cooking

हमारे घरों में जो भी आचार होता है उन सबमें इसीलिए मैथीदाना डाला जाता है और बाग़भट्ट जी ने बताया है कि जो भी मैथी दाने वाला आचार हम अपने घरों में खाते हैं वो आचार नही बल्कि औषधि है, दवा है आप अपने जीवन में ऐसा आचार खाने से कभी भी मना न करें जिसमे मैथी दाना हो चाहे किसी भी तरह का आचार हो आम का ,मिर्च,नींबू का जरुर खाएं

■  यूरिक ऐसिड बढ़ गया है, शरीर में जकड़न सी रहती है, हाथ पैर काम नही करते तो अपनाएँ इस घरेलु उपाय को

इसका कारण यह है की किसी भी फल या आचार पर फल और आचार से ज्यादा असर औषधि का होता है जैसे अगर आप आम का आचार डालते है तो उस पर आम से ज्यादा औषधि का असर होता है

और एक बात आचार में पड़ी हुयी मैथी का असर पानी में भिगोई हुयी मैथी से ज्यादा होता है वागभट्ट जी कहते है की अगर मैथी को तेल में भिगोकर आपने रख लिया तो उसकी शक्ति पानी में भीगी हुयी मैथी दाने की शक्ति से 20 गुना ज्यादा तक बढ़ जाएगी और आप सभी जानते है की आचार में सरसों का तेल भी होता है यानी आचार वाली मैथी की शक्ति आम मैथी से 20 गुना ज्यादा तक होती है

अगर कोई भी व्यक्ति वात और कफ के रोगों से पीड़ित है तो बेझिझक आचार खाएं. लेकिन मैथी पित्त को बढाती है इसलिए पित्त के रोगियों से प्रार्थना है की वे इसका उपयोग न करें पित्त के रोग हैं एसिडिटी, अल्सर, मुँह में पानी आना, खाने का हजम न होना, खाना खाने के बाद 2-3 घंटे तक खाने का स्वाद मुँह में रहना, डकार और हिचकी आना इत्यादि

■  रोज सुबह इसके सेवन से शारीरिक कमज़ोरी ख़त्म, खून बढ़ेगा, हाथ-पैरों की जलन, झुर्रियों को मिटा त्वचा..

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

मैथी का उपयोग करने का तरीका

बाग़भट्ट जी ने मैथी का उपयोग करने का तरीका बहुत ही सरल बताया है कि रात को एक चम्मच मैथी दाना एक गिलास गर्म पानी में डाल दें रात भर उसको रखें सुबह होने पर चबा चबाकर खाएं चबा चबाकर खाने का बहुत महत्व है कुछ लोग मैथी की फंकी लेते हैं पिस्सा हुवा मैथी की फंकी का इतना महत्त्व नही है जितना चबाकर खाई हुयी मैथी का है

मैथी को चबाकर खाने का महत्त्व

चबाकर मैथी खाने का महत्त्व ये है कि जैसे ही मैथी को चबाना शुरू करते हैं तो लार बननी बहुत तेजी से शुरू होती है क्यूंकि मैथी का स्वाद कटुक और कसाये है अगर इस स्वाद की कोई भी चीज हम खायेंगे तो मुँह में लार बनना बहुत तेजी से शुरू हो जाता है और वो लार हमारे जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण और उपयोगी है

■  एड़ी के असहनीय दर्द को भगाये चुटकियों में, बस आज़माएँ ये आसान सा घरेलू उपाय.!
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous article“सदा पानी गिलास में नहीं बल्कि लोटे से पीना स्वास्थप्रद है , क्यों ! जानिए “
Next articleडायबिटीज में भूल कर भी न खाएं ये 5 चीज़ें | Foods to avoid in Sugar
Loading...

Leave a Reply