आंवला चूर्ण खाने के फायदे इन हिंदी | आंवला चूर्ण बनाने की विधि | आंवला चूर्ण का सेवन कैसे करना है

आंवला चूर्ण का उपयोग आंवले के उपयोग का एक आसान तरीका है। आंवला विटामिन “सी ” से भरपूर होता हैं। इसका विटामिन “सी” चूर्ण से भी प्राप्त हो जाता है। आंवला शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है , बुढ़ापे को रोकता हैं व यौवन को बनाये रखने में सहायक होता है। आंवला मुरब्बा , आंवला केण्डी , आंवला जैम , आंवला सुपारी , आंवले का अचार , आंवले की लोंजी आदि आंवला उपयोग में लाने के अन्य विकल्प हैं। आंवले के चूर्ण का उपयोग पूरे साल किया जा सकता है। आंवला चूर्ण त्रिफला चूर्ण trifla churn बनाने में , बालो के लिए आँवले का तेल बनाने में भी काम में लिया जाता हैं।

आइये जानें आमला चूर्ण के फायदे, आंवला चूर्ण के नुकसान, आंवला चूर्ण और शहद, आमला चूर्ण खाने का तरीका, आंवला खाने के फायदे, आंवला और मिश्री के फायदे, आंवले का चूर्ण के फायदे, आंवला चूर्ण बनाने की विधि, सूखे अाँवले का गुण, आंवला के फायदे, Patanjali Amla Churna Powder in Hindi, पतंजलि आंवला चूर्ण पाउडर।
■  बवासीर के मस्से को जड़ से ख़तम करेगा यह प्रयोग, शरीर के अन्य मस्सों में भी है लाभकारी

आंवला चूर्ण बनाने की विधि – Avla Powder making

Avla Choorna banane Ki Vidhi – Avla Choorna Kaise Banaye In Hindi

# ताजे और दाग रहित आंवलो को पानी से धो लें। इन्हें एक घण्टे के लिए पानी में भिगो दें।

#  इन्हें दूसरे बर्तन में डालकर पकने तक पानी में उबाल लें।

# उबलने के बाद आंवलो को ठंडा होने के लिए छोड़ दें ।

# आँवले ठंडे होने पर फांक अलग कर लें और गुठली निकालकर फेंक दें ।

# आँवले की फांको को किसी प्लास्टिक शीट पर फैलाकर सूखने के लिए रख दें।

# तेज धूप में आठ-दस दिन सुखाए।

# जब आंवले अच्छी तरह सूख जाये तब इन्हें हमाम दस्ते में कूट कर छोटे छोटे टुकड़े कर लें।

# अब इन टुकड़ो को मिक्सी में एकदम बारीक़ पीस लें।

# पिसे हुए आँवले के पाउडर को बारीक छलनी से छान लें।

# छानने के बाद चलनी में जो मोटा आंवला पाउडर रह जाता है उसे वापस मिक्सी में डालकर पीस लें।

# छने हुए बारीक़ पाउडर को एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें।

# आंवला चूर्ण तैयार है। इसे जरूरत के अनुसार उपयोग में लें।

■  शरीर के ये लक्षण बताते हैं कि आप जानलेवा कैंसर के शिकार, इन्हे नज़रअंदाज़ करना यानी मौत को बुलाना

आंवला चूर्ण बनाते समय ध्यान रखने योग्य बातें

# आंवलो को कच्चा काटकर व सुखाकर भी आंवला चूरन बना सकते लेकिन उबालकर बनाना ज्यादा आसान होता है।

# आंवलो को अच्छी तरह सूखने दें ताकि लम्बे समय तक आंवला पाउडर खराब नहीं हो।

# सूखने के लिए आंवलो को फैलाकर सुखाए व रोज एक बार हाथ से थोड़ा उलट पलट कर लें।

# आंवला सूखने के बाद बहुत ही कड़क हो जाता है इसीलिए पहले हमाम दस्ते में कूटने के बाद ही मिक्सी में पिसे अन्यथा मिक्सी की ब्लेड टूट सकती हैं।

# बाजार में मसाले चक्की पर यदि आंवलो को पीसने की सुविधा हो तो बाजार में भी पिसवा सकते हैं।

# आंवलो को सुखाते समय मिट्टी व मक्खियों से बचाने के लिए बारीक़ कपड़े से ढक सकते है।

# आंवला चुरन एक साल तक उपयोग में लिया जा सकता हैं।

■  एक दिन में बस इसके 2 कप और सारा फैट स्वचालित रूप से पिघल जाएगा

आंवला के स्वास्थ सम्बन्धी फायदे

Health Benefits Of Avla (Gooseberry) In Hindi

Avla Ke Fayde Aur Labh In Hindi

1. आँखों से सम्बंधित बीमारी के लिए (Avla Benefits For Eyes In Hindi)

आंवला का रस आँखों के लिए बहुत फायदेमंद हैं. आंवला आँखों की दृष्टी को या ज्योति को बढाता हैं. मोतियाबिंद में, कलर ब्लाइंडनेस, रतोंधी या कम दिखाई पड़ता हो तो भी आंवला का जूस फायदेमंद हैं. आखों के दर्द में भी काफी फायदा होता हैं.

2. मेटाबोलिक क्रियाशीलता को बढाता एवं पाचनक्रिया में मदद (Avla Benefits For Metabolism In Hindi)

आंवला मेटाबोलिक क्रियाशीलता को बढाता हैं. मेटाबोलिज्म क्रियाशीलता से हमारा शरीर स्वस्थ और सुखी होता हैं. आवला भोजन को पचाने में बहुत मददगार साबित होता हैं खाने में अगर प्रतिदिन आवले की चटनी, मुरब्बा ,अचार ,रस, चूर्ण या चवनप्रास कैसे भी रोजमरा की जिन्दगी में शामिल करना चाहिए. इससे कब्ज की शिकायत दूर होती हैं पेट हल्का रहता हैं. रक्त की मात्रा में बढ़ोतरी होती हैं. खट्टे ढकार आना ,गैस का बनाना , भोजन का न पचना ,इत्यादि में आवला के ५ ग्राम पाउडर को पानी ,इ भिगों कर सुबह शाम ले. अम्लीय पित्त के बुरे प्रभाव से छुटकारा मिलता हैं.

3. डायबिटिक के लिए (Avla Benefits For Diabetes In Hindi)

आवला में क्रोमियम तत्व पाया जाता हैं जो डायबिटिक के उपयोगि होता हैं. आवला इंसुलिन होरमोंस को को सुदृढ़ करता हैं और खून में सुगर की मात्रा को नियंत्रित करता हैं. क्रोमियम बीटा ब्लॉकर के प्रभाव को कम करता हैं, जो की ह्रदय के लिए अच्छा होता हैं ह्रदय को स्वस्थ बनाता हैं.आवला खराब कोलेस्ट्रोल को ख़त्म कर अच्छे कोलेस्ट्रोल को बनाने में मदद करता हैं. आवला के रस में शहद मिलाकर लेने से डायबिटिक वालो को बहुत फायदा होता हैं.

4. म*हावारी में समस्या

महिलाओं में म*हावरी की समस्या आम होती जा रही हैं. मा*हवारी का देर से आना ,ज्यादा रक्तस्त्राव होना,जल्दी जल्दी आना,कम आना , पेट में दर्द का होना,ऐसी कई समस्यां होती रहती हैं.इन सबके लिए आवला का सेवन फायदेमंद होता हैं.आवला में मिनिरल्स ,विटामिन्स पाया जाता हैं जो महावारी में बहुत आराम दिलाता हैं.अगर आवला का सेवन नियमित किया जाये तो म*हावारी की समस्याओ से छुटकारा मिलता हैं .महिलाओं में प्र*जनन क्षमता को बढ़ाती हैं .

■  प्याज़ को हाथों पर रगड़ने से मिलेगा इन रोगों से जड़ से छुटकारा

5. प्र*जनन सम्बन्धी समश्याओं में लाभकारी

आंवला प्र*जनन के लिए बहुत ही उत्तम हैं महिलाओ और पुरुषो के लिए आंवला के सेवन से पुरुषो में शु*क्राणु की क्रियाशीलता और मात्रा बढती हैं और महिलाओं में अं*डाणु अच्छे और स्वस्थ बनते हैं, मा*हवारी नियमित हो जाती हैं.

6. हड्डियों के लिए उत्तम (Avla Benefits For Bones In Hindi)

आंवला के सेवन से हड्डियाँ मजबूत और ताकत मिलती हैं. आंवला के सेवन से ओस्ट्रोपोरोसिस और आर्थराइटिस एवं जोरो के दर्द में भी आराम दिलाती हैं.

7. तनाव से छुट्टी (Avla Benefits For Stress In Hindi)

आंवला के सेवन से तनाव में आराम मिलता हैं अच्छी नींद आती हैं.आवला के तेल को बालों के जड़ों में लगाया जाये तो कलर ब्लाइंडनेस से छुटकारा मिलता हैं.सर को ठडा रखता हैं.और राहत देता हैं.

8. संक्रमण से बचाव (Avla Benefits For Infection In Hindi)

आंवला में बक्टेरिया और फंगस से लड़ने की क्षमता होती हैं और ये बाहरी बीमारियों से भी हमें बचाती हैं. आंवला शरीर को पुष्ट कर उसे रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढाती हैं, और टोक्सिन को यानी विषाक्त प्रदार्थ को हमारे शरीर से निकलती देती हैं. आंवला अल्सर, अल्सरेटिव, कोलेटीस, पेट में संक्रमण ,जैसे विकार को खत्म करता हैं. आंवला का रस या पाउडर प्रतिदिन लेने से बहुत फायदा होता हैं.

9. मूत्र विकारो से छुटकारा दिलाता हैं (Avla Benefits For Urine Problems In Hindi)

मूत्र विकारों में आंवला का चूर्ण फायदा करता हैं. आंवला के छाल और इसकी पत्तीयों को पानी में उबाल कर छान ले और उसका सेवन करे बहुत फायदा होता हैं. किडनी में होने वाले संक्रमण को भी खत्म करता हैं. किडनी में होने वाले पत्थर से भी छुटकारा दिलाता हैं.

■  1 रूपये कीमत का यह पत्ता शुगर, पथरी ,घुटनों और जोड़ो के दर्द ,को हमेशा के लिए मिटा देगा..!!

10. वजन कम करने में (Avla Benefits For Weight Loss In Hindi)

आंवला के रस का सेवन करने से वजन कम करने में मदद मिलती हैं. आंवला हमारे मेटाबोलिज्म को तेज कर वजन कम करने में मदद करती हैं. आंवला के सेवन से भूख कम लगती हैं और काफी देर तक पेट भरा हुआ रहता हैं.

11. नकसीर के लिए

अगर किसी को नकसीर की तकलीफ हैं तो उन्हें आवला का सेवन करता फायदेमंद होता हैं.ताज़ा रस ३ ,४ चम्मच का सेवन करना चाहिए ,या १ ग्राम चूर्ण को ५० मिलिग्राम पानी के साथ लेना चाहिए.नाक से खून आने की आदत से आराम मिलता है.

12. ह्रदय की समस्या से उबारता हैं (Avla Benefits For Heart In Hindi)

आवला हमारे ह्रदय के मांसपेशियों के लिए उत्तम होता हैं.आमला हमारे ह्रदय को स्वस्थ बनाने में कारगर हैं.आंवला ह्रदय की नालिकाओ में होने वाली रुकावट को ख़त्म करता हैं.खराब कलेस्ट्रोल को ख़त्म कर अच्छे कलेस्ट्रोल को बनाने में मदद करता हैं..आवला में एंटी ऑक्सीडेंट तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं. जो शरीर में फ्री रेडिकल को बनाने ही नहीं देता .एंटी ऑक्सीडेंट के रूप में एमिनो एसिड और पेक्टिन पाए जाते हैं.जो की कलेस्ट्रोल को नहीं बनाने देता हैं और ह्रदय की मांशपेशियों को मजबूती देता हैं.आवला का रस प्रतिदिन सेवन करता लाभप्रद हैं.आवले को किसी भी रूप में आप ले सकते हैं.

13. उग्रता व उतेजना में शांति दिलाता हैं

आंवला के सेवन से हमेशा आने वाले उतेजना से शांति मिलती हैं,अचानक से पसीना आना ,गर्मी लगना ,धातु के रोग, प्रमेय ,प्रदर, बार बार कामुक विचार का आना इत्यादि चीजों से आराम दिलाता हैं.

14. बवासीर (Avla Benefits For Piles In Hindi)

आवले के रस से बवासीर ठीक हो जाता हैं.

15. कुष्ट रोग

आवला के रस का सेवन फायदेमंद होता हैं.

■  मात्र 2 मिनट के लिए लगातार अपने अंगूठें पर मारे फूंक, नहीं होगी कभी कोई बीमारी

16. उल्टी या वमन के लिए लाभकारी

आवला का पाउडर और शहद सेवन करें या आवला के रस में मिश्री मिलकर सेवन करने से उल्टियों का आना बंद हो जाता हैं.

17. रोग प्रतिरोध (Avla Benefits For Immunity In Hindi)

आंवले में एंटी ओक्सिडेंट होते हैं जो शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढाता है और ये मौसम में होने वाले बदलाव के कारन होने वाले वाइरल संक्रमण से भी बचाता है.

आंवला के बारे में कितना भी कहा जाये बहुत कम ही हैं. 100 रोगों की एक दवा हैं, आंवला को दो तरीके से खाते हैं ताज़ा और सूखा  आवला चूर्ण ,दोनों ही रूप में आंवला उतना ही फायदेमंद हैं. आंवला बसंत के मौसम में फलते हैं. आंवला का उपयोग सदियों से चला आ रहा हैं. सदियों पहले चरक ऋषि ने इसकी महत्ता बताई थी, आंवले के उपयोग से हम हमेशा जवान और सुंदर व स्वस्थ शरीर वाले होते हैं. आंवला सभी रोगों का अचूक औषधि हैं. आयुर्वेद में आंवला के उपयोग की महत्ता हैं. आंवला का रसायन भी बाज़ार में मिलता हैं. बाज़ार में आंवला का पाउडर ,चूर्ण ,सुखाया हुआ, आंवला का रस सभी प्रकार का उपलब्ध हैं. आवला का मुरब्बा स्वस्थ की दृष्टी से उत्तम हैं, इसे मौसम के चले जाने के बाद भी उपयोग में ला सकते हैं.पाउडर का उपयोग भी लाभप्रद होता हैं. आवला का अचार भी बहुत फायदे करता हैं, आंवला किसी भी रूप में उतना ही फायदा करता हैं जितना की ताज़ा .

■  पूरे शरीर में कहीं भी और कोई भी ब्लाक नस को खोलने का अचूक घरेलु उपाय

दोस्तों Amla-आंवला के फायदे गुण और नुकसान सेवन तरीका, आंवला रस के फायदे, amla juice benefits in hindi, आंवला रस के फायदे का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास मूत्र विकारों में आंवला का चूर्ण फायदा, Amla Churna Ke Fayde In Hindi, Amla gun fayde upyog in hindi के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply