतन करना होगा और डेली आपको स्वस्थ भोजन करना होगा और व्यायाम, स्नान और भगवन की स्तुति करनी होगी आप जो भी कार्ये करे उसके लिए आपको अपना मन शांत और अपनी इन्द्रिओ को काबू में रखना होगा।

■  चेहरे पर दाने और फुंसी हटाने के 10 आसान उपाय और इलाज

रोगी व्यक्तियों के विकारों को दूर कर उन्हें स्वस्थ बनता है: आयुर्वेद जो रोगी मनुष्य होते है उनके रोगो को 100% दूर करता है अगर मनुष्य आयुर्वेद का सहारा लेले तो उसके अंदर जितने भी विकार है सब नष्ट हो जायेगे।

आयुर्वेद चिकित्सा में भी बहुत लाभकारी सिद्ध होता है: क्योकि आयुर्वेद की चिकित्सा विधि भी बहुत सर्वगुण सम्पन्न है। आयुर्वेद की चिकित्सा से मनुष्य का शारीरिक तथा मानसिक दोनों में सुधार होता है। आयुर्वेद औषधियों के अधिकतर घटक जड़ी बूटी, पोधो, फूलों या फलों से प्राप्त होती है।

आयुर्वेद चिकित्सा को प्रकृति के निकट भी माना जाता है।

साइड इफ़ेक्ट नहीं होता

अगर हम इस आयुर्वेद का इस्तेमाल करते है तो हमे इसका सही रिजल्ट ही मिलता है आमतौर पर देखा जाये तो इसका कोई भी दुष्प्रभाव यानि साइड-इफेक्ट देखने को नहीं मिलता।

■  ऑयली और ड्राई स्किन के लिए 5 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

राम बाण इलाज़

अनेको ऐसे रोग है जो की आपके सिर्फ और सिर्फ आयुर्वेद से ही दूर हो सकते है आयुर्वेद न केवल रोगों की चिकित्सा करता है बल्कि रोगों को रोकता भी है। ये सबसे अच्छा और राम बाण इलाज़ है।

जीर्ण रोगों में फलदायक

जीर्ण रोगों के लिए ये एक बहुत ही अच्छा और प्रभावकारी सिद्ध हुआ है अगर आप आयुर्वेद का सहारा लेते हो तो आप जल्द ही स्वास्थ्य को प्राप्त होते है। आयुर्वेद न केवल रोगों की चिकित्सा करता है बल्कि रोगों को रोकता भी है।

आयुर्वेद की चिकित्सा सस्ती और सरल होती है क्योकि इसमें जड़ी बूटी और मसाले काम में आते है इसीलिए ये आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है।

  जल्दी दाढ़ी और मूंछ बढ़ाने के 5 आसान तरीके और घरेलू उपाय
Loading...

Leave a Reply