पेड़ पर गुच्छों में लगने वाला आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है. इसके साथ ही इसमें कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है.
ये तो हम सभी जानते हैं कि आंवला त्वचा और बाल दोनों के लिए ही बहुत फायदेमंद होता है. बाजार में बिकने वाले ढ़ेराें ब्यूटी-प्रोडक्ट्स का ये मूल तत्व होता है लेकिन स्वास्थ्य से जुड़े इसके फायदों के बारे में आपको शायद ही पता हो.

आंवले के पोषक तत्वों के बारे में बात करें तो इसका कसैला-मीठा स्वाद, विटामिन सी और ए का बहुत अच्छा सोर्स होता है. इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है. हर रोज एक आंवला खाने से बाल तो अच्छे होते हैं ही साथ ही बढ़ती उम्र के असर भी कम नजर आते हैं. इतना ही नहीं इसके सेवन से एनीमिया भी होने का खतरा कम हो जाता है और स्मरण शक्ति बढ़ती है.

आंवले के 17 लाभ

1. आंवले का रस आंखों के लिए बहुत लाभकारी है। आंवला आंखों की ज्योति को बढ़ाता है।

2. आंवला शारीरिक क्रियाशीलता को बढ़ाता है। यह भोजन को पचाने में बहुत सहायता करता है। भोजन में प्रतिदिन आंवले की चटनी, मुरब्बा, अचार, रस चूर्ण आदि को शामिल करना चाहिये। इससे कब्ज की शिकायत दूर होती है, पेट हल्का रहता है, रक्त की मात्रा में वृद्धि होती है।

3. यह खून में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता है।

4. महिलाओं की समस्याओं के लिए बेहद लाभकारी माना गया है।

5. हड्डियों के लिए सर्वोत्तम औषधि है। आंवले के सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं।

6. आंवले के सेवन से तनाव में आराम मिलता है। नींद अच्छी आती है। आंवले का तेल सर को ठंडा रखता है।

7. आंवले का सेवन करने से बाह्य बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित होती है।

8. यह संक्रमण से बचाव करता है। शरीर में फंगस आदि बीमारियों से बचाव करता है। आंवला शरीर को पुष्ट करता है।

9. मूत्र विकारों से छुटकारा दिलाता है। मूत्र विकारों में आंवले का चूर्ण फायदा करता है। आंवले का छाल और उसका सेवन करें तो लाभ होता है।

10. आंवले के रस का सेवन करने से वजन कम करने में सहायता मिलती है।

11. अगर किसी को नकसीर की समस्या है तो आंवले का सेवन लाभकारी है।

12. आंवला हमारे हृदय की मांसपेशियों के लिये उत्तम होता है। यह नलिकाओं में होने वाली रूकावट को समाप्त करता है।

13. यह उग्रता व उत्तेजना से शांति दिलाता है। अचानक से पसीना आना, गर्मी लगना, धातु के रोग, प्रमेय, प्रदर आदि चीजों में आराम दिलाता है।

14. आंवले के रस से बवासीर ठीक हो जाता है।

15. कुष्ठ रोग में भी आंवले का रस फायदेमंद होता है।

16. आंवले का पाउडर और शहद का सेवन करें। आंवले के रस में मिश्री मिलाकर सेवन करने से उल्टियों का आना बंद हो जाता है।

17. आंवले में ऐंटीओक्सिडेंट होते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। ये मौसम के कारण होने वाले वाइरल संक्रमण से भी बचाता है।

आंवले के विषय में जितना भी कहा जाये कम है। कहा जाता है कि यह 100 रोगों की एक दवा है। आयुर्वेद में आंवला सभी रोगों की अचूक दवा मानी गयी है। यह किसी भी रूप में बेहद लाभकारी है चाहे अचार हो या फिर मुरब्बा। शीत में आंवले का सेवन सभी को करना चाहिये। सुबह प्रतिदिन खाली पेट दो आंवले खाने या रात में सोने से ठीक पहले एक चम्मच आंवले का चूर्ण एक घूंट पानी के साथ लेने का प्रभाव आप एक महीने में स्वयं महसूस करेंगे।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleनोनी जूस के फायदे
Next articleब्लैक टी, ग्रीन टी और हरितिकी में कोरोना से लड़ने की क्षमता, इनमें मौजूद केमिकल वायरस प्रोटीन नष्ट कर सकता है

Leave a Reply